Rajasthan : दबंगों ने दलित शिक्षिका को जिंदा जलाया, स्कूल जाते समय पेट्रोल डालकर लगा दी आग; जयपुर के रायसर गांव की घटना

राजस्थान के जालोर में दलित छात्र की मौत का मामला अभी शांत नहीं हुआ था, इससे पहले जयपुर में एक दलित महिला शिक्षिका को जिंदा जला दिया गया। दबंगों ने स्कूल जाते समय पेट्रोल डालकर महिला को आग लगा दी। आग से बुरी तरह झुलसी शिक्षिका की मंगलवार देर रात एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई। यह घटना 10 अगस्त की है। जिसका वीडियो बुधवार को सामने आते ही हडकंप मच गया।
Rajasthan : दबंगों ने दलित शिक्षिका को जिंदा जलाया, स्कूल जाते समय पेट्रोल डालकर लगा दी आग; जयपुर के रायसर गांव की घटना

दिल दहला देने वाली यह घटना जयपुर के रायसर गांव की है। 10 अगस्त सुबह आठ बजे रैगरों के मोहल्ले में रहने वाली शिक्षिका अनीता रेगर (32) अपने बेटे राजवीर (6) के साथ वीणा मेमोरियल स्कूल जा रही थी। इस दौरान कुछ दबंगों ने उसे घेर लिया और हमला कर दिया। बदमाशों से बचने के लिए अनीता पास ही में ही बने एक घर में घुस गई। उसके मदद के लिए डायल 100 को सूचना दी, लेकिन काफी देर बाद भी वहां पुलिस नहीं पहुंची।

इसके बाद मौका मिलते ही दबंगों ने पेट्रोल डालकर शिक्षिका को आग लगा दी। आग की लपटों में घिरी अनीता मदद के लिए चिल्लाती रही, लेकिन कोई उसके पास नहीं आया। घटना की सूचना मिलने पर शिक्षिका का पति ताराचंद अपने परिवार के सदस्यों के साथ मौके पर पहुंचा और पत्नी को जमवारामगढ़ के सरकारी अस्पताल ले गया। जहां 70 फीसदी जल चुकी अनीता को प्राथमिकी उपचार के बाद डॉक्टरों ने जयपुर के एसएमएस अस्पताल रेफर कर दिया।

पुलिस को पूरा वाकिया बताता मृतका का पति।
पुलिस को पूरा वाकिया बताता मृतका का पति।

पहले मारपीट अब जला दिया जिंदा

मृतका शिक्षिका अनीता ने आरोपियों को ढाई लाख रुपये उधार दिए थे। कई दिन से वह आरोपियों से अपने रुपये वापस मांग रही थी। बार-बार रुपये मांगने पर आरोपी शिक्षिका के साथ मारपीट और अभद्रता कर रहे थे। इसे लेकर अनीता ने 7 मई को रायसर थाने में केस भी दर्ज कराया था। बताया जा रहा है कि पुलिस ने शिक्षिका की शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की और आखिरकार बदमाशों ने महिला को जिंदा जला दिया।

बड़ी बात, आरोपी अब तक गिरफ्तार नहीं

मृतका शिक्षिका के पति ताराचंद ने गांव के रामकरण, बाबूलाल, गोकुल, मूलचंद, सुरेश चंद, आनंदी, प्रहलाद रेगर, सुलोचना, सरस्वती और विमला पर उसकी पत्नी पर पेट्रोल डालकर आग लगाने का आरोप लगाया है। वहीं ताराचंद का कहना है कि शिकायत के बाद भी पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। अब तक एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। मंगलवार देर रात शिक्षिका की मौत के बाद वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसके बाद पूरा मामला सामने आया।

गर्माया हुआ है टीचर की पिटाई से छात्र की मौत का मामला

जालोर जिले के सायला इलाके के सुराणा गांव में टीचर की पिटाई से हुई छात्र इन्द्र कुमार मेघवाल की मौत का मामला अब तक गर्माया हुआ है। इसे लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि 'आजादी के अमृत महोत्सव में स्वयं को राजस्थान का गांधी कहने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के राज में दलित छात्र की निर्मम हत्या अन्याय की पराकाष्ठा है। आज़ाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आज़ाद ने मुख्यमंत्री द्वारा छात्र के परिजनों को 5 लाख रुपए सहायता राशि दिए जाने पर चंद्रशेखर ने कहा, 'राजस्थान के पूरे दलित समाज को बधाई हो। मुख्यमंत्री जी ने हमारे 9 साल के भाई की जान की कीमत 5 लाख रुपए लगाई है। मुख्यमंत्री जी चाहते है कि 5 लाख रूपए लो और अपने मुंह पर ताला लगा लो। उधर, आरएलपी सांसद हनुमान बेनीवाल ने पश्चिमी राजस्थान के कई स्थानों और देश के कई राज्यों का जिक्र करते हुए कहा कि ऐसे स्थानों पर सामंतवाद की सोच से प्रेरित लोगों की वजह से दलितों को छुआछूत, भेदभाव जैसी समस्याओं से जूझना पड़ता है और दलित दूल्हों को घोड़ी से उतार देना, बराबरी करने पर दलितों की हत्या कर देने जैसी घटनाएं आजादी के दशकों बाद भी हो रही है जो चिंताजनक है।

विधायक मेघवाल समेत कई जनप्रतिनिधि दे चुके इस्तीफे

छात्र की मौत के विरोध में बारां जिले की बारां-अटरू विधानसभा से विधायक पानाचंद मेघवाल ने अपने पद से इस्तीफा मेल के जरिये सीएम अशोक गहलोत और विधानसभाध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी को भेजा है। पानाचंद मेघवाल कोटा संभाग के बारां जिले की बारां-अटरू विधानसभा क्षेत्र से दूसरी बार विधायक बने हैं। विधायक पानाचंद ने लिखा कि कहीं मटकी पर पानी पीने के नाम पर तो कहीं घोड़ी से उतारकर तो कही मूछ रखने पर दलितों को यातनाएं दी जा रही है। राजस्थान में दलित अत्याचारों से आहत हूं। वहीं अब विरोध में दौसा जिले से भी त्याग पत्र आया है। यहां वार्ड संख्या 12 से जिला परिषद सदस्य कल्याण साहय गोठवाल (बैरवा) ने अपना त्याग पत्र दिया है।

Rajasthan : दबंगों ने दलित शिक्षिका को जिंदा जलाया, स्कूल जाते समय पेट्रोल डालकर लगा दी आग; जयपुर के रायसर गांव की घटना
Rajasthan: मासूम की पिटाई पर सियासत! विरोध जायज पर जातिवाद से जोड़ना कहां तक उचित, इस्तीफों से दबाव की राजनीति?
Since independence
hindi.sinceindependence.com