UNSC: यूएन की सुरक्षा परिषद में भारत जैसे देशों की जरूरत, पीएम मोदी दूरदृष्टा व्यक्ति; UN जनरल असेंबली प्रमुख का बड़ा बयान

UNSC: यूएन जनरल असेंबली के अध्यक्ष साबा कोरोसी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में नए सुधार की आवश्यकता है। ऐसे में भारत जैसे दुनिया में तेजी से उभरते देशों की इस परिषद में जरूरत है।
फाइल फोटो
फाइल फोटो

UNSC: भारतीय प्रधानमंत्री यूएस के लिए रवाना हो चुके हैं। अमेरिका ने राजकीय यात्रा पर भारतीय प्रधानमंत्री को आमंत्रित करके भारत की अहमियत को दर्शाया है। वहीं संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत जैसे देश की जरूरत को रेखांकित करते हुए संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के प्रमुख ने एक बड़ा बयान दिया है।

यूएनजीए के अध्यक्ष साबा कोरोसी ने कहा कि सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों के बीच एक धारणा है कि हसमें बेहतर प्रतिनिधियों की आवश्यकता है जिनके पास लोगों की भलाई और शांति की बड़ी जिम्मेदारी है। ऐसे में भारत निश्चित तौर पर उन देशों में से है जो दुनिया की भलाई में योगदान कर सकता हैं।

कोरोसी ने पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में अपनी बात रखते हुए कहा कि वे एक दूर दृष्टि वाले व्यक्ति, रणनीतिक सोच और गहरी परंपरा वाले व्यक्ति हैं। जो अपने राष्ट्र को एक एक बहुत गहरी परंपरा और एक स्पष्ट दृष्टि से देखते हैं। मुझे उनका अभिवादन करते हुए बहुत खुशी हो रही है।

सुरक्षा परिषद में सुधार पर लंबी चर्चा

यूएनएससी के लिए भारत की उम्मीदवारी पर कोरोसी ने कहा कि जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) बनाया गया था उस समय भारत 'सबसे बड़े देशों' में से नहीं था।

उन्होंने आगे कहा कि यूएनएससी में सुधार होगा। सुधार का मामला 13 वर्षों से बातचीत की प्रक्रिया में चल रहा है। सुरक्षा परिषद में सुधार की संभावित आवश्यकता पर पहली चर्चा 40 साल पहले शुरू हुई थी लेकिन कोई भी बदलाव सदस्य राज्यों के हाथों में है।

वीटो अधिकार मामले में सदस्य देश दें अपनी राय

यूएनजीए के अध्यक्ष ने कहा कि सदस्य देश इस बात पर सहमति दें कि सुरक्षा परिषद में सुधार कैसे हो? स्थायी सदस्यों के मामले में, वीटो के अधिकार के मामले में, सुरक्षा परिषद और शायद संयुक्त राष्ट्र के बीच बेहतर संबंध कैसे होना चाहिए, ये सभी काम यह सब सदस्य देशों के हाथों में है।

उन्होंने कहा कि भारत सुरक्षा परिषद के शुरुआती सुधारों के लिए शायद सबसे सक्रिय अधिवक्ताओं में से एक है। भारत को संभावित महाशक्ति देश बताते हुए यूएनजीए प्रमुख ने कहा कि जनसंख्या, अर्थव्यवस्था, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के मामले में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है।

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com