देवा गुर्जर हत्याकांड का खुलासा, जमीनी विवाद और वसूली बना मौत का कारण

देवा गुर्जर हत्याकांड के मुख्य आरोपी बाबूलाल गुर्जर समेत 9 आरोपित पुलिस की हिरासत में हैं, जिनसे एसआईटी की टीम पूछताछ में जुटी है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि आरपीपी राजस्थान परमाणु ऊर्जा संयंत्र में वसूली किसके इशारे पर हो रही थी?
देवा गुर्जर हत्याकांड का खुलासा, जमीनी विवाद और वसूली बना मौत का कारण
देवा गुर्जर हत्याकांड का खुलासा, जमीनी विवाद और वसूली बना मौत का कारण

देवा गुर्जर हत्याकांड पर कोटा सिटी के एसपी केसर सिंह शेखावत ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि अब तक की जांच में पता चला है कि देवा आरपीपी में ठेकेदारों और आपूर्तिकर्ताओं से वसूली करता था, इस वसूली के कारण उसकी कई लोगों से दुश्मनी थी। वहीं देवा का जमीन का विवाद भी चल रहा था इसी विवाद के चलते बदमाशों ने देवा गुर्जर की हत्या कर दी थी। एसपी शेखावत ने बताया कि देवा गुर्जर रावतभाटा थाने का हिस्ट्रीशीटर था, जिस पर कई मामले दर्ज थे।

किसके सहारे से आरपीपी में वसूली?
गौरतलब है कि देवा गुर्जर हत्याकांड के मुख्य आरोपी बाबूलाल गुर्जर समेत 9 आरोपित पुलिस की हिरासत में हैं, जिनसे एसआईटी की टीम पूछताछ में जुटी है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि आरपीपी राजस्थान परमाणु ऊर्जा संयंत्र में वसूली किसके इशारे पर हो रही थी?

क्या था पुरा मामला?

रावतभाटा इलाके में रविवार की शाम 10-15 बदमाशों ने देवा की उस वक्त बेरहमी से हत्या कर दी, जब वह एक हेयर सैलून में बैठा था। तभी बदमाशों ने उस पर कुल्हाड़ी, डंडों से हमला करना शुरू कर दिया। कुल्हाड़ी के वार से देवा के फेफड़े और प्लीहा (Spleen) बुरी तरह घायल हो गया, लेकिन इसके बा बदमाश उस पर हमला करते रहे और कुछ ही समय में देवा ने अपनी सांस खो दी और अत्यधिक रक्तस्राव के कारण दर्दनाक मौत हो गई। देवा को कोटा के एमबीएस अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

देवा गुर्जर हत्याकांड का खुलासा, जमीनी विवाद और वसूली बना मौत का कारण
क्या राजस्थान में माहौल बिगड़ने की आशंका ! प्रशासन ने प्रतापगढ़, अलवर और डूंगरपुर जिलों में भी क्यों लगाई धारा 144 ॽ

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com