डिप्रेशन का शिकार युवती सुइसाइड करने गई, फरिश्ता बनकर आ गया ऑटो का ड्राइवर

अगर ऑटो चालक एक मिनट भी देरी करता तो हादसा हो सकता था
डिप्रेशन का शिकार युवती सुइसाइड करने गई, फरिश्ता बनकर आ गया ऑटो का ड्राइवर

डेस्क न्यूज. मध्य प्रदेश के बैतूल में एक ऑटो चालक की सूझबूझ और हिम्मत से एक युवती की जान बच गई. ट्रेन के आगे आकर आत्महत्या करने की कोशिश कर रही युवती को ऑटो चालक ने बिना देर किए रेलवे ट्रैक से खींचकर साइड किया. इसके बाद बहादुर ऑटो चालक ने लडकी को वहां मौजूद लोगों के हवाले कर दिया और अपनी सवारी लेकर निकल गया.

ऑटो चालक ने बिना देरी करें युवती को रेलवे लाइन से हटाया

बैतूल के सोनघाटी रेलवे गेट पर सोमवार को करीब 11.15 पर एक

युवती ने ट्रेन के सामने आत्महत्या करने की तैयारी में थी।

वह काफी देर तक रेलवे फाटक के पास खड़ी रही।

जैसे ही ट्रेन आ रही थी, वह पटरियों के बीच में जा कर खडी हो गई।

बैतूल से इटारसी जाने वाली तेज रफ्तार ट्रेन और युवती के बीच कुछ ही दूरी थी।

तभी गेट के पास खड़े ऑटो चालक की नजर उस पर पड़ी।

वह बिना देर किए लड़की के पास पहुंचा और उसे वहां से हटा दिया।

घटना को ऑटो में बैठे लोगों ने मोबाइल कैमरे में कैद कर लिया

इस घटना को ऑटो में बैठे लोगों ने मोबाइल कैमरे में कैद कर लिया, जो अब वायरल हो रहा है.

शहर में इस घटना की चर्चा होने के साथ ही लोग उस ऑटो चालक के साहस की भी तारीफ कर रहे हैं

जिसने अपनी जान की परवाह किए बिना उसे लडकी को सुरक्षित बचा लिया.

अगर ऑटो चालक एक मिनट भी देरी करता तो हादसा हो सकता था

ऑटो चालक मोहसिन शाह का कहना है कि सोमवार सुबह वह यात्रियों को लेकर पॉलिटेक्निक कॉलेज की ओर जा रहा था।

ट्रेन के आने से पहले सोनाघाटी का रेलवे स्टेशन बंद होने के कारण वह रुक गया. पास ही एक युवती रो रही थी।

ट्रेन के हॉर्न की आवाज सुनते ही उसने किसी से मोबाइल पर बात की और तुरंत गेट में लगे लोहे के खंभे के नीचे से निकलकर पटरी पर खड़ी हो गई.

सामने से ट्रेन आ रही थी और रेलवे ट्रैक पर खड़ी लड़की को देखकर उसे मामला समझ में आया।

वह तुरंत ऑटो से उतरे और गेट के नीचे से रेलवे ट्रैक की तरफ भागा।

मोहसिन शाह  ने हाथ पकड़कर लड़की को वहा से हटाया।

लडकी जोर-जोर से रोने लगी। अगर ऑटो चालक एक मिनट भी देरी करता तो हादसा हो सकता था।

वह लड़की को ऑटो ले आया। वहां मौजूद लोगों ने उसकी समस्या पूछी लेकिन वह किसी को कुछ नहीं बता रही थी।

रेलवे गेट पर तैनात गार्ड ने परिजनों की सूचना पर उन्हें मौके पर बुलाया। परिजन उसे अपने साथ ले गए। बताया जा रहा है

कि लड़की ने एमबीए की पढ़ाई की है और नौकरी न मिलने और खराब सेहत के चलते डिप्रेशन में है.

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com