कांग्रेस सरकार बनी हिटलर, सरकार ने उतरवाया आंजनेय ध्वज तो सड़क पर उतरे ग्रामीण, BJP-JDS कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया; ‘बंद’ को कुचलने के लिए की तानाशाही

News: BJP और JDS कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उन्हें हिरासत में भी लिया है। वहीं, स्थानीय महिलाओं पर भी पुलिस बल ने कार्रवाई की है और उन्हें झंडे के नीचे से बलपूर्वक हटा दिया है।
कांग्रेस सरकार बनी हिटलर, सरकार ने उतरवाया आंजनेय ध्वज तो सड़क पर उतरे ग्रामीण, BJP-JDS कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया
कांग्रेस सरकार बनी हिटलर, सरकार ने उतरवाया आंजनेय ध्वज तो सड़क पर उतरे ग्रामीण, BJP-JDS कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया

News: कर्नाटक में 108 फुट उंचे खंबे से हनुमान जी का झंडा उतारने के विरोध में ग्रामीणों ने हंगामा कर दिया है। उनका साथ BJP और JDS कार्यकर्ता भी दे रहे हैं, जिसके बाद प्रशासन ने उनके खिलाफ कार्रवाई की है।

BJP-JDS कार्यकर्ताओं को पुलिस-प्रशासन ने हिरासत में भी लिया है। ये मामला कर्नाटक के मंड्या जिले का है। जहां केरागोडू गांव में हनुमान जी की ध्वजा 108 फुट ऊंचे खंबे पर लहराया गया था।

हनुमान जी की इस ध्वजा को लहराने की अनुमति मंड्या जिले के केरागोडू ग्राम पंचायत बोर्ड ने ही दी थी। इसके बावजूद जिला प्रशासन के अधिकारियों ने झंडे को नीचे उतारा। प्रशासन के इस काम का स्थानीय लोगों ने तीखा विरोध किया है, जिनका साथ BJP और JDS के कार्यकर्ता भी दे रहे हैं। इस बीच, BJP और JDS कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उन्हें हिरासत में भी लिया है।

वहीं, स्थानीय महिलाओं पर भी पुलिस बल ने कार्रवाई की है और उन्हें झंडे के नीचे से बलपूर्वक हटा दिया है। इस दौरान स्थानीय लोगों द्वारा बुलाए गए बंद को प्रशासन से निर्दयता से कुचला है।

हनुमान जी को यहां कहा जाता आंजनेय

जानकारी के अनुसार, मंड्या जिले के केरागोडू गांव में ग्रामीणों ने आपस में चंदा इकट्ठा करके एक 108 फीट लंबा पोल स्थापित किया था।

इस पर भगवा ध्वज लगा था और आंजनेय (हनुमान जी को यहां आंजनेय कहा जाता है) की छवि थी। इसे गांव के रंगमंदिर के पास लगाया गया था। बताया जा रहा है कि इसके लिए ग्राम पंचायत की भी अनुमति ले ली गई थी।

हालांकि गांव के कुछ लोगों को यह पसंद नहीं आया और उन्होंने इसके विरुद्ध शिकायत कर दी। इस शिकायत के आधार पर मंड्या के प्रशासन ने 27 जनवरी, 2024 को यहां पहुंच कर पोल से ध्वज हटा दिया था।

यहां ध्वज हटाने के लिए प्रशासन भारी संख्या में पुलिस बल लाया था। इस दौरान गांव के लोग प्रदर्शन करते रहे और प्रशासन से अपील करते रहे कि यह ध्वज उन्होंने आपसी सहमति से लगाया है, इसके बाद भी प्रशासन नहीं माना। अजब ग्रामीणों ने अधिक प्रदर्शन किया तो उनको यहाँ से हटाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज तक कर दिया।

कांग्रेस विधायक के फाड़े पोस्टर

एक Report में यह भी बताया गया है कि ध्वज हटाने के लिए रात का समय चुना गया। ध्वज शनिवार रात को हटाया गया।

यहां हिन्दू रात से ही इकट्ठा होने लगे थे और सुबह यहां माहौल और तनावपूर्ण हो गया। प्रशासन के इस निर्णय से गुस्साए ग्रामीणों ने केरागोडू को बंद रखने का निर्णय लिया।

ग्रामीणों ने विरोध में स्थानीय कांग्रेस विधायक रविंद्रकुमार के पोस्टर भी फाड़ दिए। कुछ लोगों ने उनके इस पूरे मामले के पीछे होने का आरोप लगाया।

मौके पर मौजूद बजरंग दल, BJP और JDS कार्यकर्ता भगवा ध्वज को दोबारा लगाए जाने की मांग कर रहे हैं।

कांग्रेस सरकार बनी हिटलर, सरकार ने उतरवाया आंजनेय ध्वज तो सड़क पर उतरे ग्रामीण, BJP-JDS कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया
Ram Mandir: राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा से पहले पूजा अनुष्ठानों की झलकियां आई सामने, देखें Photo

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com