पहले हिंदू देवी के खिलाफ बनाई अभद्र फिल्म, और अब अपने ही देश में डर लगने का नाटक ?

Kaali Controversy: क्यों देश में विवादित फिल्में बनाने वाले डायरेक्टर- प्रोड्यूसर को देश में डर लगता है और अगर ऐसा है तो क्यों वो ऐसी फिल्में या पोस्टर बनातें है जिनसे लोगों की धार्मिक या सामाजिक भावना को ठेस पहुंचती है।
पहले हिंदू देवी के खिलाफ बनाई अभद्र फिल्म, और अब अपने ही देश में डर लगने का नाटक ?

Kaali Controversy: ‘काली’ फिल्म के पोस्टर पर विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। फिल्ममेकर लीना मणीमेकलई ने हाल ही में एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा - अब उन्हें लोगों से डर लगने लगा है। वह खुद को असुरक्षित महसूस कर रहीं है।

बता दें कि हाल ही में काली फिल्म का एक पोस्टर शेयर किया गया जिसमें हिंदू देवी काली मां को सिगरेट पीते हुए दिखाया गया। इस पोस्टर के आने के बाद लोगों ने इसका विरोध किया और फिल्म मेकर लीना मणीमेकलई के खिलाफ कई जगहों पर FIR भी दर्ज करवाईं। इसके बाद ही आज यानी गुरुवार को उनका ऐसा बयान सामने आना की उन्हें देश में डर लग रहा है, यह कई सवालों को जन्म देता है।

आखिर क्यों सताता है सेलिब्रिटीज को अपने ही देश में डर

ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर क्यों इन बड़े-बड़े सेलिब्रिटीज को अपने ही देश में डर लगता है। फिर वो चाहें आमिर खान की पत्नी किरन राव हो या नसुरुद्धीन शाह हो या फिल्ममेकर लीना मणीमेकलई।

एक और तो लीना मणीमेकलई हिंदु देवी पर फिल्म बनाकर उन्हें अभद्र तरीके से पेश कर रहीं है। हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत कर रही है। और जब लोग इस पर आपत्ती जता रहें है तो वह देश में असुरक्षित होने की बात कर रही है। वहीं नुपुर शर्मा के बयान से लोगों की गर्दन कट रहीं है। लेकिन फिर भी उन्हें देश में डर नहीं लग रहा है।

धार्मिक भावनाओं को आहत करने की बात करें तो नुपुर शर्मा के एक बयान ने देश के 40 शहरों में आग लगा दी। जबकि उन्होंने अपने बयान के लिए सभी लोगों से माफी भी मांगी थी। नुपुर शर्मा के माफी मांगने के बावजूद भी देश में हो रहें दंगों में कोई बदलाव नहीं आया। देश के कई बड़े मुस्लिम नेताओं और मौलवियों के बयान ने इस आग में घी डालने का काम किया।

तो क्या नुपुर शर्मा को नहीं हैं लगता डर
देश में कई जगह नुपुर शर्मा के पुतले जलाए गए, उनके पोस्टर को पैरों से रौंदा गया। उनके खिलाफ खुलेआम कई बड़े-बड़े फतवे जारी किए गए। उनकी गर्दन लाने वालों को इनाम देने की बात कही गई। इतना ही नहीं देश की सर्वोच्च न्यायपालिका सुप्रीम कोर्ट ने भी उनके खिलाफ ही टिप्पणी की।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने स्टेटमेंट में कहा की देश में हो रहीं धार्मिक हिंसा की जिम्मेदार वहीं है। इतना ही नहीं उदयपुर में हुए वीभत्स हत्याकांड (कन्हैयालाल हत्याकांड) की वजह भी वहीं है। उन्हें अपनी जुबान पर काबू रखना चाहिए था।

इतना सब होने के बावजूद भी नुपुर ने अभी तक ऐसा कोई बयान जारी नहीं किया जिसमें उन्होंने कहा हो की उन्हें देश में डर लग रहा है, जबकि देश में जिस तरह से उनके खिलाफ प्रदर्शन हुए उससे तो साफ जाहिर है कि उनके साथ भी कोई अनहोनी हो सकती थी। जब एक वर्ग नुपुर शर्मा के बयान को समर्थन करने वाले कन्हैयालाल को इतनी बेरहमी से मार सकता है तो वह नुपुर शर्मा के साथ भी बदसलुकी कर सकता है। लेकिन फिर भी नुपुर ने इस तरह का कोई बयान नहीं दिया जिसमें उन्होंने कहा हो की उन्हें देश में डर लग रहा है।

वहीं दूसरी और सिर्फ FIR होने पर फिल्म मेकर लीना मणीमेकलई कह रहीं है कि उन्हें अब अपने ही देश में अपने ही लोगों से डर लग रहा है। वह असुरक्षित महसूस कर रही है। क्यों देश में विवादित फिल्में बनाने वाले डायरेक्टर- प्रोड्यूसर को देश में डर लगता है और अगर ऐसा है तो क्यों वो ऐसी फिल्में या पोस्टर बनातें है जिनसे लोगों की धार्मिक या सामाजिक भावना को ठेस पहुंचती है।

पहले हिंदू देवी के खिलाफ बनाई अभद्र फिल्म, और अब अपने ही देश में डर लगने का नाटक ?
नूपुर शर्मा का गला काटने की धमकी देने वाले सलमान चिश्ती को बचा रही है राजस्थान सरकार?

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com