Rajasthan: घर बैठे मिलेगी पशु चिकित्सा सुविधा, एक कॉल पर पशुपालकों के घर पहुंचेगी ‘वेटनरी यूनिट’

Rajasthan News: राजस्थान को मिली 536 मोबाइल वेटरनरी वेन की सौगात। मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने शनिवार को वेटरनरी इकाइयों को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना।
Rajasthan: घर बैठे मिलेगी पशु चिकित्सा सुविधा, एक कॉल पर पशुपालकों के घर पहुंचेगी ‘वेटनरी यूनिट’

Mobile Veterinary Van Facility in Rajasthan: प्रदेश में पशुपालकों को अब घर बैठे पशु चिकित्सा सेवाओं का लाभ मिल सकेगा। शनिवार को मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने ओटीएस स्थित अपने निवास से प्रदेश में चलने वाली 536 मोबाइल वेटरनरी इकाइयों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस कार्यक्रम में सीएम के अलावा पशुपालन मंत्री जोराराम कुमावत, सांसद सुखवीर सिंह जौनपुरिया, सांसद रामचरण बोहरा, विधायक गोपाल शर्मा, बालमुकुन्दाचार्य आदि मौजूद रहे।

केंद्र सरकार के सहयोग से राज्य सरकार की ओर से 536 मोबाइल वेटेरनरी इकाइयों को चलाया जाएगा जिससे अब पशुपालकों को घर बैठे पशु चिकित्सा सेवाओं का लाभ मिल पाएगा। इसके अलावा प्रदेश के पशुओं के इलाज के लिए पशुपालकों को अब जिला मुख्यालय के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इस योजना के तहत 1962 टोल फ्री नंबर पर फोन कर मोबाइल वेटरनरी यूनिट्स की सुविधा घर बैठे ली जा सकती है।

मोदी जी की एक ओर गारंटी साकार : सीएम

इस मौके पर सीएम भजनलाल शर्मा ने कहा कि सुशासन को समर्पित हमारी सरकार ने मोदी जी की एक ओर गारंटी को साकार करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि पशुधन का ध्यान रखना हमारा धर्म है व प्राणी मात्र की सेवा करना हमारे संस्कार है ऐसे में भारतीय संस्कृति के इन्हीं महान मूल्यों का अनुसरण करते हुए आज ‘स्वस्थ पशुधन-उन्नत राजस्थान’ की संकल्पना की सिद्धि हेतु मोबाइल वेटरिनरी क्लिनिक वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया है।

उन्होंने कहा कि नए राजस्थान में अब 1962 नंबर पर किए एक कॉल पर पशुधन के लिए सीधा पहुंचेगी जहां मोबाइल वेटरिनरी क्लिनिक वैन ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया’ के भाव के साथ हमारी सरकार गौवंश व पशुधन के संरक्षण एवं संवर्धन हेतु वचनबद्ध है। सीएम ने कहा कि इससे 1600 कर्मचारियों को रोजगार भी मिलेगा।

घर पर होगा पशुओं का इलाज

केंद्र सरकार की ओर से प्रदेश के पशुपालकों को घर बैठे इलाज की सुविधा देने के लिए मोबाइल वेटनरी यूनिट की सुविधा शुरू की गई है, जहां पशुपालकों को उनके घर के द्वार पर ही इलाज की सुविधा मिलेगी। वहीं इन वाहनों को पूरी तरह से मेडिकल सुविधायुक्त बनाया गया है. वहीं पशुपालकों के एक कॉल पर गाड़ी उनके घर पहुंच जाएगी। सरकार ने 108 एम्बुलेंस की तर्ज पर पशुपालकों के लिए यह व्यवस्था शुरू की है। इन मोबाइल पशु चिकित्सा यूनिट में कुल 3 लोग मौजूद रहेंगे जहां एक पशु चिकित्सक, 1 पशु चिकित्सा कर्मी और 1 ड्राइवर रहेगा। फिलहाल प्रदेशभर में कुल 536 मोबाइल वेटरनरी यूनिट संचालित की जाएंगी।

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com