जल पे राजस्थान में रार, मंत्री महेश जोशी की शेखावत से टकरार पर डोटासरा का प्रहार... विपक्ष के जवाब का इंतजार
जल पे राजस्थान में रार, मंत्री महेश जोशी की शेखावत से टकरार पर डोटासरा का प्रहार... विपक्ष के जवाब का इंतजार

जल पे राजस्थान में रार, मंत्री महेश जोशी की शेखावत से टकरार पर डोटासरा का प्रहार... विपक्ष के जवाब का इंतजार

घटना के बाद पीएम मोदी का एक पुराना वीडियो भी चर्चा में आया है, जिसको राजस्थान कांग्रेस के twitter अकाउंट से शेयर किया गया है । जिसे पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा ने retweet कर जवाब दिया । रघुकुल रीत, सदा चली आई प्राण जाए पर, वचन न जाई ! गजेंद्र जी अपना वचन निभाओ और राजनीति से सन्यास लो

जलजीवन मिशन पर जयपुर में हो रहे 9 राज्यों के क्षेत्रीय सम्मेलन में पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) के मुद्दे पर केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और राजस्थान के जल संसाधन मंत्री महेश जोशी आपस में भिड़ गए। जोशी ने पीएम मोदी को किए गए वादे की याद दिलाते हुए ईआरसीपी को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने की मांग की थी।

बयान के बाद कांग्रेस ने शेयर किया पीएम मोदी का पुराना वीडियो
इस पर केंद्रीय जल शक्ति मंत्री शेखावत ने जोशी को टोका और यहां तक कहा कि अगर पीएम ने अजमेर दौरे पर राष्ट्रीय परियोजना घोषणा पर एक शब्द भी कहा है, तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा, नहीं तो आप और आपके मुख्यमंत्री को राजनीति छोड़ देनी चाहिए। इस घटना के बाद पीएम मोदी का एक पुराना वीडियो भी चर्चा में आया है, जिसको राजस्थान कांग्रेस के twitter अकाउंट से शेयर किया गया है । जिसे पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा ने retweet कर जवाब दिया । रघुकुल रीत, सदा चली आई प्राण जाए पर, वचन न जाई ! गजेंद्र जी अपना वचन निभाओ और राजनीति से सन्यास लो।

मोदी के वीडियो में क्या है?

अक्टूबर 2018 में विधानसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता के दिन अपने भाषण के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ईआरसीपी पर लगभग 2:30 मिनट तक बात की। बैठक में उन्होंने ईआरसीपी को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने का स्पष्ट वादा नहीं किया लेकिन संकेत दिए है।

स्पष्ट रुप से नही किया वादा

उस बैठक में गजेंद्र सिंह शेखावत भी मौजूद थे। पीएम ने पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना का जिक्र किया। इंदिरा गांधी नहर परियोजना के बाद राजस्थान में कोई बड़ी सिंचाई और पेयजल परियोजना नहीं रखी गई। पूर्वी नहर की मांग लंबे समय से उठ रही थी। जुलाई में जब मैं जयपुर आया था तब भी मैंने इसका जिक्र किया था।

परियोजना से जुड़े सभी पहलुओं पर विचार के बाद लेगें फैसला

मोदी ने कहा था कि भारत सरकार अपना तकनीकी अध्ययन बहुत गंभीरता से करवा रही है। इस परियोजना से जुड़े सभी पहलुओं पर विचार करने के बाद हम पूरी संवेदनशीलता के साथ कोई फैसला लेंगे। चंबल बेसिन पर आधारित इस परियोजना से 2 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र को सिंचाई की सुविधा मिलेगी और 13 जिलों को स्वच्छ पेयजल मिलेगा।

जल पे राजस्थान में रार, मंत्री महेश जोशी की शेखावत से टकरार पर डोटासरा का प्रहार... विपक्ष के जवाब का इंतजार
जल संकट निपटाने की सभा में बयानी जलजला,जल शक्ति मंत्री ने कहा PM के ईस्टर्न कैनाल को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने की बात गलत‚ सही हुआ तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा

Related Stories

No stories found.