क्या खत्म होने वाला है रूस-यूक्रेन युद्ध, चीन मध्यस्थता को तैयार

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मध्यस्थता को लेकर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फोन पर बातचीत की। जिनपिंग ने कहा कि हम विश्व में शांति बनाए रखना चाहते है।
क्या खत्म होने वाला है रूस-यूक्रेन युद्ध, चीन मध्यस्थता को तैयार

यूक्रेन-रूस युद्ध में यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र पर रूस के हमले की आशंका जताई गई है। इस परमाणु संयंत्र का नाम पोरिजिया परमाणु ऊर्जा संयंत्र है। यह न केवल यूक्रेन में बल्कि पूरे यूरोप में सबसे बड़ा परमाणु ऊर्जा संयंत्र है। ऐसे ही हमले में 36 साल पहले चेरनोबिल बर्बाद हुआ था। अब इससे 10 गुना बड़े खतरे की आंशका बताई जा रही है।

पिछले 112 दिनों से चल रहा है युद्ध

24 फरवरी को शुरू हुए इस संघर्ष को 112 दिन पूरे हो चुके हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने दावा किया है कि रूस यूक्रेन के 20 प्रतिशत हिस्से को नियंत्रण में ले चुका है। यह रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध की सही स्थिति दर्शाने के लिए काफी है।

युद्ध में किसका-कितना नुकसान

युद्ध से पहले, Svyrodonetsk की आबादी एक मिलियन के करीब थी, लेकिन अब यह लगभग 12,000 लोगों के होने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि 500 ​​से अधिक नागरिकों ने एज़ोट रासायनिक संयंत्र में शरण ली है। जिस पर रूसी सेना द्वारा भीषण गोलाबारी की जा रही है।

लुहान्स्क क्षेत्र से सोमवार को कुल 70 नागरिकों को सुरक्षित निकाल लिया गया। इस बीच एक रूसी सैन्य अधिकारी ने कहा कि Svyrodonetsk में एज़ोट रासायनिक संयंत्र से नागरिकों को निकालने के लिए बुधवार को एक मानवीय गलियारा खोला जाएगा।

जो बाइडेन ने दो रूसी वित्तीय संस्थानों वीईबी और रूसी सैन्य बैंक पर प्रतिबंध लगा दिया है। बाइडेन ने घोषणा की है कि रूसी अर्थव्यवस्था के कुछ हिस्सों को अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली से हटाया जा रहा है।
जो बाइडेन ने दो रूसी वित्तीय संस्थानों वीईबी और रूसी सैन्य बैंक पर प्रतिबंध लगा दिया है। बाइडेन ने घोषणा की है कि रूसी अर्थव्यवस्था के कुछ हिस्सों को अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली से हटाया जा रहा है।तस्वीर- दैनिक भास्कर

रूस-यूक्रेन विवाद पर इन देशों का क्या रहा रुख

अमेरिका- यूक्रेन की सीमा पर रूसी सेना के जमा होने का अमेरिका शुरू से ही विरोध करता रहा है। वह हमेशा चेतावनी देता रहा है कि रूसी सेनाएं कभी भी यूक्रेन पर हमला कर सकती हैं। रूस के राष्ट्रपति द्वारा यूक्रेन के दो अलगाववादी क्षेत्रों को स्वतंत्र क्षेत्रों के रूप में मान्यता देने पर अमेरिका रूस पर कड़े प्रतिबंध लगा रहा है।

जो बाइडेन ने दो रूसी वित्तीय संस्थानों वीईबी और रूसी सैन्य बैंक पर प्रतिबंध लगा दिया है। बाइडेन ने घोषणा की है कि रूसी अर्थव्यवस्था के कुछ हिस्सों को अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली से हटाया जा रहा है। इसके साथ ही अमेरिका रूस के अमीर लोगों और उनके परिवारों पर भी प्रतिबंध लगा रहा है।

वहीं अमेरिका, यूक्रेन को हथियारों के जरिए मदद दे रहा है। यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कुलेबा ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका ने यूक्रेन को और हथियार देने का वादा किया है। हालांकि, अमेरिका ने स्पष्ट किया है कि वह यूक्रेन में रूस के खिलाफ अपनी सेना नहीं भेजेगा।

प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि यह एक बहुत ही खतरनाक संकेत है और रूस के इस कदम से यूक्रेन की संप्रभुता का उल्लंघन होगा। ब्रिटेन ने 6 रूसी बैंकों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।
प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि यह एक बहुत ही खतरनाक संकेत है और रूस के इस कदम से यूक्रेन की संप्रभुता का उल्लंघन होगा। ब्रिटेन ने 6 रूसी बैंकों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। तस्वीर- ABP NEWS

ब्रिटेन- यूक्रेन पर ब्रिटेन-रूस का हमला शुरू हो गया है और इसे देखते हुए रूस पर प्रतिबंध कड़े किए जाएंगे। प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि यह एक बहुत ही खतरनाक संकेत है और रूस के इस कदम से यूक्रेन की संप्रभुता का उल्लंघन होगा। ब्रिटेन ने 6 रूसी बैंकों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। रूस के तीन सबसे बड़े अरबपतियों की ब्रिटेन स्थित संपत्ति को भी फ्रीज कर दिया गया है और ब्रिटेन में उनके प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

 फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से किया वादा तोड़ दिया और अब फ्रांस रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाएगा। फ्रांस ने भी रूस पर यूरोपीय संघ द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों का स्वागत किया है।
फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से किया वादा तोड़ दिया और अब फ्रांस रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाएगा। फ्रांस ने भी रूस पर यूरोपीय संघ द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों का स्वागत किया है।तस्वीर- news prdafas

फ्रांस- रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने सोमवार को राष्ट्र के नाम एक संबोधन में यूक्रेन के दो क्षेत्रों को स्वतंत्र राज्यों के रूप में मान्यता दी। फ्रांस ने पुतिन के संबोधन को 'पागलपन' बताया है। फ्रांस ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से किया वादा तोड़ दिया और अब फ्रांस रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाएगा। फ्रांस ने भी रूस पर यूरोपीय संघ द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों का स्वागत किया है। मैक्रों लगातार कहते रहे हैं कि यूक्रेन पर हमला करने पर रूस को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी।

जर्मनी - जर्मनी ने रूस की नॉर्ड स्ट्रीम 2 गैस पाइपलाइन को बंद कर दिया है। रूस इस प्रोजेक्ट के जरिए जर्मनी को गैस पहुंचाने वाला था। जर्मनी ने कहा है कि रूस के हालिया कदम को लेकर यह फैसला लिया गया है। जर्मनी शुरू से ही यूक्रेन के पक्ष में रहा है।

बेलारूस - बेलारूस, रूस का बहुत करीबी सहयोगी रहा है। ऐसे समय में जब रूस-यूक्रेन तनाव अपने चरम पर है और युद्ध कभी भी शुरू हो सकता है। बेलारूस रूस के साथ सैन्य अभ्यास कर रहा है। 10 फरवरी से शुरू हुआ सैन्य अभ्यास 20 फरवरी को खत्म होने वाला था लेकिन अब इसे फिर से बढ़ा दिया गया है और दोनों देशों की सेनाएं यूक्रेन की सीमा के पास सैन्य अभ्यास कर रही है।

बेलारूस ने सोमवार को कहा कि नाटो के हटने पर रूसी सेना अपनी जमीन छोड़ देगी। नाटो देश पोलैंड, लातविया और लिथुआनिया, बेलारूस के साथ सीमा साझा करते हैं। जहाँ नाटो ने सेना तैनात की है।

चीन ने इस मसले पर शुरू से तटस्थ भूमिका रखी। हम विश्व में शांति बनाए रखना चाहते है। जिनपिंग का यह रूख अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के युध्द के शुरूआती दिनों में किए गए अनुरोधों के काफी बाद सामने आया है।
चीन ने इस मसले पर शुरू से तटस्थ भूमिका रखी। हम विश्व में शांति बनाए रखना चाहते है। जिनपिंग का यह रूख अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के युध्द के शुरूआती दिनों में किए गए अनुरोधों के काफी बाद सामने आया है।तस्वीर- Patrika

चीन ने की मध्यस्तता की बात स्वीकार

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस बारे में भूमिका निभाने का प्रस्ताव रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फोन पर बातचीत करने के बाद रखा है। चीन के सरकारी टेलीविजन चैनल ने जिनपिंग के हवाले से कहा, चीन ने इस मसले पर शुरू से तटस्थ भूमिका रखी। हम विश्व में शांति बनाए रखना चाहते है। जिनपिंग का यह रूख अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के युध्द के शुरूआती दिनों में किए गए अनुरोधों के काफी बाद सामने आया है।

क्या खत्म होने वाला है रूस-यूक्रेन युद्ध, चीन मध्यस्थता को तैयार
खाद्य संकट से निपटने के लिए श्रीलंकाई सरकार की नई तरकीब, सरकारी कर्मचारियों को सब्जी उगाने के लिए मिलेगी हफ्ते में एक्सट्रा लीव

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com