केरल में हथिनी की मौत के मामले में अमजत अली और तमीम शेख की गिरफ्तारी का दावा गलत,जाने सच्चाई

सीन्स इंडिपेंडेंस न्यूज़ ने केरल के वन विभाग और पलक्कड़ के पुलिस अधीक्षक जी सिवा विक्रम से संपर्क किया जिन्होंने सोशल मीडिया के दावों को "नकली" करार दिया और बताया कि मामले में पी विल्सन नाम के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।
केरल में हथिनी की मौत के मामले में अमजत अली और तमीम शेख की गिरफ्तारी का दावा गलत,जाने सच्चाई

न्यूज़- केरल के पलक्कड़ में एक हाथी की भयानक मौत भारतीय मुस्लिम आबादी को टारगेट करने के लिए एक और मुद्दा बन गया है। फिलहाल आप सब जानते है की विस्फोटक अनानास उसके मुंह में देने से एक हथिनी की मौत हो गई है, कई सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने दावा किया कि अपराध के लिए गिरफ्तार किए गए व्यक्ति अमजथ अली और थामिम शेख हैं। अमर प्रसाद रेड्डी, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री के मीडिया सलाहकार, ट्वीट करने वाले शुरुआती लोगों में से एक थे। बाद में उन्होंने बयान में फेर बदल किया लेकिन उससे पहले इनकी पोस्ट को हजारों लाइक और रीट्वीट (संग्रह) मिल चुके थे । बाद में ट्वीट करके स्पष्टीकरण दिया।

सीन्स इंडिपेंडेंस न्यूज़ ने केरल के वन विभाग और पलक्कड़ के पुलिस अधीक्षक जी सिवा विक्रम से संपर्क किया जिन्होंने सोशल मीडिया के दावों को "नकली" करार दिया और बताया कि मामले में पी विल्सन नाम के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। डीडी न्यूज मलयालम और हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा भी यही बताया गया।

थिरुवाझमकुन्नु वन स्टेशन, डिप्टी रेंज ऑफिसर, एम शशिकुमार ने सीन्स इंडिपेंडेंस गिरफ्तारी की पुष्टि की। विल्सन जिले में एक वृक्षारोपण में रबड़ के टेपर के रूप में काम करता है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है, "वन विभाग ने इस मामले में तीन लोगों की पहचान की, लेकिन पूछताछ के बाद दो लोगों को छोड़ दिया।" एसपी विक्रम ने ऑल्ट न्यूज़ को बताया कि जिन दो लोगों को छोड़ दिया गया उनका नाम अमज़थ अली और थमीम शेख नहीं था।

मलयालम समाचार के आउटलेट्स मातृभूमि और जन्मभूमि ने बताया कि रबर प्लांटेशन के मालिक जहां विल्सन काम करते हैं वे भी मामले में संदिग्ध हैं। उनका नाम अब्दुल करीम और उसके बेटे का नाम रियाजुद्दीन हैं। यह भी एसपी विक्रम द्वारा पुष्टि की गई थी उन्होंने कहा था कि ये दोनों बाप-बेटे फिलहाल फरार है।

मुस्लिम विरोधी कहानी को आगे बढ़ाने वालों रवि राय भी थे (संग्रह), भाजपा नेता वरुण गांधी की सचिव इशिता यादव (संग्रह), विहिप सदस्य अभिषेक मिश्रा (संग्रह), भाजपा यूपी सदस्य ऋचा राजपूत (संग्रह), ओपइंडिया के उप-संपादक अनुपम सिंह शामिल थे। (संग्रह), स्तंभकार राकेश कृष्णन सिम्हा (संग्रह), ट्विटर यूजर BALA @erbmjha (संग्रह) और केरल में हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी के ट्विटर अकाउंट Indu Makkal Katchi (संग्रह)।

पहले की एक रिपोर्ट में Since Independence ने रिपोर्टों को खारिज कर दिया था जिनमें दावा किया गया था कि यह घटना मलप्पुरम में हुई थी। जिले की मुस्लिम बहुसंख्यक आबादी ने सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक गलत जानकारी दी। यह मामला पलक्कड़ से जुड़ा है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com