असम हिंसा मामला: अधमरे व्यक्ति के ऊपर कूद रहा कैमरामैन गिरफ्तार, दिल दहलाने वाला वीडियो आया था सामने

पुलिस फायरिंग में मारे गए शख्स पर कैमरामैन उछल-कूद कर रहा है और पथराव कर रहा है। वहीं, पुलिस के जवान उस पर लाठियां भी बरसा रहे हैं। ग्रामीणों पर अवैध कब्जे और पुलिस पर पथराव करने का आरोप है। सोशल मीडिया पर पुलिस और कैमरामैन की बर्बरता का एक वीडियो सामने आया हैं। हालांकि, वीडियो वायरल होने के बाद कैमरामैन को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं, असम सरकार ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं।
Photo | Social Media
Photo | Social Media

डेस्क न्यूज़- असम के दरांग इलाके में पुलिस-ग्रामीणों के बीच हिंसक झड़प के बाद एक भयावह वीडियो सामने आया है। मृत व्यक्ति के साथ पुलिस और कैमरामैन की बर्बरता और बर्बरता भी दिखाई दे रही है। पुलिस फायरिंग में मारे गए शख्स पर कैमरामैन उछल-कूद कर रहा है और पथराव कर रहा है। वहीं, पुलिस के जवान उस पर लाठियां भी बरसा रहे हैं। ग्रामीणों पर अवैध कब्जे और पुलिस पर पथराव करने का आरोप है। सोशल मीडिया पर पुलिस और कैमरामैन की बर्बरता का एक वीडियो सामने आया हैं। हालांकि, वीडियो वायरल होने के बाद कैमरामैन को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं, असम सरकार ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं।

खौफनाक वीडियो आया था सामने

दरअसल, पिछले दिनों पुलिस और ग्रामीणों के बीच हुई झड़प में दो प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई। वहीं, नौ पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। वीडियो में दिख रहा है कि एक शख्स अधमरी हालत में जमीन पर पड़ा हुआ है। उस पर एक फोटोग्राफर बेरहमी से कूद रहा है और उसे मार रहा है। बताया जा रहा है कि पुलिस फायरिंग में वह शख्स घायल हो गया था, उसके बाद भी फोटोग्राफर उस पर कूद कर ईंट से हमला कर रहा है। इतना ही नहीं कुछ पुलिस कर्मी उस पर लाठियां भी बरसा रहे हैं और हवा में फायरिंग कर लोगों में दहशत फैला रहे हैं। सोशल मीडिया पर वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

अतिक्रमण हटाने का चलाया जा रहा अभियान

दरअसल, असम पुलिस की ओर से दरंग के एक इलाके से अतिक्रमण हटाने के लिए अभियान चलाया जा रहा हैं। पिछले चार दिनों से चल रहे अभियान में अब तक 800 परिवारों को यहां से हटाया जा चुका है। गुरुवार को हुई झड़प में दो नागरिकों की मौत हो गई, जबकि नौ पुलिस कर्मी घायल हो गए। पुलिस ने ग्रामीणों को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज और फायरिंग की। सरकार की ओर से दावा किया गया था कि लोग यहां अवैध कब्जा करके रह रहे हैं। उनमें से ज्यादातर पूर्वी बंगाल मूल के मुसलमान थे।

घटना के विरोध में बंद का ऐलान

घटना के बाद लोगों में पुलिस के प्रति आक्रोश बढ़ गया। घटना को देखते हुए कुछ सामाजिक और राजनीतिक संगठनों ने आज बंद का आह्वान किया है। संगठनों ने दरंग को 12 घंटे के लिए बंद करने का ऐलान किया है।

Since independence
hindi.sinceindependence.com