बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया: पहली बार अशोक गहलोत को पार्टी के भीतर और बाहर चुनौती मिली है

राजस्थान में कांग्रेस की ऐतिहासिक हार होगी। जिसके कारण खुद अशोक गहलोत और उनकी जनविरोधी नीतियां होंगी।
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया: पहली बार अशोक गहलोत को पार्टी के भीतर और बाहर चुनौती मिली है
सतीश पूनिया ने कहा- CM ने तीन कारणों से ऐसा बयान दिया है। पहला- कांग्रेस के मुक्त होने की बौखलाहट है। इसलिए उन्हें आशंका है। दूसरा- उन्हें खुद की पार्टी के भीतर और बाहर पहली बार चुनौती मिली है।

राजस्थान में करौली हिंसा के बाद राजनीती और तेज गर्मा गयी है। कांग्रेस और बीजेपी के सभी दिग्गज नेता अपने - अपने अनुसार टिका टिपणी कर रहे है। गौरतलब है की आजादी गौरव यात्रा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी पर निशाना साधा था। वही राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा अशोक गहलोत को अपनी कुर्सी जाने का डर सता रहा है। बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा पहली बार उनको अपनी पार्टी के भीतर और बाहर चुनौती मिली है।

पूनिया ने कहा- मैं गहलोत के बयानों को सुनता आ रहा हूं। जिस तरीके की बौखलाहट, निराशा उनमें है। जिस भाषा में वह देश के लिए आशंका जताते हैं। मोदीजी को कोसने वाले मुख्यमंत्री भूल जाते हैं कि देश और राजस्थान में 55 साल तक कांग्रेस को शासन करने का मौका मिला था। इस देश में अराजककता भ्रष्टाचार, जातिवाद, महंगाई, वोट बैंक, तुष्टिकरण की जनक कांग्रेस है। देश के विभाजन, आपातकाल, सिख दंगों की दोषी कांग्रेस है। इन तमाम बातों से कांग्रेस कठघरे में है। देश की जनता ने कांग्रेस को नीतियों और व्यवहार से नकार दिया है।

इन तमाम बातों से कांग्रेस कठघरे में है। देश की जनता ने कांग्रेस को नीतियों और व्यवहार से नकार दिया है।
इन तमाम बातों से कांग्रेस कठघरे में है। देश की जनता ने कांग्रेस को नीतियों और व्यवहार से नकार दिया है।

उन्हें अपनी कुर्सी के जाने की असुरक्षा है: पूनिया

इसलिए अशोक गहलोत की गुड मॉर्निंग बीजेपी नेताओं, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्रीय संघसेवक संघ सब पर रोजाना झूठे और तथ्यहीन आरोप लगाने से होती है l पूनिया ने कहा गहलोत को इस बात का अभी से अहसास हो चुका है कि 2023 में राजस्थान में कांग्रेस की ऐतिहासिक हार होगी। जिसके कारण खुद अशोक गहलोत और उनकी जनविरोधी नीतियां होंगी।

सतीश पूनिया ने कहा- CM ने तीन कारणों से ऐसा बयान दिया है। पहला- कांग्रेस के मुक्त होने की बौखलाहट है। इसलिए उन्हें आशंका है। दूसरा- उन्हें खुद की पार्टी के भीतर और बाहर पहली बार चुनौती मिली है। इसलिए उनके चेहरे के हाव भाव से असुरक्षा दिखती है। तीसरा- उन्हें अपनी कुर्सी के जाने की असुरक्षा है।

Related Stories

No stories found.