फिर उठी जनसंख्या नीति की मांग, RSS के सरकार्यवाह बोले- धर्मांतरण के कारण घट रहे हिंदू

प्रयागराज में चल रहे राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के चार दिवसीय बैठक कार्यक्रम में संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने जनसंख्या नीति को लेकर बयान दिया है। उन्होंने कहा कि धर्मांतरण के कारण हिंदुओं की संख्या घट रही है, जिससे जनसांख्यिकीय परिवर्तन भी आ रहे हैं जो कि अच्छा नहीं है। एक जनसंख्या नीति देश में लागू होनी चाहिए।
फिर उठी जनसंख्या नीति की मांग, RSS के सरकार्यवाह बोले- धर्मांतरण के कारण घट रहे हिंदू

पूरे देश में जनसंख्या नीति को लेकर बहस चल रही है। केंद्र सरकार के मंत्री हों या तमाम सामाजिक संगठन जनसंख्या नीति को देश की जरूरत बता रहे हैं। इसी बीच आरएसएस के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने प्रयागराज में चल रही संघ की चार दिवसीय बैठक में एक बार फिर जनसंख्या नीति को लेकर बयान दिया है। होसबोले का कहना है कि एक जनसंख्या नीति देश में सभी पर लागू होनी चाहिए। धर्मांतरण के कारण हिंदुओं की संख्या घट रही है, जिससे जनसांख्यिकीय परिवर्तन भी आ रहे हैं जो कि अच्छा नहीं है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों के आदिवासी समुदाय के लोगों में स्वाभिमान के कारण 'मैं भी हिंदू हूं' की भावना विकसित हुई है। उन्होंने कहा कि स्वाभिमान की जागृति के कारण पूर्वोत्तर राज्यों के आदिवासी समुदाय के लोग अब संघ में भी शामिल होना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मेघालय और त्रिपुरा राज्य के आदिवासी समुदाय के लोगों ने भी इस अहसास के साथ संघ के सरसंघचालक को आमंत्रित करना शुरू कर दिया है।

फिर उठी जनसंख्या नीति की मांग, RSS के सरकार्यवाह बोले- धर्मांतरण के कारण घट रहे हिंदू
हिंदुओं के खिलाफ जहर उगल रहे कुछ विदेशी मीडिया संस्थान और पत्रकारों का सच

जनसंख्या असंतुलन पर जताई चिंता

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह ने कहा कि देश में जनसंख्या विस्फोट चिंताजनक है। अत: इस विषय पर समग्र रूप से और एकता में विचार कर एक जनसंख्या नीति सभी पर लागू की जानी चाहिए। धर्म परिवर्तन के कारण हिन्दुओं की संख्या घट रही है। देश के कई हिस्सों में धर्म परिवर्तन की साजिश चल रही है। कुछ सीमावर्ती इलाकों में घुसपैठ भी हो रही है। सरकार्यवाह ने कहा कि जनसंख्या असंतुलन के कारण कई देशों में विभाजन की स्थिति पैदा हो गई है। भारत का विभाजन भी जनसंख्या असंतुलन के कारण ही हुआ है।

फिर उठी जनसंख्या नीति की मांग, RSS के सरकार्यवाह बोले- धर्मांतरण के कारण घट रहे हिंदू
विदेशी मीडिया (BBC हिन्दी) मजहबियों पर कैसे है मेहरबान...देखिए वीडियो

सरसंघचालक ने भी जनसंख्या नियंत्रण को बताया था समय की मांग

इससे पूर्व में आएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने भी नागपुर में विजयादशमी के दिन हुए कार्यक्रम के दौरान जनसंख्या नियंत्रण को समय की मांग बताया। संघ प्रमुख ने कहा कि भारत में जनसंख्या पर एक समग्र नीति बनाई जानी चाहिए, जो सब पर समान रूप से लागू हो और किसी को इससे छूट नहीं मिले। भारत में तेजी से बढ़ती जनसंख्‍या की समस्‍याओं की बड़ी वजहों में से एक माना जाता रहा है। समय- समय पर संस्‍थाएं एवं विश्‍लेषक इस ओर इशारा करते रहे है।

फिर उठी जनसंख्या नीति की मांग, RSS के सरकार्यवाह बोले- धर्मांतरण के कारण घट रहे हिंदू
आमिर खान को हिंदू रीति-रिवाज ना-पसंद!मुस्लिम कुरीतियों पर क्यूं रहता है मुंह बंद ?

सभी डिवीजनों में 2024 तक होगी शाखाएं

सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले ने बताया कि वर्ष 2024 के अंत तक भारत के सभी संभागों में शाखा तक पहुंचने की योजना बनाई गई है। कुछ प्रांतों में चयनित अंचलों में यह कार्य 99 प्रतिशत तक पूरा कर लिया गया है। चित्तौड़, ब्रज और केरल प्रांतों में संभाग स्तर तक शाखाएँ खुल गई हैं। पहले देश में संघ की 54382 शाखाएँ थीं, अब देश में 61045 शाखाएँ स्थापित की जा रही हैं। पिछले एक वर्ष में साप्ताहिक बैठक में 4000 और मासिक संघ में 1800 की वृद्धि भी हुई है।

जनसंख्या असंतुलन, धर्मांतरण और आर्थिक स्वतंत्रता जैसे मुद्दों पर चर्चा की गई।

जनसंख्या असंतुलन से संबंधित एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि पिछले 40-50 वर्षों से जनसंख्या नियंत्रण पर जोर देने के कारण प्रत्येक परिवार की औसत जनसंख्या 3.4 से घटकर 1.9 हो गई है। इससे भारत में एक समय ऐसा आएगा, जब युवाओं की आबादी कम होगी और बुजुर्गों की आबादी ज्यादा होगी, यह चिंताजनक है। देश को एक युवा देश रखने के लिए जनसंख्या को संतुलित रखने पर जोर दिया गया। साथ ही उन्होंने धर्मांतरण के दुष्चक्र और बाहरी घुसपैठ के कारण उत्पन्न जनसंख्या असंतुलन पर भी चिंता व्यक्त की।

फिर उठी जनसंख्या नीति की मांग, RSS के सरकार्यवाह बोले- धर्मांतरण के कारण घट रहे हिंदू
Anjum Aara : राजस्थान की पहली मुस्लिम महिला पढ़ाएंगी संस्कृत, रामायण को बताया कुरान जैसा पवित्र ग्रंथ
Since independence
hindi.sinceindependence.com