जयपुर में पहली बार हुआ ड्रोन शो:300 से ज्यादा ड्रोन से अलग-अलग बनाई आकृतियां

Rajasthan Police Cyber Hackathon 1.0: मौजूद तकनीकी युग में साइबर क्राइम खूब बढ़ रहा है। जागरुकता के अभाव में लोग इसके शिकार बन जाते है।
जयपुर में पहली बार हुआ ड्रोन शो:300 से ज्यादा ड्रोन से अलग-अलग बनाई आकृतियां
जयपुर में पहली बार हुआ ड्रोन शो:300 से ज्यादा ड्रोन से अलग-अलग बनाई आकृतियां

Rajasthan Police Cyber Hackathon 1.0: मौजूद तकनीकी युग में साइबर क्राइम खूब बढ़ रहा है। जागरुकता के अभाव में लोग इसके शिकार बन जाते है।

इस मुद्दें पर लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ साइबर क्राइम कंट्रोल करने वाले युवा एक्सपर्ट को एक मंच दिलाने के उद्देश्य से राजस्थान की राजधानी जयपुर में साइबर सुरक्षा पर दो दिवसीय साइबर हैकाथॉन 1.0 का आयोजन 17 जनवरी से प्रारंभ हुआ।

हैकाथॉन की शुरुआत से पहले जयपुर में पहली बार ड्रोन शो का आयोजन किया  जिसमें 300 से अधिक ड्रोन ने आसमान में भारत का नक्शा, राजस्थान पुलिस का प्रतीक चिह्न सहित कई आकृतियां उकेरी।

जयपुर में पहली बार हुए ड्रोन शो को देखने के लिए स्थानीय लोगों के साथ-साथ पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी पहुंचे थे। इस कार्यक्रम को देखने के लिए पुलिस मुख्यालय और जयपुर कमिश्नरेट के अधिकारी भी पहुंचे.

AI का सही इस्तेमाल भी बताया जाएगा

राजस्थान पुलिस पहली बार साइबर सुरक्षा पर 2 दिवसीय कार्यक्रम आयोजित कर रही है. इसमें 28 राज्यों के प्रतिभागी भाग ले रहे हैं।

डीजी साइबर डॉ. रवि प्रकाश मेहरड़ा ने बताया कि साइबर सुरक्षा क्षेत्र को नई ऊंचाइयों तक ले जाने, युवा और प्रतिभाशाली साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों को एक मंच उपलब्ध कराने के उद्देश्य से 17-18 जनवरी को राजस्थान पुलिस साइबर हैकाथॉन 1.0 आयोजित कर रही है। 

सभी प्रतिभागी हैकाथॉन के दौरान भविष्य की 12 चुनौतियों पर चर्चा कर हल निकालने का प्रयास करेंगे। इन चुनौतियों में पुलिस का फीडबैक सिस्टम विकसित करना, उन्हें एआई/एआर का प्रशिक्षण, कैमरे में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का उपयोग कर खुद फैसले लेने में सक्षम बनना, एफआईआर का एआई व मशीन प्रोग्रामिंग से एकदम सही अधिनियम एवं धाराएं लगाना शामिल हैं।

जयपुर में पहली बार हुआ ड्रोन शो:300 से ज्यादा ड्रोन से अलग-अलग बनाई आकृतियां
DG ने जारी किया गैर पुलिस को वर्दी पहनने और खरीदने के आदेश, RPS की वर्दी इतनी सस्ती कैसे हो गई ?

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com