पप्पू यादव ने रोने का खेला इमोशनल कार्ड, कहा हमको किया गया टॉर्चर
पप्पू यादव ने रोने का खेला इमोशनल कार्ड, कहा हमको किया गया टॉर्चर

पप्पू यादव ने रोने का खेला इमोशनल कार्ड, कहा हमको किया गया टॉर्चर

लोकसभा चुनाव का आगाज होने वाला है, लेकिन पटना में अभी भी हालात कुछ ठीक नहीं चल रहे है। टिकट बंटवारे को लेकर बिहार में घमासान मचा हुआ है। इंडी गठबंधन की सीट शेयरिंग को लेकर राजद के हिस्से में आई पूर्णिया लोकसभा सीट चर्चा का विषय बनी हुई है।

लोकसभा चुनाव का आगाज होने वाला है, लेकिन पटना में अभी भी हालात कुछ ठीक नहीं चल रहे है। टिकट बंटवारे को लेकर बिहार में घमासान मचा हुआ है।

इंडी गठबंधन की सीट शेयरिंग को लेकर राजद के हिस्से में आई पूर्णिया लोकसभा सीट चर्चा का विषय बनी हुई है।

राजद से उम्मीदवार बीमा भारती ने अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के नेता पप्पू यादव ने भी अपना नामांकन भऱ दिया है। इसी के साथ ही इस सीट पर लड़ाई काफी दिलचस्प हो गई है।

रोने का खेला इमोशनल कार्ड

बता दें कि पप्पू यादव पूर्णिया सीट को लेकर बहुत ही इमोशनल हैं। इसकी छलक नामांकन दाखिल करने के बाद एक जनसभा के दौरान दिखी।

जनसभा को संबोधित करते हुए इमोशनल हो गए और मंच पर फूट-फूटकर रोने लगे। पप्पू यादव ने पूर्णिया लोकसभा क्षेत्र से नामांकन के बाद टाउन हॉल में एक जनसभा को संबोधित किया।

रोते हुए जनता के बीच अपना इमोशनल कार्ड की वोट बैंक की राजनीति की। इस दौरान उन्होंने लालू यादव और तेजस्वी यादव पर जमकर हमला बोला।

उन्होंने कहा कि ‘आखिर मुझमें क्या कमी थी। क्यों मुझे बार-बार कहा जा रहा था कि मधेपुरा चले जाओ सुपौल चले जाओ।

जबकि मैंने कांग्रेस में अपनी पार्टी के विलय से पहले ही लालू यादव से भी मुलाकात कर कहा था कि मैं पूर्णिया छोड़कर कहीं नहीं जा सकता।

मैं पूर्णिया से ही चुनाव लड़ूंगा। इसके बावजूद पूर्णिया से राजद के प्रत्याशी को नामांकन करवा दिया गया।’

पप्पू यादव ने कहा कि इतना ही नहीं आज तक आप कहीं किसी के नामांकन में नहीं गए, लेकिन पहली बार मेरे खिलाफ पूर्णिया पहुंच गए।

उन्होंने लालू यादव और तेजस्वी पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘कांग्रेस के राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने उन्हें सम्मान दिया है।

वह कभी कांग्रेस से अलग नहीं होंगे, लेकिन कांग्रेस और राजद के कुछ नेता उनके विरोध में खड़े हैं। आखिर मुझसे क्या गलती हुई है।

उन्होंने कहा कि मैंने तो पूर्णिया से पिछले एक साल में हर घर से नाता जोड़ा है। पूर्णिया के तहत हर गांव गांव गए हैं। मैं जात की राजनीति नहीं करता हूं।


पप्पू यादव ने कहा कि मधेपुरा ने मुझे दो बार हराने का काम किया है। ऐसे में मैं मधेपुरा से कैसे चुनाव लड सकता हूं।

आप बीमा भारती को सुपौल दे देते मुझे कोई एतराज नहीं था, लेकिन मुझे बार-बार क्यों टॉर्चर किया जा रहा था। क्यों मुझ पर पूर्णिया छोड़ने के लिए दबाव बनाया जा रहा है।

पप्पू यादव ने रोने का खेला इमोशनल कार्ड, कहा हमको किया गया टॉर्चर
Break in Congress: कांग्रेस को एक साथ 3 बड़े झटके, पार्टी में भगदड़ के पीछे ये हैं मुख्य कारण

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com