World Food Day: 30 लाख बच्चों का पेट भरने लायक अनाज रोजाना FCI के गोदाम में हो जाता है बर्बाद

एक सामान्य व्यक्ति को प्रतिदिन 200 ग्राम अनाज की आवश्यकता
World Food Day: 30 लाख बच्चों का पेट भरने लायक अनाज रोजाना FCI के गोदाम में हो जाता है बर्बाद

डेस्क न्यूज. आज विश्व खाद्य दिवस है। दो दिन पहले वर्ल्ड हंगर इंडेक्स रिपोर्ट भी जारी की गई है। आंकड़े बहुत चौंकाने वाले हैं, लेकिन इससे भी ज्यादा देश में अनाज का भंडारण और आपूर्ति करने वाले भारतीय खाद्य निगम (FCI) के आंकड़े हैरान करने वाले हैं.

आरटीआई के जरिए सामने आए आंकड़े 

ये आंकड़े आरटीआई के जरिए सामने आए हैं। एफसीआई द्वारा आरटीआई के

जवाब में भेजे गए दर्जनों पत्रों के अनुसार, स्कूलों में गोदामों और ट्रेन-ट्रक के

परिवहन के दौरान हर दिन खराब होने और चोरी होने वाले सरकारी गेहूं-चावल

की मात्रा इतनी हैं कि इससे 30 लाख बच्चे भोजन कर सकते हैं।

एफसीआई के अधिकारियों के मुताबिक, यह खराब होने वाला अनाज है

जिसे जारी नहीं किया जा सकता है। अगर कुछ अनाज जमीन में गाड़ दिया जाता है

या  बेचा जाता तो  15 से 20 पैसे प्रति किलो की दर से पशु चारा बनाने वाली कंपनियों खरीद करती।

एक सामान्य व्यक्ति को प्रतिदिन 200 ग्राम अनाज की आवश्यकता

डायटीशियन के अनुसार एक सामान्य व्यक्ति को प्रतिदिन 200 ग्राम अनाज की आवश्यकता होती है, जबकि स्कूलों में भोजन के तहत प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों को 100 ग्राम और जूनियर हाई स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को प्रतिदिन 150 ग्राम अनाज की आवश्यकता होती है।

लाख मीट्रिक टन अनाज गोदामों में खराब हो गया

एफसीआई के दिल्ली मुख्यालय के मुताबिक 2008-9 से 2017-18 के बीच 1.80 लाख मीट्रिक टन गेहूं-चावल गोदामों में खराब हो गया. यानी 16 मीट्रिक टन क्षमता के हिसाब से 11250 ट्रक अनाज खराब हो गया.

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com