बिहार के पूर्व सीएम बोले – राम कोई महापुरुष थे, मैं नहीं मानता, इधर यूपी में राजा मिहिर भोज पर घमासान जारी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने एक बार फिर विवादित बयान देते हुए भगवान राम के अस्तित्व पर सवाल उठाया है. मांझी ने कहा कि राम महापुरुष थे, हम ऐसा नहीं मानते। उनके इस बयान पर बीजेपी ने कड़ी आपत्ति जताई है. वहीं दूसरी ओर यूपी में राजा मिहिर भोज की जाति को लेकर बवाल हो गया है.
बिहार के पूर्व सीएम बोले – राम कोई महापुरुष थे, मैं नहीं मानता, इधर यूपी में राजा मिहिर भोज पर घमासान जारी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने एक बार फिर विवादित बयान देते हुए भगवान राम के अस्तित्व पर सवाल उठाया है. मांझी ने कहा कि राम महापुरुष थे, हम ऐसा नहीं मानते। उनके इस बयान पर बीजेपी ने कड़ी आपत्ति जताई है. वहीं दूसरी ओर यूपी में राजा मिहिर भोज की जाति को लेकर बवाल हो गया है.

मांझी ने कहा- मैं नहीं मानता कि भगवान श्री राम जीवित या महापुरुष थे

दरअसल, मध्य प्रदेश के स्कूली पाठ्यक्रम में रामचरितमानस को शामिल करने के बाद बिहार भाजपा नेताओं ने भी रामायण को पाठ्यक्रम में शामिल करने की मांग की थी. जिसके बाद मांझी ने यह कमेंट किया। मांझी ने कहा- 'मैं नहीं मानता कि भगवान श्री राम जीवित या महापुरुष थे। लेकिन रामायण में जो बातें बताई गई हैं वो सीखने वाली हैं.

मांझी ने आगे कहा कि रामायण को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए ताकि लोग इससे सीख सकें. जीतन राम मांझी ने रामायण को पाठ्यक्रम में शामिल करने का विरोध नहीं किया, लेकिन राम के अस्तित्व पर सवाल उठाकर वह भाजपा के निशाने पर जरूर आ गए हैं। इस बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया और मांझी का नाम लिए बगैर इसे बेवकूफ तक कह दिया.

इस बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया 

बिहार बीजेपी के प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने ट्वीट कर कहा कि जिस दिन हम राम और रामायण को समझेंगे, उसी दिन गलतफहमी खत्म हो जाएगी. राम के अस्तित्व को किसी ने नकारा नहीं है। पुरातत्व विभाग की खुदाई में अयोध्या राम जन्मभूमि के प्रमाण भी मिले हैं। नासा ने राम सेतु के अस्तित्व को माना है। राम को काल्पनिक कहने वालों को रामायण का पूरा अध्ययन करना चाहिए।

राजा मिहिर की जाति को लेकर गुर्जर और राजपूत समाज आमने-सामने हो गये है

वहीं दूसरी तरफ यूपी में राजा मिहिर भोज की जाति को लेकर राज्य में बवाल हो गया है. सीएम योगी आज गौतमबुद्धनगर के दादरी में राजा मिहिर की प्रतिमा का अनावरण किया. यहां राजा मिहिर की जाति को लेकर गुर्जर और राजपूत समाज आमने-सामने हो गये है। गुर्जर समाज जहां मिहिर भोज को अपना बता रहा है वहीं राजपूत समाज के लोग राजा को अपनी जाति बता रहे हैं.

विधानसभा चुनाव से पहले राजा मिहिर की प्रतिमा के जरिए माना जा रहा है कि बीजेपी गुर्जर वोट बटोरने की कोशिश कर रही है. इसके लिए खुद सीएम योगी भी नोएडा आ रहे हैं. विरोध को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com