उत्तर प्रदेश में बसपा और भाजपा को अखिलेश का बड़ा झटका, 7 बागी विधायको ने थामा सपा का हाथ

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को बसपा और भाजपा को झटका दिया है। बसपा के 6 बागी विधायक लखनऊ सपा मुख्यालय पहुंचे और बीजेपी का एक विधायक सपा में शामिल हो गया। अखिलेश यादव ने सभी बागी विधायकों को पार्टी की सदस्यता दिलाई।
Photo | ANI
Photo | ANI

डेस्क न्यूज़- सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को बसपा और भाजपा को झटका दिया है। बसपा के 6 बागी विधायक लखनऊ सपा मुख्यालय पहुंचे और बीजेपी का एक विधायक सपा में शामिल हो गया। अखिलेश यादव ने सभी बागी विधायकों को पार्टी की सदस्यता दिलाई। इस दौरान अखिलेश ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला। बीजेपी के एक विधायक से जुड़ने के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री बीजेपी पार्टी का नारा बदल देंगे। मेरा परिवार भाजपा परिवार की जगह नारा बदल के नाम होगा मेरा परिवार भागता परिवार रख देंगे। अखिलेश ने कहा कि भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में किए वादों को पूरा नहीं किया। समाजवादियों का मानना ​​है कि जो कांग्रेस है वह भाजपा है, जो भाजपा है वह कांग्रेस है।

20 साल बाद मलिक की वापसी

चार बार विधायक रहे और एक बार राज्यसभा सदस्य रहे हरेंद्र मलिक करीब 20 साल बाद शुक्रवार को लखनऊ में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में समाजवादी पार्टी में शामिल हुए। उनके साथ दो बार के पूर्व विधायक पंकज मलिक, चरथावल जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख हैदर और जिले के बड़ी संख्या में कांग्रेसी पार्टी छोड़कर सपा में शामिल हो गए। पार्टी में शामिल होने के मौके पर हरेंद्र मलिक ने अपने संबोधन में कांग्रेस को बंजर जमीन और सपा को उपजाऊ जमीन की उपमा दी।

सपा को समर्थन देने वाले नेता

सर्व समाज एकता दल के प्रदेश अध्यक्ष जयपाल सिंह कश्यप ने शुक्रवार को सपा को अपना पूरा समर्थन देने का ऐलान किया। गोवर्धन मथुरा के पूर्व प्रमुख विनोद चौधरी और लखनऊ के कांग्रेस प्रवक्ता अब्बास हैदर आज कांग्रेस छोड़कर समाजवादी पार्टी के सदस्य बन गए। बसपा को छोड़कर मुजफ्फरनगर लोकसभा जिले के पूर्व उम्मीदवार हैदर और बलरामपुर से पूर्व विधायक राम सागर अकेला भी समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए।

नेशनल वाटर लाइन्स रिवोल्यूशन पार्टी के अध्यक्ष ज्ञानेंद्र निषाद, नेशनल पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र साहनी, सर्वजन समता पार्टी के अध्यक्ष आदेश कश्यप, अभय समाज पार्टी के अध्यक्ष पुरुषोत्तम निषाद, अखंड जलवंशीय सेना के अध्यक्ष अजय कश्यप और उम्मेद सिंह कश्यप एकलव्य सेना के, समिति के कश्यप तुरैहा रामेश्वर दयाल, केवट सेना के बबलू बिंद, जलवंशीय समिति के जितेंद्र निषाद, निषाद मल्लाह समिति के शंकर निषाद, निषाद सेना के मुकेश निषाद और आजमगढ़ सेवा संस्थान के संजय निषाद ने भी समाजवादी को अपना समर्थन देने की घोषणा की।