बार्डर के पास पकड़ गए 8 लोग क्या आंतकी रिजवान को रिसीव करने आए थे ?

जांच एजेंसियों ने घुसपैठिए रिजवान का साथ देने के आरोप में 8 लोगों को हिरासत में लिया है । जांच एजेंसियों को शक है कि यह ग्रुप रिजवान को रिसीव करने आया था ।
बार्डर के पास पकड़ गए 8 लोग क्या आंतकी रिजवान को रिसीव करने आए थे ?

बीजेपी से निलंबित नुपुर शर्मा की हत्या के इरादे से भारत पहुंचे पाकिस्तान के आतंकी रिजवान अशरफ के मामले में एक और बड़ा खुलासा हुआ है । जांच एजेंसियों ने घुसपैठिए रिजवान का साथ देने के आरोप में 8 लोगों को हिरासत में लिया है। रिजवान की गिरफ्तारी के दिन सभी 8 लोग सीमा के काफी करीब पहुंच गए थे । जांच एजेंसियों को शक है कि यह ग्रुप रिजवान को रिसीव करने आया था।

कनेक्शन तलाशने में जुटी जांच एजेंसियां

जिस दिन रिजवान ने भारत में प्रवेश किया उस समय 8 लोगों का समूह सीमा सुरक्षा बल की चौकी से महज डेढ़ से दो किलोमीटर दूर था, और भेड़ों को चरा रहा था। अब जांच एजेंसियां ​​इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रही हैं कि क्या ये लोग रिजवान को लेने तो नहीं आए थे या कोई और बड़ी साजिश को अंजाम देना चाहते थे। इतना ही नहीं, जांच एजेंसियां ​​यह भी पता लगा रही हैं कि रिजवान की मदद के लिए भारत में कोई और शख्स तो नहीं है ।

रिजवान ने हिंदुमलकोट से भारत में किया था प्रवेश

16-17 जुलाई की रात रिजवान गंगानगर जिले के हिंदूमलकोट थाना क्षेत्र में सीमा पार कर भारतीय सीमा में प्रवेश किया । सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों ने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था । गंगानगर जिले के पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा के मुताबिक युवक ने बताया कि वह नूपुर शर्मा की हत्या के इरादे से भारत आया था । पुलिस के मुताबिक, रिजवान पाकिस्तान में एक धार्मिक सभा में शामिल हुआ था और वहां से प्रेरित होकर उसने शर्मा को मारने की योजना बनाई।

महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा तोड़ी आतंकी रिजवान ने

श्री गंगानगर के एसपी आनंद शर्मा ने खुलासा किया था कि आतंकी रिजवान ने ही पाकिस्तान के लाहौर किले में रखी महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा तोड़ी थी, उस वक्त रिजवान को पाकिस्तान पुलिस ने हिरासत में लिया था । यह घटना 17 अगस्त 2021 की है। एसपी आनंद शर्मा ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया है कि आतंकी रिजवान ने पाकिस्तान में मूर्ति तोड़ी थी। इस वीडियो को देखें।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com