पकड़ा गया चंबल का डाकू, 24 साल से फरार, हत्या और लूट के दर्जनों केस दर्ज

मध्य प्रदेश में कुख्यात डकैत गिरधारी पर 10 मामले दर्ज हैं। राजस्थान में भरतपुर जिले के हलैना और वैर में एक-एक मामला दर्ज है। भरतपुर पुलिस 1998 से इस कुख्यात आरोपी की तलाश कर रही थी। आरोपी चंबल नदी के किनारे अपने गांव जेवरा से भागकर फिरोजाबाद के पास यमुना के किनारे छिप गया था
पकड़ा गया चंबल का डाकू, 24 साल से फरार, हत्या और लूट के दर्जनों केस दर्ज

भरतपुर की जिला विशेष टीम (डीएसटी) की टीम ने 24 साल से फरार एक कुख्यात डकैत को गिरफ्तार किया है। कभी बंदूक लेकर राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर खौफ पैदा करने वाला डकैत उस समय लाठी के सहारे घूम रहा था, जब उसे पकड़ा गया। उम्र 65 से अधिक है। आरोपियों के खिलाफ मध्य प्रदेश और राजस्थान में 5 हत्या और 7 डकैती के मामले दर्ज हैं। मध्य प्रदेश और भरतपुर पुलिस आरोपियों की तलाश में थी। डकैत गिरधारी आगरा के पास चंबल नदी के किनारे जेवरा गांव में रहता था। अगर पुलिस ने छापा मारा होता तो वह चंबल पार कर मध्य प्रदेश की सीमा में चला जाता। मध्य प्रदेश और राजस्थान ने उस पर चार हजार रुपये का इनाम रखा था।

1998 से थी तलाश
मध्य प्रदेश में कुख्यात डकैत गिरधारी पर 10 मामले दर्ज हैं। राजस्थान में भरतपुर जिले के हलैना और वैर में एक-एक मामला दर्ज है। भरतपुर पुलिस 1998 से इस कुख्यात आरोपी की तलाश कर रही थी। आरोपी चंबल नदी के किनारे अपने गांव जेवरा से भागकर फिरोजाबाद के पास यमुना के किनारे छिप गया था। पुलिस ने 22 दिनों तक तलाशी अभियान चलाकर डकैत को पकड़ लिया।
दर्ज मामले
दर्ज मामले

लोगों को हथियारों के बल पर बंधक

कुख्यात डकैत गिरधारी ने साल 1998 में भरतपुर के वैर कस्बे में एक सुनार के घर पर आधी रात को छापा मारा था। गिरधारी के साथ 10 हथियारबंद डकैत भी थे। वह रवींद्र सोनी के बेटे छुट्टन सोनी के घर में घुसा था। उसने घर के सभी लोगों को हथियारों के बल पर बंधक बना लिया और सभी नकदी और जेवर लेकर फरार हो गया. छुट्टन सोने-चाँदी के प्रसिद्ध व्यापारी थे। इस घटना के बाद सोनी परिवार ने हलैना थाने में मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने आईपीसी की धारा 395, 397 के तहत मामला दर्ज किया था।

10 घर लगभग सभी लोग अपराधों में लिप्त
डकैत गिरधारी आगरा जिले के जेवरा गांव का रहने वाला है। जेवरा गांव चंबल नदी के किनारे बसा है। गांव चंबल के बीहड़ों में है। उस समय गांव में 10 घर थे। लगभग सभी लोग अपराधों में लिप्त थे। वारदात को अंजाम देने के बाद गांव में छिप जाते थे। गांव की संरचना ऐसी थी कि बाहर से गांव की ओर आने वाला व्यक्ति 1 किलोमीटर दूर से ही दिखाई दे रहा था। इससे बदमाशों को खड्ड में छिपने का मौका मिल जाता था, वे खड्ड के रास्ते चंबल पार कर मध्य प्रदेश भाग जाते थे।

यूपी के फिरोजाबाद से डकैत गिरफ्तार

डकैत गिरधारी को पकड़ने के लिए भरतपुर की डीएसटी टीम ने करीब 22 दिन पहले जेवरा गांव में छापेमारी की थी। तब गिरधारी भाग गया था। वह इधर-उधर छिपता रहा। अपना स्थान बदलते रहें। यूपी के फिरोजाबाद में यमुना के नालों में डकैत के होने की सूचना पुलिस को मिली थी। सूचना पर पुलिस ने छापेमारी कर डकैत गिरधारी को फिरोजाबाद से गिरफ्तार कर लिया है।

पकड़ा गया चंबल का डाकू, 24 साल से फरार, हत्या और लूट के दर्जनों केस दर्ज
J&K: पुलवामा में आतंकियों ने की सब इंस्पेक्टर की हत्या, टारगेट किलिंग का बढ़ा खौफ

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com