गहलोत के नए कैबिनेट में किसे कौन सा पद मिला , पढ़िए किसने खोया विभाग तो किसका रहा बरक़रार

गहलोत कैबिनेट में फेरबदल के बाद सोमवार दोपहर मंत्रियों के विभागों का बंटवारा हो गया है। पिछली कैबिनेट में गोविंद सिंह डोटासरा के पास रहा शिक्षा विभाग बीडी कल्ला को इस बार दिया गया है। रघु शर्मा के के पास रहा स्वास्थ्य विभाग परसादीलाल मीणा को दिया गया है। शांति धारीवाल के साथ यूडीएच, संसदीय कार्य, कानूनी समेत तमाम विभागों को पहले की तरह बरकरार रखा गया है।
गहलोत के नए कैबिनेट में किसे कौन सा पद  मिला , पढ़िए किसने खोया विभाग तो किसका रहा बरक़रार

गहलोत कैबिनेट में फेरबदल के बाद सोमवार दोपहर मंत्रियों के विभागों का बंटवारा हो गया है। पिछली कैबिनेट में गोविंद सिंह डोटासरा के पास रहा शिक्षा विभाग बीडी कल्ला को इस बार दिया गया है। रघु शर्मा के के पास रहा स्वास्थ्य विभाग परसादीलाल मीणा को दिया गया है। शांति धारीवाल के साथ यूडीएच, संसदीय कार्य, कानूनी समेत तमाम विभागों को पहले की तरह बरकरार रखा गया है। विभाग के संभाग में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहले की तरह 10 विभाग अपने पास रखे हैं। इनमें वित्त, कराधान, गृह एवं न्याय, कार्मिक, आईटी, सामान्य प्रशासन, कैबिनेट सचिवालय, एनआरआई, राजस्थान राज्य जांच ब्यूरो और सूचना जनसंपर्क विभाग शामिल हैं।

कौन सा विभाग किसे मिला ?

1. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत: वित्त और कराधान, गृह और न्याय, कार्मिक विभाग, सामान्य प्रशासन विभाग, कैबिनेट सचिवालय, एनआरआई, आईटी और संचार, सूचना और जनसंपर्क
2. बी.डी. कल्ला: शिक्षा, संस्कृत शिक्षा, कला और संस्कृति और एएसआई
3. शांति धारीवाल: स्वायत्त शासन, शहरी विकास और आवास, कानून, चुनाव
4. परसादी लाल मीणा : चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, उत्पाद शुल्क
5. लालचंद कटारिया : कृषि एवं पशुपालन एवं मत्स्य पालन
6. प्रमोद जैन भाया : खान एवं पेट्रोलियम एवं पशुपालन विभाग
7. उदय लाल अंजना : सहकारिता विभाग
8. प्रताप सिंह खाचरियावास : खाद्य एवं आपूर्ति विभाग
9. सालेह मोहम्मद : अल्पसंख्यक कार्य विभाग
10. हेमाराम चौधरी: वन एवं पर्यावरण मंत्री
11. महेंद्रजीत सिंह मालवीय : जल संसाधन विभाग
12. महेश जोशी : पीएचईडी विभाग
13. रामलाल जाट: राजस्व विभाग
14. रमेश मीणा: पंचायती राज और ग्रामीण
15. विश्वेंद्र सिंह: पर्यटन विभाग
16. ममता भूपेश : महिला एवं बाल विकास विभाग
17. भजनलाल जाटव : लोक निर्माण विभाग
18. टीकाराम जूली: सामाजिक सुरक्षा विभाग
19. गोविंद राम मेघवाल: आपदा प्रबंधन विभाग
20. शकुंतला रावत: उद्योग मंत्री
21. अर्जुन सिंह बामनिया: आदिवासी क्षेत्र विकास (स्वतंत्र प्रभार), पीएचडी, भूजल राज्य मंत्री
22. अशोक चंदना: खेल राज्य मंत्री, कौशल विकास, रोजगार (स्वतंत्र प्रभार), जनसंपर्क, आपदा प्रबंधन, योजना
23. भंवर सिंह भाटी: ऊर्जा (स्वतंत्र प्रभार) जल संसाधन, इंदिरा गांधी नहर परियोजना (राज्य मंत्री)
24. राजेंद्र सिंह यादव, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री, योजना (स्वतंत्र प्रभार) गृह
25. सुभाष गर्ग: तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री, आयुर्वेद (स्वतंत्र प्रभार) अल्पसंख्यक मामले
26. सुखराम विश्नोई: श्रम राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजस्व
27. बृजेंद्र ओला: परिवहन और सड़क सुरक्षा (स्वतंत्र प्रभार)
28. मुरारीलाल मीणा: कृषि विपणन, राज्य (स्वतंत्र प्रभार), पर्यटन, नागरिक उड्डयन (राज्य मंत्री)
29. राजेंद्र सिंह गुढ़ा: सैनिक कल्याण, होमगार्ड और नागरिक सुरक्षा (स्वतंत्र प्रभार), पंचायती राज और ग्रामीण विकास (राज्य मंत्री)
30. जाहिदा खान: विज्ञान और प्रौद्योगिकी (स्वतंत्र प्रभार), स्कूली शिक्षा, कला संस्कृति (राज्य मंत्री)

सीएम के पास पहले 11 विभाग थे

विभाग के संभाग में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अभी भी 10 विभाग अपने पास रखे हैं। पहले 11 विभाग थे। इसमें आबकारी को छोड़ दिया गया है, जबकि सूचना जनसंपर्क विभाग को लिया गया है। अभी भी मुख्यमंत्री के पास वित्त, कराधान, गृह एवं न्याय, कार्मिक, आईटी, सामान्य प्रशासन, कैबिनेट सचिवालय, एनआरआई, राजस्थान राज्य जांच ब्यूरो और सूचना जनसंपर्क विभाग हैं।

पिछले कैबिनेट के 5 मंत्रियों का विभाग बरकरार

पुराने 5 कैबिनेट मंत्री, ममता भूपेश राज्य मंत्री से पदोन्नत होने के बाद कैबिनेट मंत्री बने और 2 राज्य मंत्रियों के विभागों को बरकरार रखा गया है। शांति धारीवाल के पास यूडीएच, संसदीय कार्य, लालचंद कटारिया के पास कृषि, प्रमोद जैन भाया के पास खान गोपालन, उदयलाल अंजना के पास सहकारिता, शाले मोहम्मद के पास अल्पसंख्यक कल्याण विभाग। राज्य मंत्री से पदोन्नत होकर कैबिनेट मंत्री बनीं ममता भूपेश का महिला एवं बाल विकास विभाग पहले जैसा ही है। राज्य मंत्री अशोक चंदना ने खेल, युवा मामलों को पूर्ववत किया है। सूचना जनसंपर्क विभाग एक नया अतिरिक्त है। सुभाष गर्ग के पास तकनीकी शिक्षा, आयुर्वेद को अक्षुण्ण रखते हुए दो नए विभाग हैं।

Related Stories

No stories found.