DAUSA: बोरवेल में गिरी 2 साल की बच्ची; पानी की बोतल पहुंचाई तो पकड़ ली, गड्‌ढा खोदकर सुरंग के जरिए निकालने के प्रयास

दौसा जिले के बांदीकुई क्षेत्र में आभानेरी के पास दो साल की बच्ची घर के बाहर खेलते समय खुले बोरवेल में गिर गई। अभी तक बच्ची सकुशल है और उसे रस्सी के जरिये बोतल से पानी पहुंचाया गया है। प्रशासन ने बच्ची अंकिता को निकालने के प्रयास शुरू कर दिए है।
बोरवेल के पास जेसीबी से गड्ढा खोदा जा रहा है। मौके पर प्रशासन का अमला मौजूद है।
बोरवेल के पास जेसीबी से गड्ढा खोदा जा रहा है। मौके पर प्रशासन का अमला मौजूद है।

राजस्थान में बांदीकुई (दौसा) के आभानेरी के पास 2 साल की बच्ची 200 फीट गहरे बोरवेल में गिर गई। घटना सुबह 11 बजे की है। सूचना मिलते ही प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई है और बच्ची को निकालने के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं। मासूम 100 फीट की गहराई पर नजर आ रही है। गौरतलब है कि बोरवेल घर के चबूतरे पर ही था।

बच्ची को बचाने के लिए बोरवेल के बगल में 100 फीट गहरा गड्‌ढा खोदा जा रहा है। अब तक 40 फीट तक गड्‌ढा खोदा जा चुका है। रस्सी से बांध कर पानी की बोतल बच्ची तक पहुंचाई गई है। पानी पीने के लिए बोतल पर निप्पल भी लगी हुई है। कैमरे में बच्ची बोतल लिए दिख रही है।

बचाव कार्य में जुटी रेस्क्यू टीम
बचाव कार्य में जुटी रेस्क्यू टीम

बचाव दल मौके पर, SDRF की टीम कर रही रेस्क्यू

थोड़ी देर के लिए तेज बारिश की वजह से रेस्क्यू ऑपरेशन रोकना पड़ा था, लेकिन अब एसडीआरएफ की टीम भी बच्ची को बचाने के लिए पहुंच गई है। बच्ची के मूवमेंट पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरा बोरवेल में डाला गया है। कैमरा दिखते ही बच्ची ने उसे पकड़ने की भी कोशिश की। इधर, जैसे ही मां को पता चला तो वह भी उसे देखने मौके पर पहुंच गई। रेस्क्यू टीम ने बताया कि बच्ची मूवमेंट कर रही है और कैमरे को पकड़ने की भी कोशिश की।

घर के बाहर खेलते समय खुले बोरवेल में गिर गई अंकिता

दरअसल, गांव में देवनारायण गुर्जर की बेटी अंकिता सुबह अपने घर के बाहर खेल रही थी। घर के पास ही एक ओपन बोरवेल है। वह खेलते हुए अचानक गिर गई। कुछ देर तक जब बच्ची नहीं दिखी तो घर वालों ने उसकी तलाश की। इसी बीच बोरवेल से उसके रोने की आवाज आई। रोने की आवाज सुनकर घर वालों के हाथ पांव फूल गए। उन्होंने तुरंत इसकी सूचना प्रशासन को दी।

दो साल की मासूम अंकिता
दो साल की मासूम अंकिता

दादा बोले- आज सुबह ही मिट्टी भरने के लिए खोला था ढक्कन

अंकिता के दादा कमल सिंह (65) ने बताया, 'ये बोरवेल दो साल पहले खोदा गया था, लेकिन वो सूखा निकला। तब इस बोरवेल को ढक्कन लगाकर छोड़ दिया गया। आज सुबह ही मैंने बोरवेल में मिट्टी भरने के लिए ढक्कन खोला था। करीब 11 बजे तक बोरवेल में 100 फीट तक मिट्टी भी भर दी थी। उसके बाद मैं कमरे में थोड़ा आराम करने चला गया और पीछे से अंकिता खेलते हुए बोरवेल के पास पहुंची और गिर गई।'

मां का रो-रोकर बुरा हाल, लोग ईश्वर से कर रहे प्रार्थना

बच्ची का पिता डूंगरपुर में है। वह वहां ठेकेदारी का काम करता है। इधर, घर के बाहर खड़ी मासूम की मां का रो-रोकर बुरा हाल है। वह बार-बार प्रार्थना कर रही है कि उसकी बेटी सकुशल बाहर निकाल ली जाए। आस-पड़ोस के लोग और रिश्तेदार उसे हिम्मत बंधा रहे हैं।

बोरवेल के पास जेसीबी से गड्ढा खोदा जा रहा है। मौके पर प्रशासन का अमला मौजूद है।
राजस्थान: दलित युवक ने मटकी से पानी पिया तो मिली मार,भागने लगा तो की फायरिंग
Since independence
hindi.sinceindependence.com