असिस्टेंट कमांडेंट का ज्वाइनिंग लेटर भी था,सनमति के दिल में लड़के के लिए बेइंतिहा प्यार भी था,फिर सनमित को क्यों मिली सलाखें

सनमती ने इंटरनेट से बीएसएफ द्वारा जारी चयन सूची निकाली। इसे संपादित किया और नाम जोड़ा। इसके बाद इंटरनेट से ही ज्वाइनिंग लेटर को कॉपी किया और इस फाइल को एडिट सॉफ्टवेयर में सेव कर अपना नाम और फोटो डाल दिया। उसकी योजना थी कि शादी करने के बाद वह यह कहते हुए पत्र फाड़ देगी कि वह नौकरी नहीं करेंगी
असिस्टेंट कमांडेंट का ज्वाइनिंग लेटर भी था,सनमति के दिल में लड़के के लिए बेइंतिहा प्यार भी था,फिर सनमित को क्यों मिली सलाखें

असिस्टेंट कमांडेंट का ज्वाइनिंग लेटर भी था,सनमति के दिल में लड़के के बेइंतिहा प्यार भी था,फिर सनमित को क्यों मिली सलाखें

ग्वालियर में 22 साल की एक लड़की ने प्यार के जुनून में सारी हदे पार कर दी। जिसके चलते उन्हें जेल जाना पड़ा। लड़की महाराष्ट्र की रहने वाली है और उसका नाम सनमती क्षिप्रे है, वह डबरा ग्वालियर के एक बैंक कर्मचारी से प्यार करती है। और उससे शादी करना चाहती थी । लड़का महाराष्ट्र के कोल्हापुर में ही काम करता है।

लड़के का परिवार लाना चाहता अफसर बहू
लड़के के परिवार को अफसर बहू चाहिए थी। जिसके बाद लड़की ने प्यार पाने के लिए झूठी कहानी गढ़ी। उसने इंटरनेट से कुछ पुराने ज्वाइनिंग लेटर निकाले। उनके साथ हेराफेरी कर उसने बीएसएफ अकादमी टेकनपुर में सहायक कमांडेंट का घर में फर्जी जॉइनिंग लेटर बनाया। उसने सोचा कि जब उसकी शादी होगी तो वह सब कुछ बता देगी, लेकिन उससे पहले पोल खुल गई। उसके ससुराल वाले उसे ज्वाइन करने के लिए बीएसएफ अकादमी ले गए। वहां ज्वाइनिंग लेटर फर्जी निकला। धोखाधड़ी के मामले में बीएसएफ अधिकारियों ने पुलिस बुलाकर उसे गिरफ्तार कर लिया।

ज्वाइनिंग लेटर दिया तो ट्रेनिंग ऑफिसर अपनी सीट से खड़े हो गए

कोल्हापुर (महाराष्ट्र) की सन्मति 21 फरवरी को बीएसएफ अकादमी टेकनपुर (ग्वालियर) में एक पत्र के साथ सहायक कमांडेंट का प्रशिक्षण लेने पहुंची थी। वहां उन्होंने अपना ज्वाइनिंग लेटर दिया तो ट्रेनिंग ऑफिसर अपनी सीट से उठ खड़े हुए। दरअसल, पत्र पर उप महानिरीक्षक बीएसएफ डीके उपाध्याय के हस्ताक्षर थे। वह साल 2012 में ही रिटायर हो गए थे।

बीएसएफ अधिकारी ने पुलिस को बुलाया। पहले तो युवती पुलिस को गुमराह करती रही। लड़की ने पुलिस को बताया कि कोल्हापुर में एक व्यक्ति ने उसे ढाई तोला सोना और 20 हजार रुपये के साथ ज्वाइनिंग लेटर दिया है। इसकी जांच के लिए पुलिस लड़की को लेकर कोल्हापुर भी पहुंच गई। वहां वह पत्र देने वाले के बारे में कुछ नहीं बता सकी। उससे फिर सख्ती से पूछताछ की गई। तब उसने बताया कि उसने यह पत्र बनाया है।

जांच में लड़की ने बताया है कि वह एनसीसी कैडेट रह चुकी है। उसके पास सी कैटेगरी का सर्टिफिकेट है। एनसीसी कैडेट होने के साथ-साथ वह राजपथ पर परेड भी कर चुकी हैं। उससे और पूछताछ की जा रही है।
एएसपी क्राइम राजेश डंडौतिया

इंटरनेट से ही ज्वाइनिंग लेटर को कॉपी कर एडिट किया

सनमती ने इंटरनेट से बीएसएफ द्वारा जारी चयन सूची निकाली। इसे संपादित किया और नाम जोड़ा। इसके बाद इंटरनेट से ही ज्वाइनिंग लेटर को कॉपी किया और इस फाइल को एडिट सॉफ्टवेयर में सेव कर अपना नाम और फोटो डाल दिया। उसकी योजना थी कि शादी करने के बाद वह यह कहते हुए पत्र फाड़ देगी कि वह नौकरी नहीं करेंगी।

परिवार ने सबको बताया बहू का BSF में हो गया चयन

सनमती ने पुलिस को बताया कि उसने फरवरी में ज्वाइनिंग लेटर तैयार किया था। यह सोचा था कि अगर उसकी शादी हुई तो वह सब कुछ खुद बताएगी, लेकिन इस बीच उसके ससुराल वालों ने एक नई शर्त रखी कि लड़के की बहन की शादी पहले होगी। इधर, लड़के के परिवार वालों ने पड़ोस में ही बताया था कि उसकी होने वाली बहू का चयन बीएसएफ में हो गया है।

<div class="paragraphs"><p>असिस्टेंट कमांडेंट का ज्वाइनिंग लेटर भी था,सनमति के दिल में लड़के के बेइंतिहा प्यार भी था,फिर सनमित को क्यों मिली सलाखें</p></div>
अवैध संबंधों के शक में अर्धनग्न कर महिला को पीटा, वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर किया वायरल

Related Stories

No stories found.