मणिपुर में भूस्खलन से 24 की मौत, 38 लापता

मलबे में फंसे लोगों की तलाश के लिए वॉल राडार का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा खोजी कुत्तों के दस्ते को भी तैनात किया गया है। अब तक 13 प्रादेशिक सेना के जवानों और 5 नागरिकों को निकाला गया है। अब तक 18 प्रादेशिक सेना के जवानों और 6 नागरिकों के शव बरामद किए जा चुके हैं
मणिपुर में भूस्खलन से 24 की मौत, 38 लापता

मणिपुर के नोनी जिले में एक रेलवे निर्माण स्थल पर भूस्खलन में मरने वालों की संख्या शनिवार को बढ़कर 24 हो गई। इनमें प्रादेशिक सेना के 18 जवान शामिल हैं। न्यूज एजेंसी पीटीआई ने गुवाहाटी में सेना के एक प्रवक्ता के हवाले से बताया कि 38 लोग अब भी लापता हैं। राहत और बचाव कार्यों में तेजी लाने के लिए कई और टीमों को तैनात किया गया है। सेना, असम राइफल्स, प्रादेशिक सेना, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवान लगातार मलबे में लोगों की जान लेने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच, मणिपुर में घटनास्थल के पास एक और भूस्खलन हुआ।

13 प्रादेशिक सेना के जवानों और 5 नागरिकों को निकाला
सेना के एक प्रवक्ता ने पीटीआई के हवाले से बताया कि मलबे में फंसे लोगों की तलाश के लिए वॉल राडार का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा खोजी कुत्तों के दस्ते को भी तैनात किया गया है। अब तक 13 प्रादेशिक सेना के जवानों और 5 नागरिकों को निकाला गया है। अब तक 18 प्रादेशिक सेना के जवानों और 6 नागरिकों के शव बरामद किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि प्रादेशिक सेना के 12 जवान और 26 नागरिक अभी भी लापता हैं, जिनकी तलाश जोर-शोर से की जा रही है।

14 जवानों के शवों को घर भेजा गया

प्रवक्ता ने बताया कि इस हादसे में जान गंवाने वाले सेना के जवानों में एक जूनियर कमीशंड ऑफिसर (जेसीओ) भी है। जेसीओ समेत 14 जवानों के शवों को वायुसेना के दो विमानों और सेना के एक हेलीकॉप्टर से उनके घर भेज दिया गया है। एक जवान के पार्थिव शरीर को सड़क मार्ग से मणिपुर के कांगपोकपी जिले भेजा जाएगा। उन्होंने बताया कि शव भेजने से पहले उन्हें इंफाल में पूरे सम्मान के साथ सैन्य विदाई दी गई।

मुख्यमंत्री ने बचाव कार्यों की ली जानकारी

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने भी शुक्रवार को घटनास्थल का दौरा किया और बचाव कार्यों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने इसे मणिपुर के इतिहास का सबसे भयानक हादसा बताया। आपको बता दें कि बुधवार-गुरुवार की रात मणिपुर के नोनी जिले में तुपुल रेलवे स्टेशन के पास भारतीय सेना के 107 टेरिटोरियल आर्मी कैंप के पास यह भूस्खलन हुआ। यहां जिरीबाम से इंफाल के बीच रेलवे लाइन का निर्माण किया जा रहा है। ये सैनिक उसकी सुरक्षा के लिए तैनात थे।

मणिपुर में भूस्खलन से 24 की मौत, 38 लापता
भूकंप के झटके से हिला ईरान, 5 की मौत, 19 से घायल

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com