मदद के लिए आगे आया भारत, पाकिस्तान के रास्ते 50 मीट्रिक टन गेहूं भेजेगा अफगानिस्तान

भारत ने 7 अक्टूबर, 2021 को इस्लामाबाद को एक प्रस्ताव भेजा था, जिसमें सड़क मार्ग से पाकिस्तान के रास्ते 50,000 टन गेहूं अफगानिस्तान भेजने के लिए ट्रांजिट सुविधा का अनुरोध किया गया था, जिसका 24 नवंबर, 2021 को जवाब मिला
मदद के लिए आगे आया भारत, पाकिस्तान के रास्ते 50 मीट्रिक टन गेहूं भेजेगा अफगानिस्तान

मदद के लिए आगे आया भारत, पाकिस्तान के रास्ते 50 मीट्रिक टन गेहूं भेजेगा अफगानिस्तान

PHOTO- ANI

अफगानिस्तान के लोगों की मदद के लिए भारत ने बड़ा कदम उठाया है। भारत मंगलवार को पाकिस्तान के रास्ते 50,000 मीट्रिक टन गेहूं अफगानिस्तान भेजेगा। इस खेप को विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। यह अफगानों के लिए बहुत खुशी की बात है। इस दौरान भारत आए एक अफगान नागरिक ने कहा, 'हम अफगानिस्तान से आए हैं... मैं बहुत खुश हूं।' विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) पहले ही लगभग 70 लाख अफगान लोगों की मदद कर चुका है।

भारत ने 7 अक्टूबर, 2021 को इस्लामाबाद को एक प्रस्ताव भेजा
जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान से बातचीत के मुताबिक, खाद्यान्न की यह खेप अटारी-वाघा भूमि सीमा के रास्ते पाकिस्तान होते हुए अफगानिस्तान पहुंचेगी। भारत ने 7 अक्टूबर, 2021 को इस्लामाबाद को एक प्रस्ताव भेजा था, जिसमें सड़क मार्ग से पाकिस्तान के रास्ते 50,000 टन गेहूं अफगानिस्तान भेजने के लिए ट्रांजिट सुविधा का अनुरोध किया गया था, जिसका 24 नवंबर, 2021 को जवाब मिला। पाकिस्तान से मिले जवाब के आधार पर , दोनों पक्षों ने मिलकर परिवहन से जुड़ी सभी बातचीत का फैसला किया।

पहले भी जीवन रक्षक दवाएं और अन्य सभी आवश्यक वस्तुएं अफगानिस्तान भेजी

मानवीय सहायता प्रयासों के तहत, भारत ने पिछले कुछ महीनों में भारी मात्रा में जीवन रक्षक दवाएं और अन्य सभी आवश्यक वस्तुएं अफगानिस्तान भेजी हैं। दवाओं की आखिरी खेप पिछले शनिवार को ही पहुंची थी, जो भारत से अफगानिस्तान भेजे जाने वाले माल की पांचवीं खेप थी।

संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यक्रम के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर

भारत ने दो सप्ताह पहले संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यक्रम के साथ एक समझौते (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे। संयुक्त राष्ट्र ने पाकिस्तान से कहा था कि वह भारत को भूमि मार्ग से 50,000 मीट्रिक टन गेहूं अफगानिस्तान भेजने की अनुमति दे।

भारत में विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) के निदेशक बिशो परजुली ने कहा कि भारत पहले ही विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) के जरिए करीब 70 लाख अफगान लोगों की मदद कर चुका है। भारत सरकार की इस मानवीय सहायता की पूरी दुनिया में सराहना हो रही है। आपको बता दें कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद देश की हालत खराब हो गई थी। आर्थिक रूप से देश इतना कमजोर हो गया है कि हर किसी से पूछने को मजबूर हो गया है।

<div class="paragraphs"><p>मदद के लिए आगे आया भारत, पाकिस्तान के रास्ते 50 मीट्रिक टन गेहूं भेजेगा अफगानिस्तान</p></div>
पुतिन की अलग राज्य की मान्यता देने की ये है रणनीति, यूक्रेन के लुहांस्क-डोनेट्स्क में घुसी रूसी सेना, रूस के अटैक की बड़ी संभावना

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com