कांग्रेस के होंगे कन्हैया: क्यों CPI से निकलकर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं कन्हैया कुमार? क्या अब बिहार में कन्हैया के कंधों पर चल पाएगी कांग्रेस?

कांग्रेस के होंगे कन्हैया: क्यों CPI से निकलकर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं कन्हैया कुमार? क्या अब बिहार में कन्हैया के कंधों पर चल पाएगी कांग्रेस?

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता कन्हैया कुमार 28 सितंबर यानी शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जन्मदिन पर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं। उम्मीद है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी उन्हें पार्टी में ला रहे हैं. उनके साथ गुजरात के दलित कार्यकर्ता और विधायक जिग्नेश मेवाणी के कांग्रेस में शामिल होने की भी चर्चा है।

डेस्क न्यूज़- भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता कन्हैया कुमार 28 सितंबर यानी शहीद-ए-आजम भगत सिंह के जन्मदिन पर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं। उम्मीद है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी उन्हें पार्टी में ला रहे हैं. उनके साथ गुजरात के दलित कार्यकर्ता और विधायक जिग्नेश मेवाणी के कांग्रेस में शामिल होने की भी चर्चा है। बिहार में अपना जनाधार खो चुकी कांग्रेस के पास राज्य में कोई बड़ा चेहरा नहीं है। तो क्या वह कन्हैया कुमार के रूप में भविष्य के नेता की तलाश कर रही हैं? क्या कन्हैया लेफ्ट से सेंटर आने के बाद जो करना चाहते है वह कर पाएंगे? दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्र संघ का नेतृत्व कर सुर्खियों में आए कन्हैया से कांग्रेस को क्या उम्मीदें हैं? इस खबर में हम इन सभी सवालों के जवाब जनेंगे।

JNU में हुए प्रदर्शन को समर्थन देने राहुल गांधी JNU भी पहुंचे थे। Photo | Dainik Bhaskar
JNU में हुए प्रदर्शन को समर्थन देने राहुल गांधी JNU भी पहुंचे थे। Photo | Dainik Bhaskar

कन्हैया के कांग्रेस में जाने की वजह

वरिष्ठ पत्रकार अरविंद मोहन का कहना है कि CPI में किसी के लिए कोई बड़ी संभावना नहीं बची है। ऐसे में अगर कोई युवा नेता राजनीति में करियर बनाना चाहता है तो उसे परेशानी होगी, इसलिए कन्हैया भी अपने लिए नए विकल्प तलाश रहे थे। उनका कहना है कि कन्हैया को बढ़ाने में CPI भी दिलचस्पी नही दिखा रही। पिछले चुनाव में, जब गठबंधन अच्छा निकला, तो उनकी पार्टी ने उन्हें बढ़ावा नहीं दिया। चुनाव के दौरान कन्हैया द्वारा शुरू किए गए दौरे को भी पार्टी नेतृत्व ने रोक दिया था।

कन्हैया के खिलाफ सीपीआई का निंदा प्रस्ताव

दरअसल, उसके सामने कोई रास्ता नहीं था। उनकी अपनी पार्टी CPI ने फरवरी में उनके खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया था। कन्हैया ने 1 दिसंबर 2020 को पार्टी के पटना कार्यालय में कार्यालय सचिव इंदुभूषण वर्मा के साथ मारपीट की थी। उस समय हैदराबाद में CPI राष्ट्रीय परिषद की बैठक चल रही थी। दरअसल, बेगूसराय जिला परिषद की बैठक होनी थी। इसके लिए कन्हैया ही अपने समर्थकों के साथ पार्टी कार्यालय पहुंचे। किसी कारणवश बैठक स्थगित कर दी गई। इस बात की जानकारी न दिए जाने से कन्हैया नाराज हो गए। इस पर कन्हैया समर्थकों ने वर्मा के साथ बदसलूकी की. फिर हैदराबाद में कन्हैया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। यहीं से कन्हैया का सीपीआई से मोहभंग हो गया।

लंबे समय से कन्हैया के कांग्रेस में शामिल होने की खबरें आ रही थीं। पिछले हफ्ते, भाकपा महासचिव डी. राजा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अफवाहों को खारिज किया था। दिल्ली में पार्टी कार्यालय में केंद्रीय नेता उनका इंतजार कर रहे थे, लेकिन कन्हैया नहीं गए। पार्टी नेताओं के संदेशों और फोन कॉलों का भी जवाब नहीं दिया गया।

इस बात को लेकर CPI से हुआ मोहभंग

सूत्रों का कहना है कि CPI के कुछ नेता कन्हैया के संपर्क में थे। कन्हैया ने उनसे साफ कह दिया है कि वह CPI का प्रदेश अध्यक्ष बनना चाहते हैं। वह चुनाव समिति का अध्यक्ष भी बनना चाहते हैं। ताकि वह उम्मीदवारों का चयन करें। CPI नेताओं का कहना है कि कोई भी नेता ऐसी मांग नहीं कर सकत। यह पार्टी अपने लोगों पर अपने फैसले खुद लेती है। जिम्मेदारी भी पार्टी के सर्वोच्च निकाय द्वारा तय की जाती है। अगर कन्हैया की कोई महत्वाकांक्षा है तो उन्हें शीर्ष नेतृत्व से बात करनी चाहिए। हालांकि ऐसा नहीं लग रहा है कि कन्हैया अब पीछे हटने वाले हैं।

2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा खिलाफ लड़ा था चुनाव

CPI ने 2019 के लोकसभा चुनाव में बेगूसराय सीट से भाजपा के गिरिराज सिंह के खिलाफ कन्हैया को मैदान में उतारा था। कन्हैया इस चुनाव में 4 लाख से ज्यादा वोटों से हार गए थे। कन्हैया ने भीड़ खींची लेकिन जीत नहीं पाए, जिसके चलते पार्टी उन्हें कोई बड़ी जिम्मेदारी देने से हिचकिचा रही है. कन्हैया पर फैसला 2 अक्टूबर को पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में लिया जा सकता है। हालांकि अरविंद मोहन का कहना है कि कन्हैया ने बेगूसराय का चुनाव बहुत अच्छे से लड़ा था। उनके सामने राजद के अब्दुल बारी सिद्दीकी जैसे नेता भी थे। इसके बाद भी वह दूसरे नंबर पर रहे। ऐसे में कन्हैया को नए विकल्प तलाशने पड़े।

कन्हैया के आने कांग्रेस को क्या फायदा

बिहार में जदयू और राजद जैसे क्षेत्रीय दलों या भाजपा-कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय दलों की बात करें तो सभी दलों में दूसरी पंक्ति के नेता आगे आ रहे हैं। तेजस्वी पहले ही राजद में कमान संभाल चुके हैं। लोक जनशक्ति पार्टी का नेतृत्व चिराग पासवान कर रहे हैं। जद (यू) के नीतीश पहले ही कह चुके हैं कि वह अगला चुनाव नहीं लड़ेंगे। सुशील कुमार मोदी को मुख्य जिम्मेदारी से हटाकर बीजेपी ने भी संकेत साफ कर दिए हैं.

ऐसे में कांग्रेस के पास कोई युवा नेता नहीं है जो लंबी दूरी का घोड़ा बन सके। वह कन्हैया में क्षमता देखते हैं, जो लंबे समय में राज्य स्तर पर पार्टी को मजबूत कर सकते हैं। कन्हैया को कांग्रेस की उतनी ही जरूरत है जितनी बिहार में कांग्रेस को कन्हैया की।

कन्हैया को कांग्रेस से क्या फायदा

कन्हैया ने 2019 का लोकसभा चुनाव बेगूसराय से लड़ा था। गठबंधन की उपेक्षा के कारण उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा। नतीजों की समीक्षा करते हुए कन्हैया के सलाहकारों ने कहा कि सीपीआई के साथ राजनीति शुरू करना सही फैसला नहीं था। तेजस्वी को हटाकर राजद ने कन्हैया की मुश्किलें बढ़ा दी थीं। कन्हैया की राजनीति बीजेपी विरोध पर आधारित है। जेएनयू के नारेबाजी कांड ने उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई। इसलिए वे भाजपा में नहीं जा सकते। क्षेत्रीय दल संसदीय राजनीति के लिए उपयुक्त नहीं हैं। इसलिए उन्हें एक राष्ट्रीय पार्टी की जरूरत है। कांग्रेस के अलावा उनके सामने फिलहाल कोई मजबूत विकल्प नहीं है।

बिहार की बात करें तो कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा का कार्यकाल समाप्त हो गया है। आलाकमान बुजुर्ग नेताओं को आइसोलेट करना चाहता है। चिराग-तेजस्वी जिस तरह नीतीश सरकार पर हमला बोल रहे हैं, उसी ताकत से कांग्रेस में हमला करने वाला कोई नहीं है। कांग्रेस में शामिल होने के बाद ही कन्हैया राज्य में एक बड़ी ताकत बन पाएंगे।

कांग्रेस खुद को मजबूत करने की कोशिश में

बिहार में लंबे समय तक पत्रकारिता करने वाले नागेंद्र प्रताप का कहना है कि यह प्रियंका की राजनीति का असर है। अगर कन्हैया जैसे लोग कांग्रेस में आते हैं तो कांग्रेस खुद को पुनर्जीवित कर सकती है। मौजूदा हालात में कांग्रेस तेजस्वी को चुनौती देने की स्थिति में नहीं है इसलिए वह खुद को मजबूत करने की कोशिश करेगी। वहीं राजद प्रवक्ता प्रेम कुमार मणि के अनुसार कन्हैया के कांग्रेस में शामिल होने से कांग्रेस को कोई फायदा नहीं दिख रहा है।

कन्हैया की राहुल से मुलाकात के बाद से चल रही अटकले

फिलहाल कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। सितंबर की शुरुआत में, सीपीआई की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सबसे युवा सदस्य कन्हैया ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मुलाकात की थी। इसके बाद से ही अटकलों का बाजार गर्म हो गया था। सूत्रों का कहना है कि फिलहाल कन्हैया को राज्य पर फोकस करने के लिए कहा जा सकता है।

राहुल गांधी ने पहले दे दिया था बयान

राहुल गांधी ने 16 जुलाई को सोशल मीडिया के स्वयंसेवकों की एक बैठक में कहा था, "ऐसे कई लोग हैं जो बीजेपी-आरएसएस से नहीं डरते। वे कांग्रेस से बाहर हैं, वो सभी लोग हमारे हैं। उनको लाएंगे और जो हमारी पार्टी में रहकर डरते हैं उन्हें बाहर निकाल दिया जाएगा। वे आरएसएस में जा सकते हैं। हमें उनकी जरूरत नहीं है। हम निडर लोग चाहते हैं।'

राहुल के इस बयान की अगर व्याख्या की जाए तो कन्हैया और जिग्नेश मेवाणी जैसे युवाओं को अहम भूमिका मिल सकती है। अभी तक पार्टी के युवा चेहरों की आउटगोइंग ही रही है। 2019 का लोकसभा चुनाव हारने के बाद से कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद और सुष्मिता देब जैसे युवा चेहरों को खो दिया है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com