मुरैना : समाधी लेने को ‘पप्पड़ बाबा’ लेटे गड्ढे में , पुलिस ने पहुंच कर निकला , कराया अस्पताल में भर्ती

मध्य प्रदेश के मुरैना में सिविल लाइन थाना क्षेत्र के कैथोदा ग्राम पंचायत के तुस्सीपुरा गांव में गुरुवार को पप्पड़ बाबा के नाम से प्रसिद्ध एक साधू ने समाधि लेने का प्रयास किया।
मुरैना : समाधी लेने को  ‘पप्पड़ बाबा’ लेटे गड्ढे में , पुलिस ने पहुंच कर निकला , कराया अस्पताल में भर्ती

मध्य प्रदेश के मुरैना में सिविल लाइन थाना क्षेत्र के कैथोदा ग्राम पंचायत के तुस्सीपुरा गांव में गुरुवार को पप्पड़ बाबा के नाम से प्रसिद्ध एक साधू ने समाधि लेने का प्रयास किया। बाबा समाधि ले पाते उससे पहले ही वहां पुलिस पहुंच गई और गड्ढे में लेटे बाबा को बाहर निकाला। पुलिस ने फिलहाल बाबा को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है।

कुशवाह समाज में है बाबा की मान्यता

तुस्सीपुरा गांव में पप्पड़ बाबा के नाम से पहचाने जाने वाले 105 वर्षीय वृद्ध रामसिंह कुशवाह की क्षेत्र में काफी पूछ परख है। कुशवाह समाज में उनकी बहुत मान्यता है। बाबा ने बुधवार को ही गांव में स्थित दुर्गादास के आश्रम में स्थित हनुमान जी के मंदिर के सामने समाधी लेने की घोषणा कर दी थी। इसके लिए उन्होंने जमीन में एक गड्ढा भी खुदवा लिया था।

समाधि से पहले गांव में करायी मुनादी

बाबा समाधि लेने जा रहे इस खबर की मुनादी भी आसपास के गांवों में करवाई गयी। गुरुवार सुबह 5 बजे से वहां पूजा अर्चना प्रारंभ हो गई. आश्रम में आस पास से आये हजारों महिला पुरुष इकठ्ठा हो गए। वहां भजन कीर्तन व अन्य धार्मिक कार्यक्रम होने लगे। कोई बाबा को माला पहना रहा था, तो कोई उन्हें भेंट दे रहा था।

चार फ़ीट गहरा गड्ढा खुदवा कर समाधी लेने को लेते बाबा

दोपहर 2 बजे के करीब बाबा चार फीट गहरे गड्ढे में भी पहुंचकर लेट गए। उन्होंने लोगों से मिट्टी डालने को कहा, लेकिन लोग इसके लिए तैयार नहीं हुए। लोगों ने कहा कि जब आप देह त्याग दोगे तभी हम मिट्टी डालेंगे। उधर, बाबा की समाधी कार्यक्रम की जानकारी किसी ने सिविल लाइन थाना पुलिस को दे दी।

सूचना पर दोपहर तीन बजे के करीब पुलिस गांव में पहुंची और बाबा को बड़ी मुश्किल से समझाकर गड्ढे से बाहर निकाला। चूंकि गड्ढे में एक घंटे से अधिक लेटने की वजह से बाबा की तबीयत बिगड़ गई थी, इसलिए पुलिस ने उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया। फिलहाल बाबा स्वस्थ बताए जा रहे हैं।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com