Rajasthan: पूर्व सांसद कर्णसिंह यादव, पूर्व विधायकों समेत सैंकड़ों नेताओं ने थामा भाजपा का दामन

Rajasthan News: पीएम मोदी का कांग्रेस मुक्त भारत का सपना साकार हो रहा है। प्राय: हर प्रांत में कांग्रेस समेत विपक्षी नेता भाजपा ज्वाइन कर रहे हैं। राजस्थान में भी फिर सैंकड़ों ने भाजपा ज्वाइन की।
Rajasthan: पूर्व सांसद कर्णसिंह यादव, पूर्व विधायकों समेत सैंकड़ों नेताओं ने थामा भाजपा का दामन

Rajasthan Big News: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रीति और नीतियों से प्रभावित होकर उनके नेतृत्व में राष्ट्रनिर्माण के लिए कंधे से कंधा मिलाकर काम करने का संकल्प लेते हुए विभिन्न राजनीतिक दलों से आए पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, प्रधान, जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्यों के साथ सरपंच और कार्यकर्ताओं ने शनिवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय में भाजपा का दामन थामा।

भाजपा ज्वाइनिंग कमेटी के संयोजक अरुण चतुर्वेदी, पूर्व नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ और चुनाव प्रबंधन कमेटी के संयोजक नारायण पंचारिया की उपस्थिति में सैंकड़ों नेताओं ने भाजपा ज्वाइन की। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी ने नेताओं को भाजपा का दुपट्टा पहनाकर सदस्यता ग्रहण करवाई।

इन प्रमुख नेताओं ने थामा बीजेपी का दामन

पूर्व लोकसभा सांसद और पूर्व विधायक डॉ. कर्णसिंह यादव, चूरू से पूर्व सांसद प्रत्याशी प्रताप पूनियां, पूर्व विधायक सुरेश टांक, रामलाल मेघवाल, महेंद्र सिंह गुर्जर, परम नवदीप, पूखराज गर्ग, बलवान यादव, पूर्व विधायक एवं जिला प्रमुख सुशीला पलाडा, व्यवसायी भंवर सिंह पलाडा, अलवर जिला प्रमुख बलबीर छिल्लर, विश्वजीत सिंह चंपावत, सुजानगढ़ के आरएलपी प्रत्याशी बाबूलाल कुलदीप, भादरा से निर्दलीय प्रत्याशी बजरंग सारण, भादरा प्रधान अनिल ओलख, पूर्व प्रधान राजीव कस्वा, रामस्वरूप मील, सीकर लक्ष्मणगढ से बसपा प्रत्याशी महेश मूंड, भरतपुर नगर निगम के पूर्व उप महापौर गिरीश चौधरी, भरतपुर के पूर्व जिला प्रमुख लीलावती सिंह, कोटा विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. बीएल वर्मा के साथ कई प्रधान, सरपंच और पार्षदों ने कार्यकर्ताओं के साथ भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

कांग्रेस की परिस्थितियां निराशाजनक : डॉ. यादव

पूर्व सांसद और पूर्व विधायक डॉ. कर्णसिंह यादव ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद कहा कि कांग्रेस की परिस्थितियां आज निराशाजनक है। कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व आज नशे में है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष यात्रा कर रहे है, उन्हें पार्टी के भीतर क्या हो रहा है इसका तक मालूम नहीं है। यहां प्रदेश का शीर्ष नेतृत्व का कोई आकलन नहीं है।

अलवर का नेतृत्व तो राजप्रसादों में कैद है। कांग्रेस की ऐसी परिस्थितियों में लोगों का दम घुट रहा था। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भगवा दुपट्टा धारण करने के लिए हर कोई तैयार है। भाजपा जैसी मजबूत पार्टी को हम सभी अधिक मजबूत बनाएंगे और राजस्थान की 25 की 25 सीटों के साथ ही अलवर लोकसभा सीट पर अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज करवाएंगे।