फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंची नूपुर शर्मा, गिरफ्तारी पर रोक की मांग

पिछली बार जब नूपुर शर्मा सुप्रीम कोर्ट आई थीं तो जस्टिस परदीवाला ने तीखी टिप्पणी की थी कि देश में बिगड़ते माहौल के लिए नूपुर शर्मा जिम्मेदार हैं। इस बात पर भी जोर दिया गया कि नूपुर ने सामने से एक बार भी माफी नहीं मांगी
फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंची नूपुर शर्मा, गिरफ्तारी पर रोक की मांग

पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ अपने विवादित बयानों को लेकर उठे बवाल को लेकर नूपुर शर्मा फिर से सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई हैं। नूपुर ने अपने खिलाफ दर्ज 9 एफआईआर में गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग की है।

जान से मारने और रेप की धमकी
याचिका में नूपुर शर्मा ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में बेंच की अप्रत्याशित और कड़ी आलोचना के बाद उनकी जान को खतरा और भी बढ़ गया है, उन्हें जान से मारने और यहां तक कि रेप की धमकी दी जा रही है। चूंकि उनके खिलाफ पहली एफआईआर दिल्ली में दर्ज की गई थी, इसलिए अन्य जगहों पर दर्ज एफआईआर को दिल्ली मामले से जोड़ा जाना चाहिए। चूंकि हर एफआईआर में आरोप एक जैसे होते हैं, इसलिए सभी क्लब की गई एफआईआर की सुनवाई एक ही कोर्ट में होनी चाहिए।

टिप्पणियों पर देश में कई प्रतिक्रियाएं

पिछली बार इसी तरह की एक याचिका की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट द्वारा की गई टिप्पणियों पर देश में कई प्रतिक्रियाएं आई थीं। उच्च न्यायालय के कुछ पूर्व न्यायाधीशों ने भी इस तरह की टिप्पणियों की खुले तौर पर आलोचना की थी। तब सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा को राहत नहीं देते हुए दूसरे विकल्प आजमाने को कहा। विधि विशेषज्ञों के अनुसार जिस कानूनी और न्यायिक प्रक्रिया के तहत आवेदन में राहत मांगी गई थी, वह केवल और केवल सर्वोच्च न्यायालय का अनन्य न्यायिक क्षेत्राधिकार था।

पिछली बार नूपुर शर्मा तीखी टिप्पणी
जानकारी के लिए बता दें कि पिछली बार जब नूपुर शर्मा सुप्रीम कोर्ट आई थीं तो जस्टिस परदीवाला ने तीखी टिप्पणी की थी कि देश में बिगड़ते माहौल के लिए नूपुर शर्मा जिम्मेदार हैं। इस बात पर भी जोर दिया गया कि नूपुर ने सामने से एक बार भी माफी नहीं मांगी। उस सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस को भी कटघरे में खड़ा करते हुए साफ कह दिया कि एफआईआर दर्ज होने के बाद भी उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया। तब अदालत ने यह भी कहा था कि इस तरह के बयान उस व्यक्ति की ओर से नहीं आ सकते जो जिम्मेदारी का पद धारण करता है।

फिर से सुप्रीम कोर्ट पहुंची नूपुर शर्मा

लेकिन उस कड़े बयान के बाद नूपुर फिर से सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई हैं। वे अपनी जान को खतरा बता रही हैं। अब कोर्ट से राहत मिलती है या नहीं ये आने वाले दिनों में साफ हो जाएगा।

फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंची नूपुर शर्मा, गिरफ्तारी पर रोक की मांग
कोविड-19: सुप्रीम कोर्ट के राज्यों को निर्देश मृतकों के परिजनों को तुरंत दें मुआवजा

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com