गूगल, माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब ट्विटर पर भी भारतीय मूल के सीईओ, टॉप 500 कंपनियों के सबसे युवा CEO बने पराग अग्रवाल

ट्विटर को नए सीईओ मिल गए हैं। ट्विटर के सह-संस्थापक जैक डोर्सी ने कंपनी के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया है। उनकी जगह पराग अग्रवाल कंपनी के नए सीईओ होंगे।
गूगल, माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब ट्विटर पर भी भारतीय मूल के सीईओ, टॉप 500 कंपनियों के सबसे युवा CEO बने पराग अग्रवाल
गूगल, माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब ट्विटर पर भी भारतीय मूल के सीईओ, टॉप 500 कंपनियों के सबसे युवा CEO बने पराग अग्रवाल

ट्विटर को नए सीईओ मिल गए हैं। ट्विटर के सह-संस्थापक जैक डोर्सी ने कंपनी के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया है। उनकी जगह पराग अग्रवाल कंपनी के नए सीईओ होंगे। 37 साल के पराग ने इसे अपने लिए सम्मान की बात बताई है। वो आईआईटी बॉम्बे से ग्रेजुएट हैं। उसके बाद वह कंपनी में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर के पद पर थे। उन्होंने 10 साल पहले कंपनी ज्वाइन की थी।

ट्विटर के संस्थापक जैक डोर्सी ने ट्विटर स्टाफ को लिखा पत्र

ट्विटर के संस्थापक जैक डोर्सी ने ट्विटर स्टाफ को लिखे अपने आखिरी पत्र में लिखा कि, 'मैंने ट्विटर छोड़ने का फैसला किया है क्योंकि मेरा मानना ​​है कि कंपनी अब अपने संस्थापकों से आगे बढ़ने के लिए तैयार है। ट्विटर के सीईओ के रूप में, मुझे पराग पर बहुत विश्वास है। पिछले 10 वर्षों में उनका काम एक बदलाव लाने वाला रहा है। मैं उनके कौशल, उनके दिल और उनकी आत्मा के लिए बहुत आभारी हूं। अब उनका ट्विटर का नेतृत्व करने का समय है।

गूगल, माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब ट्विटर पर भी भारतीय मूल के सीईओ

दुनिया की कई बड़ी कंपनियों में भारतीय मूल के सीईओ हैं और ये देश के लिए बेहद गर्व की बात है। माइक्रोसॉफ्ट में सत्या नडेला, गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट में सुंदर पिचई, अडोब में शांतनु नारायण, आईबीएम में अरविंद कृष्णा, VMWare में रघु रघुराम और पराग अग्रवाल ट्विटर के सीईओ बन गए हैं। पराग अग्रवाल ने जैक डोर्सी और दूसरे साथियों का आभार जताया।

शीर्ष 500 कंपनियों के सबसे युवा सीईओ

37 साल के पराग अब दुनिया की टॉप 500 कंपनियों के सबसे कम उम्र के सीईओ बन गए हैं। ट्विटर ने उनकी जन्मतिथि का खुलासा नहीं किया है। लेकिन बताया जाता है कि उनका जन्म 1984 में हुआ था। उनका जन्मदिन 14 मई यानी फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग के जन्मदिन के बाद ही आता है। बता दें कि IIT बॉम्बे में पढ़े पराग अग्रवाल ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट की उपाधि भी प्राप्त की है। 2018 में, ट्विटर ने उन्हें एडम मेसिंजर की जगह मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी नियुक्त किया था। ट्विटर से पहले पराग माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च और याहू के साथ काम करते थे।

21 मार्च, 2006 को हुई थी ट्विटर की स्थापना

डोर्सी ने अपने तीन साथियों के साथ 21 मार्च, 2006 को सैन फ्रांसिस्को में ट्विटर की स्थापना की थी। इसके बाद वह सबसे बड़े प्रौद्योगिकी उद्यमियों में से एक बन गए। डोर्सी के पद छोड़ने की खबर के बाद कंपनी के शेयर की कीमतें 10% तक बढ़ गईं। डोर्सी को एक फाइनेंशियल पेमेंट कंपनी स्क्वायर में एक शीर्ष कार्यकारी भी कहा जाता है। उन्होंने ही इसकी स्थापना की थी। कंपनी के कुछ बड़े निवेशक खुलेआम सवाल कर रहे थे कि क्या वह दोनों कंपनियों का प्रभावी नेतृत्व कर सकते हैं। हालांकि जैक 2022 तक कंपनी के बोर्ड में बने रहेंगे।

कैट ने कहा अमेजन के गैरकानूनी तरीके से किये जाने वाले कारोबार पर तुरंत रोक लगाई जाएं

Like and Follow us on : Twitter Facebook Instagram YouTube

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com