MCD Election 2022: कूड़े के पहाड़ या भ्रष्टाचार... दिल्ली MCD चुनाव में किन मुद्दों की है सबसे ज्यादा चर्चा?

गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव के बीच दिल्ली के MCD चुनाव की घोषणा से भाजपा और आम आदमी पार्टी के बीच सियासत और तेज हो गई है। दिल्ली MCD चुनाव में कूड़े के पहाड़ और भ्रष्टाचार मुख्य चुनावी मुद्दे बनते नजर आ रहे हैं। दोनों की दल एक दूसरे पर दोषारोपण कर वार कर रहे हैं।
MCD Election 2022: कूड़े के पहाड़ या भ्रष्टाचार... दिल्ली MCD चुनाव में किन मुद्दों की है सबसे ज्यादा चर्चा?

दिल्ली नगर निगम चुनावों की घोषणा के साथ ही सियासत तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) एक बार फिर से सत्ता के ताल ठोंकती नजर आ रही है। वहीं, आम आदमी पार्टी (AAP) निगम में सत्ता के दावे के साथ जनता के बीच पहुंचने की कोशिश कर रही है। निगम में काबिज बीजेपी ने एमसीडी चुनाव के मद्देनजर अपने वचन पत्र में दिल्ली की सभी झुग्गिवसियों को फ्लैट्स दिए जाने से लेकर कई वायदे किए हैं। वहीं, आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार 11 नवंबर को 'केजरीवाल की 10 गारंटी' को लॉन्च किया।

भ्रष्टाचार सबसे अहम मुद्दा

आगामी एमसीडी चुनाव में भ्रष्टाचार एक अहम मुद्दा हो सकता है। आम आदमी पार्टी इसे लेकर बीजेपी को घेरने की कोशिश करेगी। आम आदमी पार्टी ने दावा किया कि भ्रष्टाचार में कथित संलिप्तता के कारण आगामी एमसीडी चुनावों में बीजेपी ने 2017 की तरह ही अपने मौजूदा पार्षदों को मैदान में नहीं उतारने का फैसला किया है। इसके अलावा एमसीडी चुनावों के लिए आप प्रभारी दुर्गेश पाठक ने बीजेपी पार्षदों पर 35000 करोड़ रुपये हड़पने का आरोप लगाया है। सीएम केजरीवाल ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि भ्रष्टाचार करते हैं ये लोग और जेल भेजते हैं सत्येंद्र जैन और मनीष सिसोदिया को। सीएम केजरीवाल ने शुक्रवार को एमसीडी चुनाव को लेकर जारी किए 'केजरीवाल की 10 गारंटी' में निगम को भ्रष्टाचार मुक्त करने का भी एलान किया।

वहीं, बीजेपी दिल्ली शराब घोटाले को लेकर डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया पर निशाना साधती रही है। आप नेता सत्येंद्र जैन की मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तारी को लेकर भी बीजेपी एमसीडी चुनाव में इसे मुद्दा बना सकती है।

कूड़े के पहाड़ पर सियासत

आप ने एमसीडी चुनाव में इस बार दिल्ली के कूड़े के पहाड़ को अपना मुख्य मुद्दा बनाया है। आप का आरोप है कि बीजेपी ने कहा था कि वो दिल्ली से कूड़े के पहाड़ खत्म कर देंगे और हर दिल्ली की हर गली कचरा मुक्त होगी, लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया। उनके ये सारे वायदे झूठे हैं।

वहीं, बीजेपी दिल्ली सरकार पर प्रदूषण और उनके मंत्रियों के भ्रष्टाचार को लेकर हमलावर है। बीजेपी ने दिल्ली सरकार पर गाजीपुर लैंडफिल साइट को साफ करने में कोई प्रशासनिक रुचि नहीं दिखाने का आरोप लगाया। साथ ही दिल्ली सरकार पर एमसीडी को जरूरी आर्थिक सहयोग नहीं देने को लेकर पर उनपर हमला बोला। बीजेपी का आरोप है कि पिछले 8 साल में नगर निगम के सामान्य सेनिटेशन फंड में तो कटौती की ही पर उसी के साथ ही लैंडफिल साइट सफाई का बजट भी जारी नहीं किया गया।

केजरीवाल ने दिल्ली को गैस चेंबर बना डाला: मनोज तिवारी

आदेश गुप्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां झुग्गी, वहीं मकान वाला वादा पूरा किया है। उन्होंने आगे कहा कि हम दिल्ली के हर झुग्गी वासी से ये वचन पत्र भरवाएंगे और सभी को जहां झुग्गी, वहीं मकान के तहत मकान देंगे। इस दौरान बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली की जनता को कई गारंटी दी थी, लेकिन आजतक वो गारंटी पूरी नहीं हुईं। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने दिल्ली को गैस चेंबर बना डाला है।

पहले वादों का क्या हुआ : आतिशी

आम आदमी पार्टी ने भाजपा के वचन पत्र पर सवाल खड़े किए हैं। आप विधायक आतिशी ने कहा, सांसद मनोज तिवारी ने पिछले चुनाव में केंद्र से निगम के पैसा लाने की बात कही थी, लेकिन एक भी रुपया नहीं ला सके। कहा था कि एमसीडी की सड़कों को गड्ढा मुक्त करेंगे और लैंडफिल साइट हटाएंगे। ढलावघर खत्म करने का वादा किया था, परंतु ढलावघर हटाने के लिए कूड़े को सड़कों पर फेकना शुरू कर दिया। तिवारी और गुप्ता बताएं की पांच साल में उनके वादों का क्या हुआ।

4 दिसंबर को वोटिंग, 7 दिसंबर को गणना

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव के लिए चार दिसंबर को वोट डाले जाएंगे, जबकि वोटों की गिनती सात दिसंबर को होगी। हालांकि, ये चुनाव अप्रैल में होने थे लेकिन तीनों निगमों के एकीकरण के फैसले के कारण देरी हुई। एमसीडी चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 14 नवंबर है।

MCD Election 2022: कूड़े के पहाड़ या भ्रष्टाचार... दिल्ली MCD चुनाव में किन मुद्दों की है सबसे ज्यादा चर्चा?
MCD Elections 2022: दिल्ली में AAP की गारंटी और बीजेपी का वचन पत्र... जानें किसने क्या हैं वादे?
Since independence
hindi.sinceindependence.com