Britain Crisis: भारतवंशी सुनक बनेंगे ब्रिटेन के पीएम ! जानिए कैसे खतरे में आ गई लिज ट्रस की कुर्सी

द टाइम्स की रिपोर्ट में सामने आया है कि ब्रिटेन में नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री लिज ट्रस के खिलाफ विद्रोह होने की संभावना बन रही हैं और लोग उनकी जगह पेनी मोर्डंट और ऋषि सुनक को प्रधानमंत्री बनाने की बात कह रहे हैं ।
Britain Crisis: भारतवंशी सुनक बनेंगे ब्रिटेन के पीएम ! जानिए कैसे खतरे में आ गई लिज ट्रस की कुर्सी

ब्रिटेन में प्रधानमंत्री चुनाव के सिर्फ पांच सप्ताह के अंदर ही एक बार फिर अनिश्चितता की स्थिति बन गई है । द टाइम्स की रिपोर्ट में सामने आया है कि ब्रिटेन में नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री लिज ट्रस के खिलाफ विद्रोह होने की संभावना बन रही हैं और लोग उनकी जगह पेनी मोर्डंट और ऋषि सुनक को प्रधानमंत्री बनाने की बात कह रहे हैं ।

ऐसे में प्रधानमंत्री चुनाव हारने के बाद एक बार फिर से ऋषि सुनक के प्रधानमंत्री बनने की संभावनाएं बन गई हैं । रिपोर्ट्स में सामने आ रहा है कि कंजर्वेटिव पार्टी के करीब 100 से ज्यादा सांसद लिज के खिलाफ होकर अविश्वास जता रहे हैं और 24 अप्रैल तक लिज ट्रस की कुर्सी जा सकती है। कुर्सी जाने के बाद सुनक दौड़ में आगे बताए जा रहे हैं ।

गलत नेता चुन लिया - सांसद

हाल ही में द टाइम्स ने एक YouGov नाम का पोल आयोजित किया जिसमें खुलासा हुआ कि कंजर्वेटिव पार्टी के लगभग 62 प्रतिशत सदस्यों का मानना है कि पार्टी ने गलत नेता चुना है। वहीं बता दें कि सर्वे में सामने आया है कि आधे से ज्यादा लोगों का मानना है कि पार्टी के नेताओं ने गलत नेता का चुनाव किया है। मात्र 16 प्रतिशत लोगो का मानना है कि लिज ट्रस ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद के लिए सही चुनाव हैं ।  

द टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन की प्रधान मंत्री की कुर्सी पर अनिश्चितता बनी हुई है क्योंकि ब्रिटेन की गवर्निंग कंजरवेटिव पार्टी के विद्रोही ब्रिटेन के प्रधान मंत्री लिज़ ट्रस को बाहर करने और उनकी जगह पेनी मोर्डंट और ऋषि सनक के संयुक्त टिकट के साथ बदलने पर विचार कर रहे हैं।

रिपोर्टों के मुताबिक सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी के करीब 100 सांसद ऐसे हैं जो ट्रस के नेतृत्व में अविश्वास जताते हुए ग्राहम बॉडी को पत्र लिखने वाले हैं।

कहीं महंगाई की आग में न जल जाए ट्रस की कुर्सी

ब्रिटेन में इस समय महंगाई अपने चरम स्तर पर है। चुनाव से पहले लिज ने वादा किया था कि वो महंगाई को कम करेंगी । लेकिन अपने इस 1 महीने के कार्यकाल में महंगाई पर उनकी रणनीति पूरी तरह विफल रही है।

देश की अर्थव्यवस्था को लगातार चोट पहुंच रही है और ऐसे में लिज ने हाल ही राजकोष को चांसलर को बर्खास्त करने और मिनी बजट लाने के फैसले लिए हैं । जो उनके लिए घाटे के सौदे बताए जा रहे हैं ।  

ट्रस की हार के बाद क्या साफ होगा सुनक का रास्ता ?

प्रधानमंत्री चुनाव में लिज ट्रस के प्रतिद्वंदी रहे ऋषि सुनक का ये सफर काफी उतार चढ़ाव भरा रहा है। जिसमें उन्हें आखिरी राउंड में हार का सामना करना पड़ा। हालांकि उससे पहले तक ऋषि सुनक लगातार रेस में बने हुए थे और सिर्फ आम जनता ही नहीं बल्कि सांसदों को फेवरेट बने हुए थे ।

लेकिन अंत में बोरिस जॉनसन के खुलकर विरोध करने और एनीवन बट, सुनक जैसे सुनक विरोधी कैंपेन चलाए जाने से उनकी विदेशी उम्मीदवार और भारतवंशी होने की नकारात्मक छवि बनाई गई जिससे वो आखिरी राउंड में लिज ट्रस के सामने हार गए ।

लेकिन अब एक बार फिर से एक भारतवंशी के लिए ब्रिटेन के सर्वोच्च राजनैतिक पद के रास्ते खुलते नजर आ रहे हैं । जिस तरह रिपोर्ट्स में लिज के कुर्सी जाने की बात कही जा रही है उससे साफ नजर आता है कि ऋषि के लिए ये राह आसान होने वाली है ।

क्योंकि लिज के बाद ऋषि के अलावा पेनी मॉर्डंट भी प्रधानमंत्री पद उम्मीदवार है पर उनका ऋषि जितना प्रभाव वहां के सांसदों पर नहीं है ।

सासंदो ने ग्राहम बॉडी को लिखा पत्र, जताई असहमति

ब्रिटेन में ग्राहम बॉडी वो संस्था है जो प्रधानमंत्री पद के चुनाव कराती है। खूफिया सूत्रों के हवाले सामने आया है कि 100 से ज्यादा सांसदों ने अविश्वास प्रस्ताव पर हस्ताक्षर कर ग्राहम बॉडी को थमा दिया है।

इतनी बड़ी संख्या में सांसदों का विरोध ट्रस के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है। दरअसल, टैक्स कटौती को लेकर ट्रस सांसदों के निशाने पर आ गई हैं। यह फैसला उनके लिए मुसीबत बनकर आया है।

टैक्स कटौती की वजह से बाजार में कोहराम तो मचा ही है, ट्रस को अपनी पार्टी के भीतर बगावत का सामना करना पड़ रहा है। बढ़ती महंगाई के बीच टैक्स कटौती का फैसला एक तरह से आग में घी का काम किया है।

Britain Crisis: भारतवंशी सुनक बनेंगे ब्रिटेन के पीएम ! जानिए कैसे खतरे में आ गई लिज ट्रस की कुर्सी
AIMIM नेता शौकत अली के बिगड़े बोल, कहा- हिंदू करते थे जीहुजूरी: भाजपा के खिलाफ भी उगला जहर
Since independence
hindi.sinceindependence.com