भारतवंशी के लिए ऐसी क्या नाराजगी, क्यों ऋषि के विरोध में खुलकर सामने आए बोरिस जॉनसन?

बोरिस खुलकर ऋषि के विरोध में आ गए हैं। हालांकि सुनक दो राउंड के बाद एक अच्छी बढ़त बनाए हुए हैं लेकिन सुनक की ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने की ये राह इतनी आसान नजर नहीं है
भारतवंशी के लिए ऐसी क्या नाराजगी, क्यों ऋषि के विरोध में खुलकर सामने आए बोरिस जॉनसन?

भारतवंशी नेता से आखिर बोरिस जॉनसन को ऐसी क्या चिढ़ है कि वो ऋषि सुनक को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के रूप में नहीं देखना चाहते । बोरिस खुलकर ऋषि के विरोध में आ गए हैं। हालांकि सुनक दो राउंड के बाद एक अच्छी बढ़त बनाए हुए हैं लेकिन सुनक की ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने की ये राह इतनी आसान नजर नहीं है । सबसे बड़ी समस्या हैं खुद पूर्व प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन हैं ।

“बैक एनीवन बट ऋषि(BACK ANYONE BUT RISHI)”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बोरिस जॉनसन, ऋषि को छोड़कर किसी भी दूसरे उम्मीदवार का समर्थन करने को तैयार है । वो दूसरे उम्मीदवारों से भी अपील कर रहे हैं कि कोई भी किसी भी कीमत पर सुनक को समर्थन ना दें । बताया जा रहा है कि बोरिस जॉनसन ने गुप्त रूप से एक अभियान चलाया है जिसका नाम बताया जा रहा है “बैक एनीवन बट ऋषि(BACK ANYONE BUT RISHI)” । बता दें कि बोरिस ने खुलकर किसी का समर्थन नहीं किया है लेकिन गुप्त रूप से वो लिज ट्रूस या पेरी मॉन्डेंट को सपोर्ट कर रहे हैं ।

बोरिस ऋषि को मान रहे सत्ता जाने का कारण

इस पूरे मामले में बड़ी बात ये है कि बोरिस जॉनसन अपनी सत्ता जाने का मुख्य कारण ऋषि को ही मान रहे हैं । बोरिस का मानना है कि ऋषि उन्हें सत्ता से बेदखल करने की साजिश कर रहे थे । वहीं एक रिपोर्ट के अनुसार बोरिस साजिद जावेद को सत्ता जाने के लिए जिम्मेदार नहीं मानते ।

मजबूत स्थिति में है ऋषि सुनक

अभी के लिए ऋषि सुनक की स्थिति काफी मजबूत दिखाई देती है। लगातार दो राउंड में उन्हें सर्वधिक वोट मिले हैं। शुक्रवार को भी सुनक समेत टॉम टुजेंट, पेनी मॉरडन्ट, केमी बडेनोच और लिज ट्रस के बीच टेलीविजन डिबेट हुई। इसमें भी सुनक का पलड़ा भारी रहा।

श्वेत वोटों को अपनी ओर झुकाने में जुटे सुनक

राजनीतिज्ञ के अनुसार सुनक के लिए कंजर्वेटिव पार्टी के लगभग 2 लाख वोट बेहद जरूरी हैं । अगर समीकरणों की बात करें तो कंजर्वेटिव पार्टी के वोटरों में 44% की उम्र 66 साल से अधिक है । जिनमें 97% वोटर श्वेत हैं । प्रधानमंत्री पद पाने के लिए सुनक को श्वेत वोट बैंक को साधना होगा । इसी के लिए ऋषि ने “रेडी फॉर ऋषि(READY FOR RISHI)” नाम का कैंपेन चला रहे हैं ।

भारतवंशी के लिए ऐसी क्या नाराजगी, क्यों ऋषि के विरोध में खुलकर सामने आए बोरिस जॉनसन?
ड्रेस नहीं दिलाई तो बेटे ने चुनी मौत, मां को जिन्दगी भर याद रहेगा ये बर्थडे

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com