प्रत्यर्पण संधि को रद्द करने पर चीन ने UK के फैसले का किया विरोध

लंदन में चीनी दूतावास के एक प्रवक्ता ने कहा कि हाल ही में UK ने हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र HKSAR द्वारा चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पर बार-बार गलत टिप्पणी की
प्रत्यर्पण संधि को रद्द करने पर चीन ने UK के फैसले का किया विरोध

डेस्क न्यूज  – चीन ने हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र (HKSAR) के साथ प्रत्यर्पण संधि को निलंबित करने के यूनाइटेड किंगडम (UK) के फैसले की निंदा की और दृढ़ता से विरोध जताया। लंदन में चीनी दूतावास के एक प्रवक्ता ने कहा कि हाल ही में UK ने हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र HKSAR द्वारा चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पर बार-बार गलत टिप्पणी की है। चीन द्वारा हांगकांग पर नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाये जाने के बाद यूके ने सोमवार को हांगकांग के साथ अपनी प्रत्यर्पण संधि को निलंबित कर दिया था। इसके बाद चीन का ये बयान आया है।

file photo
file photo

UK के बाद और देश भी कर सकते है प्रत्यपर्ण संधि निलंबित

यूके के  विदेश मंत्री डोमिनिक राब  ने कहा कि चीजें अब पहले की तरह नहीं हो सकती, अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया भी हांगकांग के साथ प्रत्यपर्ण संधि निलंबित कर सकते है।

बार-बार चीन के फैसले की  अवहेलना

चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने कहा, "अब ब्रिटेन का पक्ष चीन की गंभीर स्थिति में दखल दे रहा हैं और बार-बार चीन के फैसले की  अवहेलना कर रहा हैं। एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय कानून और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को नियंत्रित करने वाले बुनियादी मानदंडों और कार्यान्वयन को बाधित करने के प्रयास में चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने वाले बुनियादी मानदंडों को रद्द कर दिया है।" प्रवक्ता ने कहा कि HKSAR के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून और शहर की समृद्धि और स्थिरता को कमजोर करता है।

चीन ने यूके के साथ हूए समझौते को तोड़ा

एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, लंदन में चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने कहा कि हाल ही में यूके ने एचकेएसएआर के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पर गलत टिप्पणी की है और चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है।

हॉन्गकॉन्ग के मुद्दे को लेकर यूनाइटेड किंगडम चीन के साथ प्रत्यर्पण संबंधों को विच्छेद करने वाला पहला देश नहीं है। पिछले महीने, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हांगकांग के राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को पारित करने के लिए चीन की आलोचना की और कहा कि यह एक 'त्रासदी' थी। उन्होंने कहा कि चीन ने हांगकांग के लोगों को स्वायत्तता का आश्वासन देने के अपने शब्द को तोड़ दिया।

विवाद है क्या

1997 में जब हांगकांग को  यूके ने चीन के हवाले किया गया था तब बीजिंग ने एक देश-दो व्यवस्था की अवधारणा के तहत कम से कम 2047 तक लोगों की स्वतंत्रता और अपनी कानूनी व्यवस्था को बनाए रखने की गारंटी दी थी। विरोध एक ऐसे मुद्दे के रूप में विकसित हो रहा था कि मुख्य भूमि चीन हांगकांग के नागरिकों की विशिष्ट पहचान को नष्ट करने की कोशिश कर रहा है। और वंहा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पारित कर दिया।

Like and Follow us on :

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com