सैनिकों की रक्षा करेगा ये बख्तरबंद वाहन, बम, बारूद का भी नहीं पड़ेगा फर्क

टाटा ने भारतीय आर्मी को दिया नया बख्तरबंद वाहन, इस वाहन पर बम बारूद का भी असर नहीं होगा। इसकी रफ्तार भी अन्य बख्तरबंद वाहन से तेज होगी।
ये हैं नये बख्तरबंद वाहन
ये हैं नये बख्तरबंद वाहन

भारतीय सेना की सुरक्षा और भी बूस्टेड एवं पुख्ता हो गई है। टाटा ने अत्याधुनिक स्वदेशी बख्तरबंद वाहन बनाए हैं जो कि भारतीय सेना को दिए गए हैं।

इसका नाम है क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल मीडियम (Quick Reaction Fighting Vehicle Medium - QRFV)। इसे शॉर्ट फॉर्म में QFRV कहा जा रहा है। ये गाड़ी कई मायनों में खास है।

अन्य बख्तरबंद गाडियों के मुकाबले ये तेज चलती है और इसपर AR(Assault Riflles), बमों और बारूदी सुरंगो का भी असर नहीं होता।

टाटा ने बनाया है QRFV

ये है नया QFRV बख्तरबंद वाहन
ये है नया QFRV बख्तरबंद वाहन

बता दें कि इस बख्तरबंद वाहन को टाटा एडवांस सिस्टम लिमिटेड(TASL) ने बनाया है। ये वाला बख्तरबंद वाहन मोनोकोक हल मल्टी रोल माइन प्रोटेक्टेड आर्मर्ड व्हीकल है।

इसका मतलब है ये है कि अगर इसके नीचे बारूदी सुरंग भी फट जाए तो इसे कुछ नही होगा।

दक्षिणी सूडान भेजे गए दो वाहन

ये है नया QFRV बख्तरबंद वाहन
ये है नया QFRV बख्तरबंद वाहन

कुछ दिन पहले भी दक्षिणी सूडान के एबी में चल रहे संयुक्त राष्ट्र मिशन में पहली बार भारतीय सैनिक स्वदेशी बख्तरबंद युद्धक वाहन का उपयोग किया था।

भारत से ऐसे दो वाहन सूडान भेजे गए थे। बता दें कि दक्षिणी सूडान में भेजे गए बख्तरबंद युद्धक वाहन भी QRFV M4 आर्मर्ड पर्सनल करियर और TATA Xenon लाइट व्हीकल्स था।

TASL की इन गाड़ियों को भारतीय सेना में शामिल करने से ताकत और बढ़ गई है।

ये हर तरह के संघर्ष वाले इलाकों में बेहतरीन प्रदर्शन के लिहाज से बनाए गए हैं। इनके अंदर सैनिक सुरक्षित रहेंगे।

ये हैं नये बख्तरबंद वाहन
MONSOON SESSION: संसद में विपक्ष का हंगामा, 19 राज्यसभा सांसद निलंबित

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com