Ram Mandir: 14 घंटे खुलेगा राम मंदिर, इस वक्त भक्त कर सकेंगे दर्शन

Ram Mandir: भगवान राम 22 जनवरी को अपने भव्य मंदिर में विराजने जा रहे हैं। राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह की तैयारियां जोरों पर हैं। राम भक्तों को ध्यान में रखते हुए रोजाना मंदिर 14 घंटे के लिए खोला जाएगा औऱ डेढ़ लाख भक्त दर्शन कर पाएंगे। श्रद्धालु 32 सीढ़ियां चढ़कर अपने आराध्य के दर्शन कर पाएंगे।
Ram Mandir: 14 घंटे खुलेगा राम मंदिर, इस वक्त भक्त कर सकेंगे दर्शन
Ram Mandir: 14 घंटे खुलेगा राम मंदिर, इस वक्त भक्त कर सकेंगे दर्शन

Ram Mandir: भगवान राम 22 जनवरी को अपने भव्य मंदिर में विराजने जा रहे हैं। राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह की तैयारियां जोरों पर हैं।

राम भक्तों को ध्यान में रखते हुए रोजाना मंदिर 14 घंटे के लिए खोला जाएगा औऱ डेढ़ लाख भक्त दर्शन कर पाएंगे। श्रद्धालु 32 सीढ़ियां चढ़कर अपने आराध्य के दर्शन कर पाएंगे।

Ram Mandir: मंदिर के मुख्य द्वार पर लगी मनमोहक मूर्तियां

बता दें कि जब आप मंदिर में दर्शन करने के लिए प्रवेश द्वार पर जाएंगे तो वहां पर कदम रखने के साथ ही गणेश जी, हनुमान जी के साथ ही गरुड़ देव के दर्शन कर पाएंगे।

इसी के साथ ही शेर की भी मूर्ति स्थापित की गई है। राम मंदिर को रोजाना सुबह 7 बजे से लेकर 11 बजकर 30 मिनट तक खुला रहेगा।

वहीं दोपहर में 2 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक मंदिर खुला रहेगा। इस दौरान सभी भक्त भगवान राम के दर्शन कर सकेंगे। हालांकि आगे चलकर इन समय में बदलाव किया जा सकता है।

Ram Mandir: 25 मीटर दूर से ही अपने आराध्य के दर्शन कर सकेंगे भक्त

श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि 8 दिशाएं, अंष्ट भुजाएं और विष्णु के 8 स्वरूपों को ध्यान में रखकर ही गर्भगृह अष्टकोणीय बनाया गया है।

साथ ही भगवान के गुणों को ध्यान में रखते हुए नक्काशी की गई है। गर्भगृह को ऐसा बनाया गया है कि राम भक्त 25 मीटर दूर से ही अपने आराध्य की छवि को निहार सकेंगे।

राममंदिर में विष्णु के दशावतार, 64 योगिनी, 52 शक्तिपीठ और सूर्य के 12 स्वरूप की मूर्तियां बनाई गई हैं। हर पिलर में 16-16 मूर्तियां बनायी गयी हैं। मंदिर में ऐसे ही कुल 250 पिलर हैं।

Ram Mandir: 14 घंटे खुलेगा राम मंदिर, इस वक्त भक्त कर सकेंगे दर्शन
सिंह द्वार से होगा प्रवेश...गर्भगृह में होंगे बालस्वरूप राम लला; सामने आई मनमोहक तस्वीरें

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com