Protest in Patna: बेरोजगार शिक्षकों से बर्बरता, लाठीबाज ADM पर सुशासन बाबू का एक्शन कब?

Protest in Patana: बिहार की राजधानी में बेरोजगार शिक्षक उम्मीदवारों के प्रदर्शन के ADM की बर्बरता का वीडियो वायरल हुआ है। ADM ने छात्र को इतना पीटा की वह खून से लथपथ हो गया। यह वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कलेक्टर से बात कर मामले की जांच कर जल्द रिपोर्ट देने की बात कही है।
Protest in Patna: बेरोजगार शिक्षकों से बर्बरता, लाठीबाज ADM पर सुशासन बाबू का एक्शन कब?

पटना में सोमवार को बेरोजगार शिक्षक उम्मीदवारों के प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज किया। पटना के एडीएम केके सिंह ने तिरंगा लिए एक प्रदर्शनकारी पर जमकर निशाना साधा। उस शिक्षक को इतनी लाठियाँ मारीं कि उसका खून बहने लगा। बाद में एक पुलिसकर्मी ने प्रदर्शनकारी से तिरंगा छीन लिया। इस मामले पर डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा है कि एडीएम को इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए था। जांच के आदेश दिए गए हैं।

Protest in Patana: नियुक्ति को लेकर हो रहा था विरोध

डाक बंगला चौराहे पर लगभग 5000 सीटीईटी और बीटीईटी पास उम्मीदवार विरोध कर रहे थे। इस दौरान पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया। पटना डीएम ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं और 2 दिन में रिपोर्ट मांगी है। ये उम्मीदवार सातवें चरण की नियुक्तियों की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। वहां भारी संख्या में पुलिस बल और वाटर कैनन तैनात थे। उम्मीदवार बिहार के नए शिक्षा मंत्री के खिलाफ नारे भी लगा रहे थे। वे सरकार से प्रारंभिक रिलीज जारी करने की मांग कर रहे थे।

Protest in Patana: तेजस्वी बोले- एडीएम को ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए था

आनन-फानन में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव राजद कार्यालय पहुंचे और इस मामले में सरकार का पक्ष रखा। तेजस्वी यादव ने कहा- आज की घटना शर्मनाक है। एडीएम को ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए था। शिक्षक उम्मीदवार राजभवन की ओर मार्च कर रहे थे। हमने समाचारों में तस्वीरें देखी हैं। मैंने जिलाधिकारी से बात की है। जांच कमेटी बनाई गई है। एडीएम दोषी पाए जाने पर दंडित किया जाएगा।

Protest in Patana: प्रदर्शनकारियों ने कहा-नए शिक्षा मंत्री से उम्मीद थी

7वें चरण की योजना के लिए रिलीज जारी करने की मांग को लेकर 5 हजार अभ्यर्थियों ने डाक बंगला चौराहे को चार घंटे तक जाम कर दिया। प्रदर्शन करने वाले छात्रों की मांग थी कि सरकार जल्द से जल्द 7वें चरण की प्रारंभिक रिलीज जारी करे। नए शिक्षा मंत्री के आने से उम्मीद तो जगी थी, लेकिन यह भी हमें घुमाने लगे है। लाठीचार्ज में 28 लोग घायल हो गए। पीएमसीएच में 5 से 6 अभ्यर्थियों को प्रवेश दिया जाता है।

3 साल से नियुक्ति का इंतजार, लगातार प्रदर्शन की चेतावनी

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे तीन साल से मिलने का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन शिक्षा मंत्री कोई जवाब नहीं दे रहे हैं। शिक्षा विभाग हमारी मांगों की अनदेखी कर रहा है। नई सरकार बनने के बाद हमने विरोध करना शुरू कर दिया। जब तक समस्या का समाधान नहीं होता हम इसी तरह विरोध करते रहेंगे।

शिक्षक भर्ती परीक्षा 8 साल बाद हुई

बिहार में शिक्षक भर्ती परीक्षा 8 साल बाद हुई थी। अधिसूचना 2019 में जारी की गई थी। परीक्षा जनवरी 2020 में ऑफलाइन मोड में आयोजित की गई थी, लेकिन 2-3 केंद्रों पर धोखाधड़ी का मामला सामने आने के बाद इसे रद्द कर दिया गया था। पुन: परीक्षा सितंबर 2020 में हुई थी। तब यह ऑनलाइन थी।

Since independence
hindi.sinceindependence.com