Kunal Bhatnagar

मैं शब्दों की क्रांति ज्वाल हु़ं, वर्तमान को गाऊंगा, जिस दिन मेरी आग बुझेगी, मैं उस दिन मर जाऊंगा
Connect :
Kunal Bhatnagar
Since independence
hindi.sinceindependence.com