कोयला खत्म हुआ तो बढेगी मुश्किल, भारत में हो जाएगी घरों की बत्ती गुल

दुनिया में 65% कोयले का इस्तेमाल बिजली पैदा करने के लिए किया जाता है
कोयला खत्म हुआ तो बढेगी मुश्किल, भारत में हो जाएगी घरों की बत्ती गुल

डेस्क न्यूज. देश में कोयले से चलने वाले 137 बिजली संयंत्रों में से 72 में 3 दिन, 50 संयंत्रों में 4 दिन और 30 में केवल 1 दिन का कोयला बचा है। सामान्य दिनों में उनके पास 17 दिनों का कोयला रिजर्व में होता है।

दुनिया में कोयले की कमी हो गई तो 10 में से 3 से 4 घर और भारत में 10 में से 5 से 6 घर धुंधले पड़ जाएंगे।

लेकिन यह जानना बेहद जरूरी है कि कहीं आपके घर की लाइट तो नहीं बुझने वाली। देखिए, दुनिया में 37% बिजली कोयले से और 55% भारत में बनती है। यानी अगर दुनिया में कोयले की कमी हो गई तो 10 में से 3 से 4 घर और भारत में 10 में से 5 से 6 घर धुंधले पड़ जाएंगे।

दुनिया में 65% कोयले का इस्तेमाल बिजली पैदा करने के लिए किया जाता है

दुनिया में हर साल औसतन 16,000 मिलियन टन कोयले का उत्पादन होता है या यूं कहें कि इसका उत्पादन होता है। 2019 में 16 हजार 731 मिलियन टन कोयले का उत्पादन हुआ और 2020 में 15 हजार 767 मिलियन टन कोयले का उत्पादन हुआ। इसमें से 60 से 65% कोयले का इस्तेमाल दुनिया सिर्फ बिजली पैदा करने के लिए करती थी।

भारत में 72% कोयले का उपयोग बिजली पैदा करने के लिए किया जाता है

हम दुनिया में कोयले के दूसरे सबसे बड़े उत्पादक हैं। हम सालाना औसतन 760 मिलियन टन कोयला बनाते हैं। इसमें से 70 से 75% कोयले का इस्तेमाल बिजली पैदा करने में होता है। 2020 में, बिजली पैदा करने पर 72% कोयला खर्च किया गया था।

दुनिया के पास 134 साल का कोयला बचा है

पिछली बार दुनिया भर में कोयले की माप 2016 में की गई थी। तब दुनिया भर की कोयला खदानों में कुल 1,144 बिलियन टन कोयला बचा था। तकनीकी भाषा में इसे कोल रिजर्व कहते हैं। दुनिया में हर साल करीब 8.5 अरब टन कोयले की खपत होती है। इस गति से अगले 134 से 135 वर्षों में कोयला समाप्त हो जाएगा।

भारत के पास 107 साल का कोयला बचा है

भारत सरकार के कोयला मंत्रालय के अनुसार, वर्तमान में हमारे पास 319 बिलियन टन कोयला है,

लेकिन यूरोप और अमेरिका की एजेंसियां ​​केवल 107 बिलियन टन पर विचार करती हैं।

भारत कोयले का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है। Yearbook.enerdata.net के मुताबिक

भारत में औसतन 1 अरब टन कोयले की खपत होती है। भारत सरकार के आंकड़ों के मुताबिक

हमारे पास 319 साल का कोयला है। अंतरराष्ट्रीय एजेंसी की माने तो 107 साल का कोयला बचा है।

देखिए, दुनिया में कुल बिजली का सिर्फ 37% ही कोयले से बनता है। शेष 67% अन्य तरीकों से।

अमेरिका अपनी बिजली का 73% नवीकरणीय संसाधनों पवन, सौर ऊर्जा के माध्यम से उत्पन्न करता है।

इसलिए अमेरिका जैसे देशों को कोयले के खत्म होने से ज्यादा दिक्कत नहीं होगी।

अमेरिका का लक्ष्य है कि 2040 तक वह कोयले से चलने वाली बिजली को किसी भी हाल में 20 फीसदी कर देगा।

लेकिन भारत में तस्वीर बिल्कुल उलट है।

हमारे बिजली उत्पादन में, केवल 25% बिजली नवीकरणीय संसाधनों के माध्यम से उत्पन्न होती है।

बिजली संयंत्रों के माध्यम से 12%। लगभग 55% बिजली कोयले से उत्पन्न होती है।

भारत ने 2022 तक अक्षय ऊर्जा के लिए 175,000 मेगावाट का लक्ष्य रखा है।

जो कुल 3,84,115 मेगावाट बिजली उत्पादन का 45% है। लेकिन हम फिलहाल इस आंकड़े से बहुत दूर हैं।

2020 की रिपोर्ट के अनुसार, केवल 25% नवीकरणीय संसाधन बिजली पैदा करने में सक्षम हैं।

कोयले के बिना हम 18वीं सदी में लौट आएंगे

भारत में पहली बार ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1774 में पश्चिम बंगाल के रानीगंज में कोयले का खनन किया।

पहले हमारा जीवन बिना कोयले के चल रहा था। इसलिए अगर कोयला खत्म हो जाता है

और हम इसके विकल्पों पर काम नहीं कर पाते हैं, तो हम 18वीं सदी के जीवन में वापस चले जाएंगे।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com