महानवमी पर रामनवमी की दे दी बधाई, सपा अध्यक्ष अखिलेश समेत तमाम नेता हुए ट्रोल

शारदीय नवरात्रि का आखिरी दिन आज देशभर में महानवमी मनाई जा रही है, लेकिन इसको लेकर भी कोई भ्रम नहीं है। कई लोग इस दिन रामनवमी की बधाई भी दे रहे हैं। इसमें कांग्रेस और बीजेपी नेताओं समेत समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव भी शामिल थे।
महानवमी पर रामनवमी की दे दी बधाई, सपा अध्यक्ष अखिलेश समेत  तमाम नेता हुए ट्रोल

शारदीय नवरात्रि का आखिरी दिन आज देशभर में महानवमी मनाई जा रही है, लेकिन इसको लेकर भी कोई भ्रम नहीं है। कई लोग इस दिन रामनवमी की बधाई भी दे रहे हैं। इसमें कांग्रेस और बीजेपी नेताओं समेत समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव भी शामिल थे। इन नेताओं ने जब ट्विटर और फेसबुक पर रामनवमी की बधाई दी तो लोगों ने उन्हें ट्रोल कर दिया।

उत्तर प्रदेश भाजपा नेता देवेंद्र शर्मा ने भी फेसबुक पर रामनवमी की बधाई दी। बाद में उन्होंने महानवमी की शुभकामनाएं दीं, लेकिन पिछली पोस्ट को नहीं हटाया।

रामनवमी और महानवमी के बीच अंतर

हिन्दू पंचांग के अनुसार रामनवमी चैत्र मास के शुक्ल पक्ष में आती है। इसी दिन भगवान राम का जन्म हुआ था। राम नवमी के साथ चैत्र नवरात्र का समापन। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह त्योहार मार्च-अप्रैल में पड़ता है। वहीं शारदीय नवरात्रि में महावनमी आती है। इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। उन्हें दुर्गा माता का नौवां अवतार कहा जाता है, जिन्होंने महिषासुर का वध किया था। भगवान राम ने महानवमी के अगले दिन रावध का वध किया, जिसे दशहरा या विजयादशमी के रूप में मनाया जाता है।

बीजेपी ने लिया अखिलेश को निशाने पर

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता समीर सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव से क्या उम्मीद की जा सकती है। वह उस पार्टी से थे जिसने कारसेवकों पर गोलियां चलाई थीं। उनका हिंदुत्व सिर्फ एक दिखावा है। उनसे यही उम्मीद की जा सकती है। यह स्पष्ट हो गया है कि रामनवमी और महानवमी के बीच का अंतर भी उन्हें स्पष्ट नहीं है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com