Rajasthan: BJP जीती तो मोदी, शाह और नड्डा के लिए शुरू हो जाएगा सबसे बड़ा इम्तिहान?

Rajasthan Election 2023: राजस्थान की सत्ता में अगर बीजेपी आती है, तो यूपी फॉर्मूला लागू कर सकती है। 2017 में यूपी की सत्ता में आने के बाद बीजेपी ने एक मुख्यमंत्री के साथ 2 डिप्टी सीएम बनाया था।
Rajasthan: BJP जीती तो मोदी, शाह और नड्डा के लिए शुरू हो जाएगा सबसे बड़ा इम्तिहान?

Rajasthan Assembly Election 2023: एग्जिट पोल सर्वे की मानें तो इस बार भी परंपरा के हिसाब से राजस्थान में राज बदलने जा रहा है। एबीपी-सी वोटर के एग्जिट पोल समेत कई एजेंसियों के पोल में बीजेपी को स्पष्ट बहुमत मिलता दिख रहा है। एग्जिट पोल के मुताबिक भाजपा को 94-114 सीटें मिल सकती है। राज्य में बहुमत के लिए 100 सीटों की जरूरत है। 5 राज्यों के चुनाव में राजस्थान, मध्यप्रदेश ऐसे राज्य है, जहां बीजेपी की सरकार बनती दिख रही है।

राजस्थान में बीजेपी को बहुमत मिला या सरकार बनी तो मुख्यमंत्री का चयन पार्टी हाईकमान के लिए आसान नहीं रहने वाला है। राजस्थान में बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री पद के लिए कम से कम 5 बड़े दावेदार हैं। ऐसे में पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा के सामने इम्तिहान की घड़ी होगी।

बीजेपी में सीएम दावेदार

(1) वसुंधरा राजे- भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे 2 बार राजस्थान की मुख्यमंत्री रही हैं। वसुंधरा राजे की राह में एक बड़ा रोड़ा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेताओं की नाराजगी को भी माना जा रहा है। हालांकि अगर वसुंधरा 50 विधायकों का समर्थन चुनाव बाद जुटा लेती हैं, तो उन्हें इग्नोर करना हाईकमान को भारी पड़ सकता है।

(2) दीया कुमारी- राजघराने के ताल्लुक रखने वालीं राजसमंद से सांसद दीया कुमारी को प्रधानमंत्री मोदी का भरोसेमंद माना जाता है। राजपूत चेहरा होने की वजह से दीया के नाम रेस में सबसे आगे है। हालांकि उन्हें मुख्यमंत्री बनाने की वजह से जाट और गुर्जर वोटर नाराज हो सकते हैं।

(3) अर्जुन राम मेघवाल- राजस्थान बीजेपी के भीतर अर्जुन राम मेघवाल को सीएम पद के लिए डार्क हॉर्स के रूप में देखा जा रहा है। मेघवाल वर्तमान में मोदी कैबिनेट में मंत्री हैं और उन्हें प्रधानमंत्री का काफी करीबी माना जाता है।

(4) ओम बिरला- लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के नाम की भी चर्चा जोरों पर है। बिरला राजस्थान बीजेपी का निर्विवाद चेहरा हैं। बिरला पर राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ का वरदहस्त भी है।

ये भी हैं दावेदार

इन 4 नामों के अलावा सतीश पूनियां, राजेंद्र राठौड़, बाबा बालकनाथ और गजेंद्र सिंह शेखावत भी सीएम पद के दावेदार हैं।

1 सीएम और 2 डिप्टी सीएम फॉर्मूले की चर्चा

राजस्थान की सत्ता में अगर बीजेपी आती है, तो उत्तर प्रदेश का फॉर्मूला लागू कर सकती है। 2017 में यूपी की सत्ता में आने के बाद बीजेपी ने एक मुख्यमंत्री के साथ 2 डिप्टी सीएम बनाया था। राजस्थान में भी इसी तरह से बीजेपी सत्ता के समीकरण को साध सकती है।

सियासी गलियारों में कहा जा रहा है कि इस फॉर्मूले से पार्टी 3 जातियों को एक साथ साधने की रणनीति पर काम कर रही है। राजनीति रूप से राजस्थान में जाट, गुर्जर, मीणा, राजपूत, ब्राह्मण और दलित मुखर है।

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com