उत्तराखंड के ये भाई-बहन दुनिया के सबसे बड़े जलवायु सम्मेलन में हिस्सा लेने स्कॉटलैंड जाएंगे

अल्मोड़ा के जन्मेजय तिवारी और नैनीताल उच्च न्यायालय की अधिवक्ता स्निग्धा तिवारी भी 31 अक्टूबर से स्कॉटलैंड में होने वाले संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन (कॉप 26) में भाग लेंगे।
उत्तराखंड के ये भाई-बहन दुनिया के सबसे बड़े जलवायु सम्मेलन में हिस्सा लेने स्कॉटलैंड जाएंगे

अल्मोड़ा के जन्मेजय तिवारी और नैनीताल उच्च न्यायालय की अधिवक्ता स्निग्धा तिवारी भी 31 अक्टूबर से स्कॉटलैंड में होने वाले संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन (कॉप 26) में भाग लेंगे।

यूएनएफसीसीसी ने किया पंजीकृत

दोनों भाई-बहन 29 अक्टूबर को दिल्ली से रवाना होंगे। दोनों को संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (यूएनएफसीसीसी) द्वारा इस वैश्विक सम्मेलन में प्रतिनिधि के रूप में पंजीकृत किया गया है।

पीएम मोदी समेत इन देशों के प्रधानमंत्री होंगे शामिल

31 अक्टूबर से 12 नवंबर तक स्कॉटलैंड के ग्लासगो शहर में होने वाले इस सम्मेलन में दुनिया के 197 देशों के राष्ट्राध्यक्ष, जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में काम करने वाले संगठन आदि शामिल होंगे. इसमें भारत के प्रधानमंत्री, अमेरिका, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री भी शामिल होने वाले हैं।

जन्मेजय और स्निग्धा उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के संघ अध्यक्ष पीसी तिवारी और स्वर्गीय मंजू तिवारी के बेटे और बेटी हैं। इन दोनों को सम्मेलन के दौरान जलवायु परिवर्तन, पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाले संगठनों के साथ अपने कार्य अनुभव साझा करने के लिए नामित किया गया है।

अपनी अध्ययन रिपोर्ट पेश करेंगी स्निग्धा

स्निग्धा 8 नवंबर को यूके के हाउस ऑफ लॉर्ड्स की एक वरिष्ठ सदस्य नताली बेनेट की अध्यक्षता में होने वाली एक महत्वपूर्ण बैठक में प्राकृतिक आपदाओं और हिमालयी क्षेत्रों के अनियोजित विकास पर अपनी अध्ययन रिपोर्ट पेश करेंगी। जन्मेजय भी इसी दिन जलवायु आंदोलन पर स्थानीय स्तर पर सामुदायिक संगठन की महत्ता पर मेंबर ऑफ यूरोपियन पार्लियामेंट के साथ चर्चा में शामिल रहेंगे

कई वैश्विक सम्मेलनों में भाग ले चुके हैं जन्मेजय

10 नवंबर को, ग्लोबल साउथ जलवायु परिवर्तन संकट से निपटने के लिए ग्लोबल नॉर्थ के बीच साझेदारी पर स्कॉटिश संसद के सदस्यों की अध्यक्षता में एक सत्र में बोलेगा। स्निग्धा तिवारी को एशिया प्रशांत क्षेत्र के देशों की ओर से ग्लोबल ग्रीन के प्रतिनिधि के रूप में चुना गया है। जनमेजय ने स्वीडन, ताइवान, लिवरपूल में कई वैश्विक सम्मेलनों में भाग लिया है।

Related Stories

No stories found.