मंकीपॉक्स से BIG TENSION: केंद्र सरकार ने जारी की गाइड लाइन, दिए ये निर्देश

दुनिया के 75 देशों में मंकीपॉक्स के 16 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। भारत में भी मंकीपॉक्स ने दस्तक दे दी है। इसे लेकर अब केंद्र सरकार भी सजग हो गई है, सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है
विदेश से आने वाले यात्रियों की निगरानी
विदेश से आने वाले यात्रियों की निगरानीफोटो : पीटीआई

दुनिया के 75 देशों में मंकीपॉक्स के 16 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। भारत में भी मंकीपॉक्स ने दस्तक दे दी है। हाल ही में केरल में पहला मामला सामने आने के बाद दिल्ली के एक शख्स में मंकीपॉक्स के लक्षण पाए जाने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन पहले ही चेतावनी दे चुका है।

केंद्र सरकार ने जारी की गाइडलाइन
डब्ल्यूएचओ ने मंकीपॉक्स को वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करते हुए सभी देशों को गंभीर होने का आह्वान किया है। वहीं, भारत सरकार ने मंकीपॉक्स को लेकर भी गाइडलाइन जारी की है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंकीपॉक्स पर नियंत्रण के लिए राज्यों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत बाहर से आने वाले लोगों, मंकीपॉक्स से संक्रमित लोगों और इस संक्रमण से बचने के लिए आवश्यक निर्देश जारी किए गए।

क्या है सरकार के निर्देश

  1. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक मंकीपॉक्स के लक्षण पाए जाने पर संक्रमितों पर नजर रखी जाएगी।

  2. संक्रमित सामग्री, संक्रमण के संपर्क में आने के बाद 21 दिनों तक रोगी की निगरानी की जानी चाहिए।

  3. राज्यों को नए मामलों की तेजी से पहचान करने और इसकी रोकथाम के लिए तत्काल उपाय करने का निर्देश दिया गया था।

  4. एक प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय के रूप में मंकीपॉक्स की रोकथाम के लिए मानव-से-मानव संचरण के जोखिम को कम करना आवश्यक है।

  5. भारत को इस प्रकोप के लिए तैयार रहने की जरूरत है क्योंकि अन्य देशों से मंकीपॉक्स के मामले बढ़ रहे हैं।

  6. यदि किसी रोगी में मंकीपॉक्स के लक्षण दिखाई दें तो उसके आधार पर तुरंत उपचार शुरू कर देना चाहिए।

  7. मंकीपॉक्स से संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों पर भी नजर रखी जाए और लक्षणों और जांच के आधार पर उनका इलाज किया जाए।

  8. अंतरराष्ट्रीय यात्रियों पर नजर रखें और मंकीपॉक्स के लक्षण दिखने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क करें।

  9. विशिष्ट देशों से लौटने वाले यात्रियों की निगरानी की जानी चाहिए, भले ही उनकी बीमारी का परीक्षण न किया गया हो।

  10. यदि संक्रमित के संपर्क में आने वाले किसी भी व्यक्ति को मंकीपॉक्स होने का खतरा हो तो उसकी भी जानकारी दी जाए।

राज्य दिशानिर्देश

  1. मंकीपॉक्स से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड अस्पतालों में कम से कम 10 बेड केवल मंकीपॉक्स से पीड़ित मरीजों के लिए ही आरक्षित करने का निर्देश दिया है।

  2. बिहार सरकार ने अपनी गाइडलाइन में निर्देश दिया है कि मंकीपॉक्स संक्रमितों के संपर्क में आने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को एक हफ्ते से ज्यादा की छुट्टी लेने की जरूरत नहीं है।

  3. केंद्र सरकार के निर्देश पर सभी राज्य सरकारें नोडल अस्पताल या अस्पताल में मंकीपॉक्स के लिए एक समर्पित केंद्र स्थापित करने की तैयारी कर रही हैं।

नोट: यह लेख केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के आधार पर बनाया गया है।

विदेश से आने वाले यात्रियों की निगरानी
WHO का मंकीपॉक्स को लेकर हेल्थ इमरजेंसी का ऐलान, जानें क्या हैं लक्षण और बचाव के उपाय
Since independence
hindi.sinceindependence.com