कुलदीप यादव की तारीफ़ से क्यों इतने ख़फ़ा हुए थे अश्विन कि क्रिकेट छोड़ने की ठान बैठे थे

विराट कोहली और BCCI के बीच क्रिकेट कंट्रोवर्सी अभी खत्म भी नहीं हुई है और इसी बीच नया विवाद शुरू हो गया है। भारत के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने पूर्व कोच रवि शास्त्री पर एक पुराने बयान को लेकर सवाल खड़ा कर दिया है।
कुलदीप यादव की तारीफ़ से क्यों इतने ख़फ़ा हुए थे अश्विन कि क्रिकेट छोड़ने की ठान बैठे थे

कुलदीप यादव की तारीफ़ से ख़फ़ा हुए थे अश्विन, बोले- टूट गया था, रिटायरमेंट की सोचता था

Image By : Dainik Bhaskar

विराट कोहली और BCCI के बीच क्रिकेट कंट्रोवर्सी अभी खत्म भी नहीं हुई है और इसी बीच नया विवाद शुरू हो गया है। भारत के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने पूर्व कोच रवि शास्त्री पर एक पुराने बयान को लेकर सवाल खड़ा कर दिया है।

दरअसल, रवि शास्त्री ने 2018 में ऑस्ट्रेलिया सीरीज के दौरान कुलदीप यादव को भारत का नंबर 1 स्पिनर करार दिया था।

इस बयान पर रविचंद्रन अश्विन ने जताई नाराज़गी

अब इस बयान पर रविचंद्रन अश्विन ने अफ़सोस ज़ाहिर किया है। अश्विन ने मंगलवार को कहा कि, "2018 के दौरे पर मेरे साथ अनदेखी हुई थी। तब मुझे ऐसा महसूस हुआ की मैं बुरी तरह कुचल दिया गया हूँ, किसी ने मुझे बस क नीचे फेंक दिया हो।

उस समय मैं खुद को टीम से अनजान पा रहा था। ऐसा लग रहा था कि मुझे अलग - थलग कर दिया हो और अकेला छोड़ दिया गया है।

वह समय मेरे करियर का इतना बुरा वक्त था कि मैं कई बार रिटायरमेंट के बारे में भी सोचता था।" दरअसल, 2018 के दौरे के दौरान सिडनी टेस्ट में कुलदीप यादव ने पहली पारी में कुल 5 विकेट लिए थे।

जिसके बाद कोच रवि शास्त्री ने कहा था कि कुलदीप भारत के नंबर वन स्पिनर हैं। शास्त्री ने कहा था कि हर किसी का समय आता है। कुलदीप के इस बेहतर प्रदर्शन के बाद तो यहां तक कहा जाने लगा था कि अश्विन सिर्फ भारतीय पिचों पर गेंदबाजी करने के लिए बने हैं।

रविचंद्रन अश्विन ने शास्त्री के बयान से टूटने का बताया कारण
टेस्ट में 427 विकेट ले चुके अश्विन ने ईएसपीएन क्रिकइंफो को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि, "मैं रवि भाई का बहुत सम्मान करता हूँ और सिर्फ मैं नहीं बल्कि हम सब करते है। मेरा मानना है कि हम कुछ बाते कहते है और फिर उन्हें वापस ले लेते है। लेकिन उस पल माझे बहुत आहत महसूस हुआ और मैंने खुद को बहुत टुटा हुआ पाया। हालांकि, मैं कुलदीप के लिए खुश था। क्योंकि मुझे पता है कि यह कितनी बड़ी उपलब्धि है। मैं तो एक पारी में 5 विकेट नहीं ले पाया हूँ, लेकिन उसने यह बड़ी उपलब्धि हासिल की है।"
<div class="paragraphs"><p>रविचंद्रन अश्विन with कुलदीप यादव</p></div>

रविचंद्रन अश्विन with कुलदीप यादव

Image By : PTI / BCCI

खुद का काफी आहत महसूस करने लगा था...

अश्विन ने आगे कहा कि, "ऑस्ट्रेलिया में इतनी बड़ी जीत हासिल करना वैसे ही काफी खुशी भरा था, लेकिन मुझे ऐसा महसूस करवाया गया कि मैं विदेश की सरजमीं पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकता।

मुझे सब ने अकेला छोड़ दिया, तो फिर मैं टीम या टीम साथी की सफलता की पार्टी को कैसे एन्जॉय कर पाता ? मैं पार्टी छोड़कर अपने कमरे में चला गया और वहां जाकर पत्नी से बात की। उसके बाद मैं पार्टी में भी गया, क्योंकि हमने आखिरकार एक बड़ी जीत हासिल की थी।"

मैं जितना ट्राई करता, चीजें हो रही थी उतनी ही मुश्किल...

अश्विन बोले कि, " 2018 और 2020 के बीच का ऐसा दौर था, जब मैंने कई बार क्रिकेट से संन्यास लेने के बारे में सोचा। उस समय ऐसा महसूस होता था कि मैं काफी कोशिश कर रहा हूँ, बावजूद इसके सफल नहीं हो रहा हूँ। 6 गेंद डालता था और साँसे फूल जाती थी।

मेरी बॉडी में भी काफी दर्द होने लगा था। जब घुटने का दर्द तेज़ होता, तो अगली गेंद पर मेरा जम्प भी कम हो जाता था। जब मैं जंपिंग कम करने लगा, तो शोल्डर्स और पीठ के जरिए मुझे अधिक ज़ोर लगाना पड़ता था।

फिर बार बार ऐसा करने से मैं खुद को ओर भी ज्यादा तकलीफ़ में डाल देता था। यह ऐसा समय था, जब लगाने लगा था कि अब मुझे इस खेल से ब्रेक ले लेना चाहिए।"

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

<div class="paragraphs"><p>कुलदीप यादव की तारीफ़ से ख़फ़ा हुए थे अश्विन, बोले- टूट गया था, रिटायरमेंट की सोचता था</p></div>
Cricket : Virat Kohli और Rohit Sharma के बिना श्रीलंका दौरे पर जाएगी Team India

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com