भारत के बेटे ने खोजा लीथियम बैटरियों का विकल्प, नहीं होंगी ब्लास्ट, पर्यावरण के लिए भी फायदेमंद

लीथियम की उपलब्धता भारत में कम है और विदेश से मंगवाने में दिक्कतें आती हैं। वहीं कैल्शियम, मैग्निशियम व जिंक देश में आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं।
भारत के बेटे ने खोजा लीथियम बैटरियों का विकल्प, नहीं होंगी ब्लास्ट, पर्यावरण के लिए भी फायदेमंद

IIT जोधपुर ने अपनी एक रिसर्च से इलेक्ट्रिक व्हीकल की बैटरियों में लीथियम का विकल्प दिया है। उनके मुताबिक लीथियम की बजाय कैल्शियम, मैग्नीशियम व जिंक का उपयोग हो तो वाहन ईको फ्रेंडली होगा इसके साथ कई और फायदें भी होंगे।

लीथियम बैटरियों के ईको फ्रेंडली होने पर उठे सवाल

सोसायटी ऑफ रेयर अर्थ ने इलेक्ट्रिक कारों को ईको फ्रेंडली मानें जाने पर सावाल खड़ा कर दिया है। सोसायटी की रिसर्च की मानें तो इन कारों की बैटरी में लीथियम, निकिल व कोबाल्ट उपयोग लिया जाता है। इन्हें जमीन से निकालते समय इनके साथ एसिड कचरा व रेडियोएक्टिव अवशेष भी निकलते है। जिससे पर्यावरण को नुकसान होता है साथ ही उच्च तापमान में बैटरियों के ब्लास्ट होने का भी खतरा होता है।

IIT जोधपुर के प्रोफेसर ने ढूंढा लीथियम बैटरियों का विकल्प

आईआईटी जोधपुर के केमिस्ट्री विभाग के प्रोफेसर डॉ. राकेश शर्मा ने लीथियम बैटरियों का विकल्प ढूंढा है। यह बैटरियां पर्यावरण के लिए भी फायदेमंद होंगी साथ ही उच्च तापमान में इनके ब्लास्ट होने का खतरा भी नहीं होगा।

भारत में लीथियम की कमी के कारण ढूंढा विकल्प

उनकी यह रिसर्च अमेरिकन केमिकल सोसायटी के जनरल एनर्जी एंड फ्यूल्स के कवर पेज प्रकाशित हुई है। अपनी रिसर्च में उन्होंने बताया कि लीथियम की उपलब्धता भारत में कम है और विदेश से मंगवाने में दिक्कतें आती हैं। वहीं कैल्शियम, मैग्निशियम व जिंक देश में आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। इनसे बनी बैटरियों की कीमत लीथियम बेस्ड बैटरी से करीब 100 गुणा कम होगी। इन बैटरियों के ब्लास्ट होने का खतरा भी नहीं रहेगा।

भारत के बेटे ने खोजा लीथियम बैटरियों का विकल्प, नहीं होंगी ब्लास्ट, पर्यावरण के लिए भी फायदेमंद
अकबर ने 19 साल की युवती को कार में खींचा, रेप की कोशिश, राजस्थान का मामला

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com