अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिली प्रियंका, गहलोत सरकार से मुआवजा दिलाने की घोषणा, आगरा पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को आगरा पुलिस की हिरासत में मारे गए अरुण वाल्मीकि के घर पहुंचीं। आधे घंटे से अधिक समय तक वहां रहने के बाद उन्होंने राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला बोला।
अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिली प्रियंका, गहलोत सरकार से मुआवजा दिलाने की घोषणा, आगरा पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

डेस्क न्यूज़- कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को आगरा पुलिस की हिरासत में मारे गए अरुण वाल्मीकि के घर पहुंचीं। आधे घंटे से अधिक समय तक वहां रहने के बाद उन्होंने राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला बोला। थाने में अरुण वाल्मीकि की पुलिस हिरासत में मौत के बाद राज्य की सियासत गरमा गई है। राज्य सरकार ने पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को आगरा जाने से रोका और बाद में कुछ शर्तों के साथ ही उन्हें आगरा जाने की अनुमति दी। प्रियंका गांधी ने कहा कि अरुण को इलेक्ट्रिक शॉट देकर मारा गया। वहीं योगी सरकार ने अरुण के परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा और उनकी पत्नी को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है।

गहलोत सरकार से मुआवजे की मांग

प्रियंका गांधी ने कहा कि अरुण का परिवार भरतपुर का है और वह गहलोत सरकार से मुआवजे की मांग करेंगी। उन्होंने बताया कि परिजनों ने बताया कि वाल्मीकि समाज के करीब 17 से 18 लोगों को पुलिस ने उनके परिवार से उठाकर बेरहमी से पीटा। वहीं, अरुण की थाने में पुलिस हिरासत में मौत हो गई। प्रियंका गांधी ने दावा किया है कि अरुण की पत्नी ने उन्हें बताया कि पुलिसकर्मियों ने महिलाओं को भी पीटा है। दूसरी ओर, प्रियंका गांधी का दावा है कि अरुण की पत्नी ने उन्हें बताया कि उनके पति को बिजली का झटका दिया गया है।

पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

प्रियंका गांधी की परिवार से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि अरुण के परिवार का आरोप है कि वह अरुण से दो बजे मिले थे और दो बजे पुलिसकर्मियों ने सूचना दी कि अरुण की मौत हो गई है। वहीं, पोस्टमार्टम में परिवार का एक भी सदस्य मौजूद नहीं था, पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी परिवार को नहीं सौंपी गई है। फिलहाल प्रियंका गांधी ने भी परिवार का हवाला देते हुए पुलिस पर कई आरोप लगाए हैं। उसने बताया कि अरुण के भाई को कुछ तहरीर दिखायी गयी थी, जबरन दस्तखत किये गये हैं, जबकि भाई पढ़ना-लिखना नहीं जानता।

प्रियंका गांधी ने दावा किया है कि पुलिस ने अरुण के घर को पूरी तरह से तहस नहसकर दिया है और घर के पलंग भी तोड़ दिए हैं, अलमारियां तोड़ दी गई हैं। उसी अलमारी से सारे कपड़े बाहर फेंक दिए गए और अरुण ने अपनी बहन की शादी के लिए जो सामान घर में रखा था, वह पुलिस वाले ले गए।

दिल दौरा पड़ने से हुई मौत- आगरा पुलिस

उधर, आरोपों से घिरे आगरा पुलिस के एसएसपी मुनिराज ने बताया है कि अरुण के खिलाफ कानून के तहत ही कार्रवाई की गई। उन्होंने कहा कि एनएचआरसी की गाइडलाइंस के मुताबिक शव का ज्यादातर पोस्टमॉर्टम डॉक्टरों के पैनल ने किया है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक मौत का कारण हार्ट अटैक है। फिलहाल आगे की जांच जारी है।

प्रियंका के साथ सेल्फी लेने पर पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई

लखनऊ में कांग्रेस महासचिव के साथ सेल्फी लेने वाली महिला पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वहीं प्रियंका गांधी इस मामले में महिला पुलिसकर्मियों के पक्ष में आ गई हैं। प्रियंका गांधी ने कहा कि मेरे साथ सेल्फी लेने वाली महिला पुलिसकर्मियों का भविष्य खराब करने से क्या हासिल होगा? मैंने अपनी खुशी के साथ उनके साथ एक सेल्फी खिंचवाई और इसमें गलत क्या है। उसका करियर बर्बाद हो जाएगा, उसके घर में बच्चे हैं, वह अपने परिवार के लिए कम आती है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com