राजस्थान में ओमिक्रोन का विस्फोट एक दिन में 21 नए मामले,मुख़्यमंत्री अशोक गहलोत जल्द ले सकते है बड़ा फैसला ?

अब तक 43 व्यक्ति ओमिक्रोन पॉजिटिव पाये गये है,इसमें से जयपुर के 28, सीकर के 4, अजमेर के 7, उदयपुर के 3 तथा महाराष्ट्र का 1 व्यक्ति ओमिक्रोन पॉजिटिव पाये गये है
राजस्थान में ओमिक्रोन का विस्फोट एक दिन में 21 नए मामले,मुख़्यमंत्री अशोक गहलोत जल्द ले सकते है बड़ा फैसला ?

ओमिक्रोन के नये केस

राज्य में शनिवार को 21 ओमिक्रोन के नये केस की सूचना एनआईवी पूणे से प्राप्त हुई। इनमें से जयपुर के 11, अजमेर के 6, उदयपुर के 3 तथा महाराष्ट्र का 1

रोगी सम्मिलित है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक उपरोक्त व्यक्तियों में से 5 व्यक्ति विदेश यात्रा से लौटे है, 3 व्यक्ति विदेश यात्रियों के संपर्क में आये थे तथा 3 व्यक्ति पूर्व में पाये गये ओमिक्रोन पॉजिटिव के कोन्टेक्ट टेसिंग में पाये गये है। उक्त सभी व्यक्तियों की संबंधित मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा कान्टेक्ट ट्रेसिंग करते हुए ओमिक्रोन पॉजिटिव केसेस को डेडिकेटेट ओमिक्रोन वार्ड में

आइसोलेट करने की कारवाई की जा रही है। अब तक 43 व्यक्ति ओमिक्रोन पॉजिटिव पाये गये है,इसमें से जयपुर के 28, सीकर के 4, अजमेर के 7, उदयपुर के 3 तथा महाराष्ट्र का 1 व्यक्ति ओमिक्रोन पॉजिटिव पाये गये है

<div class="paragraphs"><p>ओमीक्रोम की दस्तक</p></div>

ओमीक्रोम की दस्तक

तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र में बड़ी संख्या में केस आने लगे थे, जो धीरे-धीरे पूरे उत्तर भारत में फैले।

देश में तीसरी लहर की calling बैल बज चुकी है। पूरे वर्ल्ड में जो ट्रेंड देखने को मिल रहा है, वह दूसरी लहर के समान है। दूसरी लहर जब पूरे वर्ल्ड में आई थी, तब उसका सबसे पहले प्रभाव अमेरिका और यूरोपियन देशों में देखने को मिला था। यूरोप में जब कोरोना के केस चरम पर थे, तब जनवरी, फरवरी में भारत में केस कम हो रहे थे। यूरोप में मार्च से कोरोना के केस कम होने लगे और उसके बाद भारत में केस तेजी से बढ़े। भारत में सबसे पहले दूसरी लहर की शुरूआत दक्षिण भारतीय राज्यों से हुई थी। तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र में बड़ी संख्या में केस आने लगे थे, जो धीरे-धीरे पूरे उत्तर भारत में फैले। लेकिन इस बार भारत में ये ट्रेंड थोड़ा बदला है। उत्तरी भारत के राज्यों में ओमीक्रॉन के केस बढ़ रहे हैं, जबकि दक्षिणी राज्यों में केरल में अब भी डेल्टा के केस ने स्थिति खराब कर रखी है

ओमिक्रोन के बढ़ते मामलो को देखते हुए जल्द मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लेंगे बड़ा फैसला

राजस्थान में ओमीक्रोम की दस्तक के बाद से राजस्थान सरकार भी सतर्क नजर आने लगी है। ओमीक्रोम के बढ़ते मामलो को देखते हुए जल्द ही कैबिनेट की मीटिंग में चिकित्सा व्यव्स्था को लेकर निर्णय लिए जाएंगे और ओमीक्रोम को बढ़ते मामलो को देखते हुए रात्रि लॉक डाउन भी लगाया जा सकता है। गौरतलब है की PM नरेंद्र मोदी ने भी 15 से 18 साल के बच्चों को 3 जनवरी से टीका दिए जाने का ऐलान किया है।

सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने तीसरी लहर की चेतावनी के बाद 12 मई को बच्चों पर कोवैक्सिन के ट्रायल की सिफारिश की थी। इसे मानते हुए DCGI ने ट्रायल की मंजूरी दी थी। भारत बायोटेक ने बच्चों पर कोवैक्सिन का ट्रायल जून में शुरू किया था।

बच्चों के लिए बनाई जा रही जायडस कैडिला की नीडल फ्री वैक्सीन ZyCoV-D को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। ZyCoV-D के बाद कोवैक्सिन देश की दूसरी वैक्सीन है, जिसे इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली है।

एक्सपर्ट के मुताबिक

ट्रेंड और कोरोना मामलों में तेजी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि तीसरी लहर आ सकती है। क्योंकि लोगों में जो कोरोना की दूसरी लहर के समय जो डर था अब वह खत्म हो गया है। लोगों ने एप्रोपिएट बिहेवियर की पालना करना छोड़ दिया है। लोग अब वैक्सीन की दूसरी डोज से बच रहे हैं। ये हमारे और हमारे बच्चों के लिए सबसे ज्यादा घातक है। क्योंकि जिन लोगों में वैक्सीन की एक डोज लग चुकी है या दोनों डोज लग चुकी है, जरूरी नहीं कि वह संक्रमित नहीं होंगे। संक्रमित हो सकते हैं और खुद के साथ-साथ बच्चों और दूसरों को भी संक्रमित सकते है।

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube


<div class="paragraphs"><p>ओमिक्रोन के नये केस</p></div>
CM Ashok Gehlot : राजस्थान में आर्थिक व्यवस्था को तगड़ा झटका

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com