अपना घर आश्रम में तीन की मौत बड़ी लापरवाही का संकेत, आश्रम और प्रशासन पर सवालिया निशान

कोटा के अपना घर का आश्रम में फूड प्वाइजनिंग से 3 की मौत । 15 अस्पताल में भर्ती ।
अपना घर आश्रम में तीन की मौत बड़ी लापरवाही का संकेत, आश्रम और प्रशासन पर सवालिया निशान

कोटा के पॉलीटेक्निकल कॉलेज के पुराने भवन में संचालित अपना घर आश्रम में मानसिक रूप से विक्षिप्त तीन लोगों की फूड प्वाइजनिंग से मौत हो गई है । 15 लोगों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

खाना खाने के बाद उल्टी और दस्त की शिकायत

जिला कलेक्टर ओपी बुनकर मे मीडिया को बताया कि 24 जुलाई रविवार को आश्रम में रहने वाले कुछ महिलाओं व पुरुषों ने खाना खाने के बाद उल्टी और दस्त की शिकायत की । इसके बाद पांच लोगों की हालत बिगड़ गई। उन्हें मेडिकल कॉलेज के नए अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान तीन लोगों की मौत हो गई । जबकि 15 लोगों का इलाज चल रहा है।

किसी ने लापरवाही नहीं की है । शाम को एक मानसिक विक्षिप्त व्यक्ति की तबीयत बिगड़ गई। जिन्हें समय पर अस्पताल ले जाया गया । इसके बाद रात में अन्य लोगों की भी तबीयत बिगड़ गई, जिन्हें भी अस्पताल ले जाया गया। हमारी 8 घंटे की शिफ्ट में हमेशा चिकित्सा सेवा के साथी होते हैं। ऐसी कोई लापरवाही नहीं बरती गई। भोजन भी सभी के द्वारा खाया गया था। अब यह प्रशासन की जांच के बाद स्पष्ट होगा।

नरेंद्र कुमार सिंह सेंगर, अध्यक्ष, अपना घर आश्रम

आश्रम में क्षमता से ज्यादा लोगों रह रहे

जिला कलेक्टर ओपी बुनकर ने इस बात को स्वीकार किया है कि आश्रम में क्षमता से ज्यादा लोगों रह रहे है । लेकिन उन्होने इस बात को भी स्वीकार किया कि सेवा के मामले में आश्रम में कोई कमी नहीं थी ।

मृतकों में मुन्नी बाई (37), सुदेवी (36) और दिलीप (56) शामिल हैं। घटना की सूचना मिलते ही जिला कलेक्टर ओपी बुनकर, एडीएम बृजमोहन बैरवा, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. विजय सरदाना, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. भूपेंद्र सिंह तंवर, सामाजिक न्याय अधिकारिता विभाग के उप निदेशक ओमप्रकाश मौके पर पहुंचे ।

जहा खाना बन रहा था। वहां गंदगी और मक्खियां मौजूद थीं, साथ ही खाना पकाने में बोरिंग का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। इस पूरे मामले की जांच रिपोर्ट तैयार कर जिलाधिकारी को सौंपेंगे।

डॉ. तंवर, सीएमएचओ

यहां आश्रितों को अच्छे तरीके से रखा जाता है- कलेक्टर

कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान आश्रम में साफ-सफाई की कोई कमी नहीं पाई गई । इससे पहले भी आश्रम में लापरवाही की कोई शिकायत भी सामने नहीं आई है। जिलाधिकारी ने कहा, यहां आश्रितों को अच्छे तरीके से रखा जाता है । इस प्रकार, प्रबंधन की ओर से लापरवाही की संभावना कम है। आश्रम में मौजूद राशन सामग्री को जब्त कर लिया गया है। इसकी जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com