Gujarat Election 2022: अब कॉमन सिविल कोड से 'प्यार', कांग्रेस पर वार... केजरीवाल ने क्यों बदली चाल?

गुजरात चुनाव में APP के संयोजक केजरीवाल बड़ी सूझ बूझ के साथ चुनावी दाव चल रहे हैं। पहले नोटों पर लक्ष्मी-गणेश और अब केजरीवाल कॉमन सिविल कोड का समर्थन कर रहे हैं, साथ ही अधिकतर कांग्रेस पर कर रहे हैं, ऐसे में केजरीवाल की यह बदली चाल के गहरे मायने लगते हैं। जानें पूरा मामला...
Gujarat Election 2022: अब कॉमन सिविल कोड से 'प्यार', कांग्रेस पर वार... केजरीवाल ने क्यों बदली चाल?

गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी बड़ी सधी चाल से वोटरों को साधने का काम कर रही है। पार्टी के संयोजक और दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल बड़ी सूझ बूझ के साथ निर्णय लेकर चुनावी दाव चल रहे हैं। ओबीसी, आदिवासी और पाटीदारों को साधने के लिए केजरीवाल ने 'OTP' फार्मूला अपनाया है, वहीं इशुदान गढ़वी को सीएम उम्मीदवार बनाकर गढ़वी समुदाय को साधने का काम किया है।

बड़ी बात यह है कि केजरीवाल ने गुजरात में अब तक जितने भी उम्मीदवार उतारे हैं, उनमें एक भी मुस्लिम समुदाय से नहीं है। साथ ही केजरीवाल ने अब कॉमन सिविल कोड का भी समर्थन कर दिया। इससे पहले केजरीवाल भारतीय नोटों पर लक्ष्मी जी और गणेश जी का चित्र छापे जाने की वकालत कर चुके, जिस पर खूब सियासत हुई।

ऐसे में अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या आम आदमी पार्टी गुजरात चुनाव में हिन्दुत्व कार्ड खेल रही है। केजरीवाल गुजरात में भाजपा को ही अपना प्रतिद्वंदी मान रहे हैं, कांग्रेस को वे तीसरे स्थान पर बता रहे हैं। अपने बयान में वे कांग्रेसी मतदाताओं से कांग्रेस को वोट नहीं देने देने की अपील कर चुके।

केजरीवाल ने किया कॉमन सिविल कोड का समर्थन

एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में सीएम केजरीवाल से पूछा गया कि, आप हार्डकोर हिंदुत्व की बात करते हैं। माइनॉरिटी की बात नहीं करते हैं। कॉमन सिविल कोड की बात नहीं करते। इस पर केजरीवाल ने जवाब दिया, 'मैंने कॉमन सिविल कोड का समर्थन किया है। लेकिन जो बीजेपी कर रही है वो कॉमन सिविल कोड लाना नहीं चाहती। चुनाव के वक्त इस मुद्दे को उठाया जाता है और चुनाव जाते ही ये मुद्दा चला जाता है। सीएम केजरीवाल से जब हिंदुत्व की राजनीति को लेकर उठ रहे सवालों पर पूछा गया कि लोग ऐसा क्यों बोल रहे हैं आम आदमी पार्टी और केजरीवाल बीजेपी के रास्ते पर चल रही है। हार्डकोर हिंदुत्व के रास्ते पर चल रही है। इसका जवाब देते हुए केजरीवाल ने कहा, 'ये लोग नहीं कहते, ये जर्नलिस्ट और नेता लोग कहते हैं। उनकी बात छोड़ दीजिये।

नोट पर हो लक्ष्मी-गणेश की फोटो : केजरीवाल

कुछ समय पहले ही अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से अनूठी मांग कर सियासी बहस शुरू कर दी थी। उन्होंने कहा, मैं केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील करता हूं कि हमारे नए नोटों पर महात्मा गांधी के साथ ही श्री गणेश जी और श्री लक्ष्मी जी की तस्वीर भी छापी जाए। केजरीवाल के मुताबिक, देश की अर्थव्यवस्था बहुत खराब स्थिति में है और इसे सुधारने के लिए देवी-देवताओं के आशीर्वाद की जरूरत है। जब मैं दिवाली के दिन पूजा कर रहा था, तब यह भाव मेरे मन में आया। यदि इंडोनेशिया अपने यहां करेंसी पर गणेश जी की फोटो लगा सकता है, तो हम क्यों नहीं? केजरीवाल के इस बयान को हिंदुत्व के कार्ड के तौर पर देखा गया।

AK की अपील, कांग्रेस को नहीं आप को दें वोट

मीडिया से रूबरू आप पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने अहमदाबाद में दावा किया 1 और 5 दिसंबर को होने वाले 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा के चुनावों में कांग्रेस को सिर्फ 4-5 सीटें मिलेंगी। उन्‍होंने कहा गुजरात में बीजेपी 27 साल से सत्ता में है, कांग्रेस लगातार अपनी जमीन खो रही है, कांग्रेस का वोट शेयर 13 प्रतिशत से नीचे गिर जाएगा और उसे 4-5 सीटें मिलेंगी। इस बार आप और भाजपा के बीच सीधा मुकाबला है। इस दौरान केजरीवाल ने कांग्रेस वोटरों से कांग्रेस को वोट ना देकर अपना वोट बर्बाद नहीं करने और इसके आप को वोट देने की अपील की।

गुजरात में केजरीवाल का 'OTP' फार्मूला

एक इंटरव्यू में अरविंद केजरीवाल से इशुदान गढ़वी को सीएम फेस बनाने की जगह गोपाल इटालिया को सीएम फेस क्यों नहीं बनाया गया सवाल पूछा गया। केजरीवाल से पूछा गया, बड़ा चेहरा और शुरू से मेहनत करने वाले गोपाल इटालिया थे। गोपाल इटालिया पाटीदार समुदाय से हैं आपको नहीं लगता इस स्टेप से पाटीदार समुदाय AAP से दूर हो जाएगी।

इसका जवाब में केजरीवाल ने कहा, 'मेरे पास किसी का मैसेज आया और उसने बोला की आप 'OTP' फॉर्मूले पर काम कर रहे हैं। ये ओटीपी (OTP) क्या होता है। तो जवाब मिला 'O' फॉर ओबीसी, 'T' फॉर ट्राइबल और 'P' फॉर पाटीदार।' उन्होंने कहा, इशुदान गढ़वी को सीएम फेस बनाने से हमें ओबीसी (OBC) समुदाय का वोट मिलेगा। ट्राइबल (Tribal) को लेकर उन्होंने कहा कि, आदिवासी लोग 'झाड़ू' की बात कर रहे हैं। पाटीदार (Patidar) को लेकर उन्होंने कहा कि, गोपाल इटालिया गुजरात में आप के अध्यक्ष हैं। इससे पाटीदारों का वोट मिलेगा।'

शाह का दावा, गुजरात में बीजेपी तोड़ेगी सारे रिकॉर्ड

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर गुजरात चुनाव में बीजेपी की रिकॉर्ड तोड़ जीत का दावा किया है। अमित शाह ने मंगलवार (15 नवंबर) को कहा कि इस विधानसभा चुनाव में बीजेपी सारे रिकॉर्ड तोड़ देगी और सबसे ज्यादा सीटें जीतकर बहुमत से सरकार बनाएगी। पीएम मोदी और सीएम भूपेंद्र पटेल का नेतृत्व विकास कार्यों को गति दे रहा है। केंद्रीय गृह मंत्री ने आगे कहा कि गुजरात की कानून व्यवस्था में सुधार हुआ है, राज्य की अर्थव्यवस्था बढ़ी है। गुजरात के दलितों, आदिवासियों और ओबीसी समुदाय के लिए पीएम मोदी के विकास मॉडल का पालन सीएम पटेल कर रहे हैं। अमित शाह ने कहा था कि अगर गुजरात में बीजेपी को बहुमत मिलता है तो भूपेंद्र पटेल अगले मुख्यमंत्री होंगे।

Gujarat Election 2022: अब कॉमन सिविल कोड से 'प्यार', कांग्रेस पर वार... केजरीवाल ने क्यों बदली चाल?
Gujarat Election 2022: गुजरात में फिर गरजेंगे मोदी, 19 नवंबर को जाएंगे दो दिवसीय दौरे पर
Since independence
hindi.sinceindependence.com