प्रचंड गर्मी में सुकून देने वाली हवा ही बनी बिजली सप्लाई में आफत

विंड पावर उत्पादन के अचानक बंद होने से 2500 मेगावाट बिजली की सीधी कमी पैदा हो गई है। मौसम में बदलाव, बादल और बारिश से गर्मी से कुछ राहत मिलने के बाद मंगलवार को बिजली की मांग में 1500 मेगावाट की कमी आई
प्रचंड गर्मी में सुकून देने वाली हवा ही बनी बिजली सप्लाई में आफत
प्रचंड गर्मी में सुकून देने वाली हवा ही बनी बिजली सप्लाई में आफत

देशभर में बिजली संकट छाया हुआ है और इस संकट के बीच राजस्थान के हालात और भी खराब हैं। बिजली संकट इतना गहरा गया है कि पुरा प्रदेश अंधेरे के आगोश में समा सकता है कई बिजलीघरों में अलग-अलग कारणों से पांच युनिट बंद हैं। इससे बिजली उत्पादन प्रभावित हो रहा है। विंड मिल से पिछले 2-3 दिनों से सप्लाई हो रही 2500-2600 मेगावाट बिजली आज अचानक घटकर 100 मेगावाट रह गई है। पवन ऊर्जा आपूर्ति से पिछले कुछ दिनों से राहत मिली थी, लेकिन हवा की गति कम होने से अचानक आपूर्ति ठप हो गई है।

बिजली की मांग 14 हजार मेगावाट के पार
विंड पावर उत्पादन के अचानक बंद होने से 2500 मेगावाट बिजली की सीधी कमी पैदा हो गई है। मौसम में बदलाव, बादल और बारिश से गर्मी से कुछ राहत मिलने के बाद मंगलवार को बिजली की मांग में 1500 मेगावाट की कमी आई। इसलिए उद्योग और कृषि को छोड़कर कोई बिजली कटौती नहीं हुई। अब बिजली की अधिकतम मांग फिर से 14 हजार मेगावाट के ऊपर जा सकती है। इसलिए कटौती शुरू हो गई है।

बिजली की भारी कमी से 1.52 उपभोक्ता प्रभावित

राज्य में बिजली की भारी कमी से 1.52 करोड़ बिजली उपभोक्ता प्रभावित होंगे। जिसमें करीब 1 करोड़ 19 लाख घरेलू उपभोक्ता हैं। इनमें से वाणिज्यिक 14 लाख, औद्योगिक 3.54 लाख उपभोक्ता हैं। कृषि में करीब 15.41 लाख बिजली कनेक्शन हैं।

कौनसे सेक्टर में कितनी बिजली कटौती?
बता दे कि बिजली संकट बने रहने तक ग्रामीण इलाकों में 6 से 8 घंटे तक बिजली कटौती हो सकती है। कृषि के लिए 4-4 घंटे के स्लॉट में बिजली आपूर्ति जारी रखी जा सकती है। उद्योग द्वारा बिजली को 8 घंटे तक सीमित रखने की संभावना है। वहीं, घरेलू और वाणिज्यिक उपभोक्ताओं को 4 घंटे तक बिजली कटौती का सामना करना पड़ सकता है। आपातकालीन और आवश्यक सेवाओं को बिजली कटौती से छूट दी जाएगी।

बंद हो रहे पावर प्लांट्स

वहीं कालीसिंध थर्मल पावर प्लांट की दूसरी 600 मेगावाट की सुपर क्रिटिकल इकाई तकनीकी कारणों से ठप पड़ी है। कालीसिंध की एक और इकाई पहले से बंद है। इसके साथ ही अब विभिन्न पावर प्लांट्स की ठप पड़ी इकाइयों की संख्या बढ़कर 5 हो गई है। वहीं, 1720 मेगावाट क्षमता के 4 विभिन्न थर्मल पावर प्लांट्स तकनीकी कारणों से पहले ही बंद हैं। इस तरह सरकारी थर्मल पावर के 2320 मेगावाट और पवन ऊर्जा के 2500 मेगावाट के उत्पादन में कमी के कारण 4820 मेगावाट की कमी हुई है।

कोयले की कमी कारण बंद हो रही पावर यूनिट
इनके अलावा, बारां जिले के कवाई में अदाणी के बिजली संयंत्र में कोयले की कमी के कारण 660 मेगावाट की एक सुपरक्रिटिकल थर्मल पावर यूनिट में बिजली उत्पादन भी ठप हो गया है। अडानी पावर प्लांट से राजस्थान को ठेके पर बिजली मिलती है

राजस्थान को इस महीने के अंत में मिलेगा कोयला

बिजली की कमी के चलते मार्च 2022 में सीएम गहलोत ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री से परसा कोल माइंस से राजस्थान के खनन की मंजूरी के लिए मुलाकात की थी। तो उन्होंने कहा था कि राजस्थान को मदद नहीं मिली तो ब्लैकआउट हो सकता है। 4500 मेगावाट के थर्मल पावर प्लांट ठप हो सकते हैं। उसके बाद छत्तीसगढ़ सरकार ने खनन की मंजूरी दे दी, लेकिन उत्पादन शुरू होने और कोयला राजस्थान तक पहुंचने में इस महीने के अंत तक का समय लग सकता है।

प्रचंड गर्मी में सुकून देने वाली हवा ही बनी बिजली सप्लाई में आफत
पहले ही दिन LIC के IPO में लोगो ने दिखाया इंटरेस्ट, इतने करोड़ की लगी बोली

Related Stories

No stories found.